Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Nov 2023 · 1 min read

* थके नयन हैं *

** गीतिका **
~
राह देखते थके नयन हैं, आ जाना करना नहीं देर।
देखो सुन्दर नीले नभ को, श्याम घटाएं रही हैं घेर।

सावन का मौसम आने में, अब तो थोड़ा समय है शेष।
किन्तु हृदय व्याकुल इतना है, कैसा है ये समय का फेर।

भिन्न भिन्न मौसम का अपना, भिन्न भिन्न होता अंदाज।
पतझड़ में सूखे पत्तों के, हर जगह पर लग जाते ढेर।

सबके हित की चिंता होती, सबको मिला करता है न्याय।
आदर्श व्यवस्था में बिल्कुल, होता कोई नहीं अंधेर।

चुपके कष्ट सहन कर लेते, आगे आते सदा निस्वार्थ।
केवल मन के सच्चे होते ,होते न हमेशा धन कुबेर।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य, २७/११/२०२३

1 Like · 1 Comment · 245 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
!! युवा !!
!! युवा !!
Akash Yadav
ऐसी प्रीत कहीं ना पाई
ऐसी प्रीत कहीं ना पाई
Harminder Kaur
शिव शंभू भोला भंडारी !
शिव शंभू भोला भंडारी !
Bodhisatva kastooriya
*जीवन सिखाता है लेकिन चुनौतियां पहले*
*जीवन सिखाता है लेकिन चुनौतियां पहले*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सितारों की तरह चमकना है, तो सितारों की तरह जलना होगा।
सितारों की तरह चमकना है, तो सितारों की तरह जलना होगा।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
ये तलाश सत्य की।
ये तलाश सत्य की।
Manisha Manjari
*शादी की जो आयु थी, अब पढ़ने की आयु (कुंडलिया)*
*शादी की जो आयु थी, अब पढ़ने की आयु (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
अपना कोई वजूद हो, तो बताना मेरे दोस्त।
अपना कोई वजूद हो, तो बताना मेरे दोस्त।
Sanjay ' शून्य'
नारी का बदला स्वरूप
नारी का बदला स्वरूप
विजय कुमार अग्रवाल
"" *आओ गीता पढ़ें* ""
सुनीलानंद महंत
नहीं-नहीं प्रिये!
नहीं-नहीं प्रिये!
Pratibha Pandey
कई मौसम गुज़र गये तेरे इंतज़ार में।
कई मौसम गुज़र गये तेरे इंतज़ार में।
Phool gufran
इसका क्या सबूत है, तू साथ सदा मेरा देगी
इसका क्या सबूत है, तू साथ सदा मेरा देगी
gurudeenverma198
చివరికి మిగిలింది శూన్యమే
చివరికి మిగిలింది శూన్యమే
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
!! ये सच है कि !!
!! ये सच है कि !!
Chunnu Lal Gupta
गुलमोहर
गुलमोहर
डॉ.स्नेहलता
मैं तो महज पहचान हूँ
मैं तो महज पहचान हूँ
VINOD CHAUHAN
तुम किसी झील का मीठा पानी..(✍️kailash singh)
तुम किसी झील का मीठा पानी..(✍️kailash singh)
Kailash singh
धमकियां शुरू हो गई
धमकियां शुरू हो गई
Basant Bhagawan Roy
कद्र जिनकी अब नहीं वो भी हीरा थे कभी
कद्र जिनकी अब नहीं वो भी हीरा थे कभी
Mahesh Tiwari 'Ayan'
आज की जरूरत~
आज की जरूरत~
दिनेश एल० "जैहिंद"
3122.*पूर्णिका*
3122.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"दुनिया"
Dr. Kishan tandon kranti
#आज_ऐतिहासिक_दिन
#आज_ऐतिहासिक_दिन
*प्रणय प्रभात*
पागल।। गीत
पागल।। गीत
Shiva Awasthi
लोगों के साथ सामंजस्य स्थापित करना भी एक विशेष कला है,जो आपक
लोगों के साथ सामंजस्य स्थापित करना भी एक विशेष कला है,जो आपक
Paras Nath Jha
कभी जिस पर मेरी सारी पतंगें ही लटकती थी
कभी जिस पर मेरी सारी पतंगें ही लटकती थी
Johnny Ahmed 'क़ैस'
'प्रहरी' बढ़ता  दंभ  है, जितना  बढ़ता  नोट
'प्रहरी' बढ़ता दंभ है, जितना बढ़ता नोट
Anil Mishra Prahari
कोई मिले जो  गले लगा ले
कोई मिले जो गले लगा ले
गुमनाम 'बाबा'
मैं गीत हूं ग़ज़ल हो तुम न कोई भूल पाएगा।
मैं गीत हूं ग़ज़ल हो तुम न कोई भूल पाएगा।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...