Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jul 2023 · 1 min read

तौलकर बोलना औरों को

तौलकर बोलना औरों को
मधुर लगता है
तो आग उगलने से फायदा क्या है ?
@ लक्ष्मण

1 Like · 2 Comments · 428 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
विभीषण का दुःख
विभीषण का दुःख
Dr MusafiR BaithA
प्रेम
प्रेम
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
कल मेरा दोस्त
कल मेरा दोस्त
SHAMA PARVEEN
तेरा साथ है तो मुझे क्या कमी है
तेरा साथ है तो मुझे क्या कमी है
DR ARUN KUMAR SHASTRI
रमेशराज के विरोधरस के गीत
रमेशराज के विरोधरस के गीत
कवि रमेशराज
अब तक मुकम्मल नहीं हो सका आसमां,
अब तक मुकम्मल नहीं हो सका आसमां,
Anil Mishra Prahari
'Here's the tale of Aadhik maas..' (A gold winning poem)
'Here's the tale of Aadhik maas..' (A gold winning poem)
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
हमने अपना भरम
हमने अपना भरम
Dr fauzia Naseem shad
कृष्ण प्रेम की परिभाषा हैं, प्रेम जगत का सार कृष्ण हैं।
कृष्ण प्रेम की परिभाषा हैं, प्रेम जगत का सार कृष्ण हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
जन्म दायनी माँ
जन्म दायनी माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
इक उम्र जो मैंने बड़ी सादगी भरी गुजारी है,
इक उम्र जो मैंने बड़ी सादगी भरी गुजारी है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
देखिए लोग धोखा गलत इंसान से खाते हैं
देखिए लोग धोखा गलत इंसान से खाते हैं
शेखर सिंह
दीप जलते रहें - दीपक नीलपदम्
दीप जलते रहें - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
■ चिंतन का निष्कर्ष
■ चिंतन का निष्कर्ष
*प्रणय प्रभात*
* रामचरितमानस का पाठ*
* रामचरितमानस का पाठ*
Ravi Prakash
सबसे कठिन है
सबसे कठिन है
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
"बगैर तुलना के"
Dr. Kishan tandon kranti
संवेदनाओं का भव्य संसार
संवेदनाओं का भव्य संसार
Ritu Asooja
मेरे पिताजी
मेरे पिताजी
Santosh kumar Miri
ॐ शिव शंकर भोले नाथ र
ॐ शिव शंकर भोले नाथ र
Swami Ganganiya
राम तुम्हारे नहीं हैं
राम तुम्हारे नहीं हैं
Harinarayan Tanha
ଭୋକର ଭୂଗୋଳ
ଭୋକର ଭୂଗୋଳ
Bidyadhar Mantry
बिल्ली
बिल्ली
Manu Vashistha
उम्र भर प्रीति में मैं उलझता गया,
उम्र भर प्रीति में मैं उलझता गया,
Arvind trivedi
श्री कृष्ण भजन 【आने से उसके आए बहार】
श्री कृष्ण भजन 【आने से उसके आए बहार】
Khaimsingh Saini
नहीं चाहता मैं यह
नहीं चाहता मैं यह
gurudeenverma198
देखने का नजरिया
देखने का नजरिया
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
मिलना था तुमसे,
मिलना था तुमसे,
shambhavi Mishra
*और ऊपर उठती गयी.......मेरी माँ*
*और ऊपर उठती गयी.......मेरी माँ*
Poonam Matia
Loading...