Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Aug 2016 · 1 min read

तोहरी नगरिया

भोजपरी ————–
बड़ी नीक लागे बालम तोहरी नगरिया /
सुबह-शाम कोयल भी कूके , बोले सोन चिरैया /
मधुरिम चँवर पवन की बगिया साजन मन हरसाती/
माई बहिनी तोहरी सुंदर , भूलि गये हम पाती/
बड़ी नीक लागे बालम तोहरी नगरिया/
रामू श्यामू की तोतल बोली , पियवा मनवा मोहे बा/
चाची – चाची धूम मचावे , सुंदर बड़ी जेठानी बा /
साथ- साथ में लगि के हमरे , सुंदर ज्ञान सिखाती हैं/
बड़ी निक जेठानी जी दिलवा बहलाती है /
बड़े नीक लागे साजन तोहरी बखरिया /
================================
सर्वाधिकार सुरक्षित
राजकिशोर मिश्र ‘राज’ प्रतापगढ़ी

Language: Hindi
293 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Darak me paida hoti meri kalpanaye,
Darak me paida hoti meri kalpanaye,
Sakshi Tripathi
"साजन लगा ना गुलाल"
लक्ष्मीकान्त शर्मा 'रुद्र'
मैं ज़िंदगी के सफर मे बंजारा हो गया हूँ
मैं ज़िंदगी के सफर मे बंजारा हो गया हूँ
Bhupendra Rawat
मां तुम बहुत याद आती हो
मां तुम बहुत याद आती हो
Mukesh Kumar Sonkar
💐प्रेम कौतुक-412💐
💐प्रेम कौतुक-412💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तू प्रतीक है समृद्धि की
तू प्रतीक है समृद्धि की
gurudeenverma198
बेरोजगारी मंहगायी की बातें सब दिन मैं ही  दुहराता हूँ,  फिरभ
बेरोजगारी मंहगायी की बातें सब दिन मैं ही दुहराता हूँ, फिरभ
DrLakshman Jha Parimal
असली खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है।
असली खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है।
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
चौथ का चांद
चौथ का चांद
Dr. Seema Varma
गहरी हो बुनियादी जिसकी
गहरी हो बुनियादी जिसकी
कवि दीपक बवेजा
तेरी ख़ामोशी
तेरी ख़ामोशी
Anju ( Ojhal )
2933.*पूर्णिका*
2933.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मत पूछो मेरा कारोबार क्या है,
मत पूछो मेरा कारोबार क्या है,
Vishal babu (vishu)
अहिल्या
अहिल्या
अनूप अम्बर
डा. तेज सिंह : हिंदी दलित साहित्यालोचना के एक प्रमुख स्तंभ का स्मरण / MUSAFIR BAITHA
डा. तेज सिंह : हिंदी दलित साहित्यालोचना के एक प्रमुख स्तंभ का स्मरण / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
अधरों पर शतदल खिले, रुख़ पर खिले गुलाब।
अधरों पर शतदल खिले, रुख़ पर खिले गुलाब।
डॉ.सीमा अग्रवाल
अनपढ़ व्यक्ति से ज़्यादा पढ़ा लिखा व्यक्ति जातिवाद करता है आ
अनपढ़ व्यक्ति से ज़्यादा पढ़ा लिखा व्यक्ति जातिवाद करता है आ
Anand Kumar
जगमगाती चाँदनी है इस शहर में
जगमगाती चाँदनी है इस शहर में
Dr Archana Gupta
"हमारे दर्द का मरहम अगर बनकर खड़ा होगा
आर.एस. 'प्रीतम'
खुदकुशी से पहले
खुदकुशी से पहले
Shekhar Chandra Mitra
........,
........,
शेखर सिंह
बैरिस्टर ई. राघवेन्द्र राव
बैरिस्टर ई. राघवेन्द्र राव
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जुबां पर मत अंगार रख बरसाने के लिए
जुबां पर मत अंगार रख बरसाने के लिए
Anil Mishra Prahari
World Books Day
World Books Day
Tushar Jagawat
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
■ जारी रही दो जून की रोटी की जंग
■ जारी रही दो जून की रोटी की जंग
*Author प्रणय प्रभात*
मैं चांद को पाने का सपना सजाता हूं।
मैं चांद को पाने का सपना सजाता हूं।
Dr. ADITYA BHARTI
*
*"जन्मदिन की शुभकामनायें"*
Shashi kala vyas
Prastya...💐
Prastya...💐
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
सुहासिनी की शादी
सुहासिनी की शादी
विजय कुमार अग्रवाल
Loading...