Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jun 2016 · 1 min read

तोहफे गम औ ख़ुशी के लिए जा रहे

तोहफे गम औ ख़ुशी के लिए जा रहे
ज़िन्दगी यूँ बसर बस किये जा रहे

ये कहीं दिल में नासूर नहीं जाएँ बन
सोचकर जख्म अपने सिये जा रहे

आज तो इतनी धन की बढ़ी प्यास है
अश्क भी लोग अपने पिये जा रहे

लौट आएंगे वो ,रोज इस आस में
राह में हम जलाते दिये जा रहे

मोड़ हर उम्र का खूबसूरत यहाँ
सोचना मत कभी क्यों जिये जा रहे

अर्चना हो मुकम्मल ग़ज़ल हम तभी
भाव में जोड़ते काफिये जा रहे

डॉ अर्चना गुप्ता

1 Like · 1 Comment · 480 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
नवम्बर की सर्दी
नवम्बर की सर्दी
Dr fauzia Naseem shad
दुनिया की आख़िरी उम्मीद हैं बुद्ध
दुनिया की आख़िरी उम्मीद हैं बुद्ध
Shekhar Chandra Mitra
कर ले कुछ बात
कर ले कुछ बात
जगदीश लववंशी
उपेक्षित फूल
उपेक्षित फूल
SATPAL CHAUHAN
खुद से प्यार
खुद से प्यार
लक्ष्मी सिंह
मेरे दिल की गहराई में,
मेरे दिल की गहराई में,
Dr. Man Mohan Krishna
कविता के मीत प्रवासी- से
कविता के मीत प्रवासी- से
प्रो०लक्ष्मीकांत शर्मा
23/105.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/105.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
बोझ
बोझ
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मुक्तक-
मुक्तक-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
गीत गाऊ
गीत गाऊ
Kushal Patel
जीवन बरगद कीजिए
जीवन बरगद कीजिए
Mahendra Narayan
दोस्त को रोज रोज
दोस्त को रोज रोज "तुम" कहकर पुकारना
ruby kumari
*नव-संसद की बढ़ा रहा है, शोभा शुभ सेंगोल (गीत)*
*नव-संसद की बढ़ा रहा है, शोभा शुभ सेंगोल (गीत)*
Ravi Prakash
जीवन का सफर
जीवन का सफर
Sidhartha Mishra
नृत्य किसी भी गीत और संस्कृति के बोल पर आधारित भावना से ओतप्
नृत्य किसी भी गीत और संस्कृति के बोल पर आधारित भावना से ओतप्
Rj Anand Prajapati
"जीवन का प्रमेय"
Dr. Kishan tandon kranti
सुना हूं किसी के दबाव ने तेरे स्वभाव को बदल दिया
सुना हूं किसी के दबाव ने तेरे स्वभाव को बदल दिया
Keshav kishor Kumar
बसंत पंचमी
बसंत पंचमी
Mukesh Kumar Sonkar
#त्वरित_टिप्पणी
#त्वरित_टिप्पणी
*Author प्रणय प्रभात*
वक्त
वक्त
Namrata Sona
14, मायका
14, मायका
Dr Shweta sood
एक पल में जिंदगी तू क्या से क्या बना दिया।
एक पल में जिंदगी तू क्या से क्या बना दिया।
Phool gufran
किस लिए पास चले आए अदा किसकी थी
किस लिए पास चले आए अदा किसकी थी
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
Wakt ke girewan ko khich kar
Wakt ke girewan ko khich kar
Sakshi Tripathi
* ऋतुराज *
* ऋतुराज *
surenderpal vaidya
मुक्तक
मुक्तक
Er.Navaneet R Shandily
आँखों में उसके बहते हुए धारे हैं,
आँखों में उसके बहते हुए धारे हैं,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
"स्वप्न".........
Kailash singh
Loading...