Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Sep 2022 · 1 min read

*तोता सीखा कहना राम (बाल कविता/ गीतिका)*

तोता सीखा कहना राम (बाल कविता/ गीतिका)
_________________________
(1)
तोता सीखा कहना राम
कहा सुबह को बोला शाम
(2)
तोता सीख गया दो दिन में
घर के सब बच्चों के नाम
(3)
सुबह सबेरे तोता उठता
किया दुपहरी में आराम
(4)
हरी मिर्च तोते को भाती
हर दिन खाना उसका काम
(5)
जोड़े हमने हाथ जब कभी
तोते ने भी कहा प्रणाम
(6)
पिंजरे में तोता है कैदी
गगन-पेड़ तोते का धाम
(7)
सुंदर हरा रंग तोते का
प्यारी होती चोंच ललाम
—————————————-
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

117 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
खुदीराम बोस की शहादत का अपमान
खुदीराम बोस की शहादत का अपमान
कवि रमेशराज
लुटा दी सब दौलत, पर मुस्कान बाकी है,
लुटा दी सब दौलत, पर मुस्कान बाकी है,
Rajesh Kumar Arjun
यदि आप किसी काम को वक्त देंगे तो वह काम एक दिन आपका वक्त नही
यदि आप किसी काम को वक्त देंगे तो वह काम एक दिन आपका वक्त नही
Rj Anand Prajapati
सुनो सखी !
सुनो सखी !
Manju sagar
*अज्ञानी की कलम शूल_पर_गीत
*अज्ञानी की कलम शूल_पर_गीत
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
मेरे विचार
मेरे विचार
Anju
सम्मान करे नारी
सम्मान करे नारी
Dr fauzia Naseem shad
मौहब्बत में किसी के गुलाब का इंतजार मत करना।
मौहब्बत में किसी के गुलाब का इंतजार मत करना।
Phool gufran
पुष्प
पुष्प
Dinesh Kumar Gangwar
बुद्धिमान बनो
बुद्धिमान बनो
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
*जो होता पेड़ रूपयों का (सात शेर)*
*जो होता पेड़ रूपयों का (सात शेर)*
Ravi Prakash
23/46.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/46.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कैसे गाएँ गीत मल्हार
कैसे गाएँ गीत मल्हार
संजय कुमार संजू
"" *जीवन आसान नहीं* ""
सुनीलानंद महंत
मन की कामना
मन की कामना
Basant Bhagawan Roy
*दिल चाहता है*
*दिल चाहता है*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
शादी के बाद भी अगर एक इंसान का अपने परिवार के प्रति अतिरेक ज
शादी के बाद भी अगर एक इंसान का अपने परिवार के प्रति अतिरेक ज
पूर्वार्थ
इमारत बड़ी थी वो
इमारत बड़ी थी वो
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
पगली
पगली
Kanchan Khanna
मुट्ठी में बन्द रेत की तरह
मुट्ठी में बन्द रेत की तरह
Dr. Kishan tandon kranti
#धवल_पक्ष
#धवल_पक्ष
*Author प्रणय प्रभात*
जीव कहे अविनाशी
जीव कहे अविनाशी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
शौक-ए-आदम
शौक-ए-आदम
AJAY AMITABH SUMAN
* नाम रुकने का नहीं *
* नाम रुकने का नहीं *
surenderpal vaidya
SuNo...
SuNo...
Vishal babu (vishu)
कर
कर
Neelam Sharma
*मैंने देखा है * ( 18 of 25 )
*मैंने देखा है * ( 18 of 25 )
Kshma Urmila
जीवन की आपाधापी में, न जाने सब क्यों छूटता जा रहा है।
जीवन की आपाधापी में, न जाने सब क्यों छूटता जा रहा है।
Gunjan Tiwari
शीर्षक - कुदरत के रंग...... एक सच
शीर्षक - कुदरत के रंग...... एक सच
Neeraj Agarwal
राम : लघुकथा
राम : लघुकथा
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
Loading...