Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 May 2023 · 1 min read

तोड देना वादा,पर कोई वादा तो कर

तोड़ देना वादा,पर कोई वादा तो कर।
मेरा महबूब है,तो कोई इशारा तो कर।।

आ तो सही,भले ही आकर चले जाना।
रोकूं नही मै,प्यास बुझाकर चले जाना।।

इंतजार कर रही हूं इंतजार को और ना बढा।
तड़प रही हूं ,इस तड़पन को और तो न बढ़ा।।

मेरे करीब आकर,अब कही दूर तो न जा।
मेरे पास आकर, दूसरी के पास तो न जा।।

इन दूरियों को,अब और तो तू न बढ़ा।
भले प्यार न कर,सूली पर तो न चढ़ा।।

जो वादा किया है,उस पर कुछ ठहर तो जा।
भले पूरा न कर,आकर मेरे पास मुकर तो जा।।

रस्तोगी ने जो लिखा,उसे आगे तो न बढ़ा।
बाते बहुत बढ़ चुकी,उसे और तो न बढ़ा।।

आर के रस्तोगी गुरुग्राम

Language: Hindi
5 Likes · 6 Comments · 491 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ram Krishan Rastogi
View all
You may also like:
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
'बेटी बचाओ-बेटी पढाओ'
'बेटी बचाओ-बेटी पढाओ'
Bodhisatva kastooriya
अपनी मर्ज़ी
अपनी मर्ज़ी
Dr fauzia Naseem shad
माया
माया
Sanjay ' शून्य'
- वह मूल्यवान धन -
- वह मूल्यवान धन -
Raju Gajbhiye
इंसान इंसानियत को निगल गया है
इंसान इंसानियत को निगल गया है
Bhupendra Rawat
यह सब कुछ
यह सब कुछ
gurudeenverma198
हम भारत के लोग उड़ाते
हम भारत के लोग उड़ाते
Satish Srijan
सौंदर्य छटा🙏
सौंदर्य छटा🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
गंगा की जलधार
गंगा की जलधार
surenderpal vaidya
प्रकृति के स्वरूप
प्रकृति के स्वरूप
डॉ० रोहित कौशिक
कैलेंडर नया पुराना
कैलेंडर नया पुराना
Dr MusafiR BaithA
জপ জপ কালী নাম জপ জপ দুর্গা নাম
জপ জপ কালী নাম জপ জপ দুর্গা নাম
Arghyadeep Chakraborty
*जब तक दंश गुलामी के ,कैसे कह दूँ आजादी है 【गीत 】*
*जब तक दंश गुलामी के ,कैसे कह दूँ आजादी है 【गीत 】*
Ravi Prakash
3228.*पूर्णिका*
3228.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सरसी छंद
सरसी छंद
Charu Mitra
◆हरे-भरे रहने के लिए ज़रूरी है जड़ से जुड़े रहना।
◆हरे-भरे रहने के लिए ज़रूरी है जड़ से जुड़े रहना।
*Author प्रणय प्रभात*
कविता : नारी
कविता : नारी
Sushila joshi
मायने रखता है
मायने रखता है
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
कश्ती औऱ जीवन
कश्ती औऱ जीवन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हत्या
हत्या
Kshma Urmila
?????
?????
शेखर सिंह
जिंदगी
जिंदगी
Neeraj Agarwal
हल्की हल्की सी हंसी ,साफ इशारा भी नहीं!
हल्की हल्की सी हंसी ,साफ इशारा भी नहीं!
Vishal babu (vishu)
इंसान को इंसान से दुर करनेवाला केवल दो चीज ही है पहला नाम मे
इंसान को इंसान से दुर करनेवाला केवल दो चीज ही है पहला नाम मे
Dr. Man Mohan Krishna
मातृ रूप
मातृ रूप
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
‘‘शिक्षा में क्रान्ति’’
‘‘शिक्षा में क्रान्ति’’
Mr. Rajesh Lathwal Chirana
कहने को सभी कहते_
कहने को सभी कहते_
Rajesh vyas
"जीवन का प्रमेय"
Dr. Kishan tandon kranti
दगा और बफा़
दगा और बफा़
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
Loading...