Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Sep 2022 · 1 min read

तोड़ दे अब जंजीरें

तू कर वो सारी तदबीरें
जिनसे बदलतीं तक़दीरें!
लोग जिन्हें ज़ेवर समझते
तू तोड़ दे ऐसी ज़ंजीरें!!
दुनिया भर में आए रोज़
छपा करतीं कई किताबें!
जो लिखी गई हों ख़ून से
तू पढ़ वही अब तहरीरें!!
#genderjehad #पितृसत्ता #girls
#IranProtests #Hijab #Equality
#patriarchy #feminist #women

Language: Hindi
1 Like · 4 Comments · 125 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#शर्माजी के शब्द
#शर्माजी के शब्द
pravin sharma
माँ
माँ
Er. Sanjay Shrivastava
जीवन समर्पित करदो.!
जीवन समर्पित करदो.!
Prabhudayal Raniwal
बुध्द गीत
बुध्द गीत
Buddha Prakash
जीवन
जीवन
Santosh Shrivastava
डरो नहीं, लड़ो
डरो नहीं, लड़ो
Shekhar Chandra Mitra
कथ्य-शिल्प में धार रख, शब्द-शब्द में मार।
कथ्य-शिल्प में धार रख, शब्द-शब्द में मार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
रुक्मिणी संदेश
रुक्मिणी संदेश
Rekha Drolia
विषय--विजयी विश्व तिरंगा
विषय--विजयी विश्व तिरंगा
रेखा कापसे
कभी जब नैन  मतवारे  किसी से चार होते हैं
कभी जब नैन मतवारे किसी से चार होते हैं
Dr Archana Gupta
पत्थर की अभिलाषा
पत्थर की अभिलाषा
Shyam Sundar Subramanian
यदि गलती से कोई गलती हो जाए
यदि गलती से कोई गलती हो जाए
Anil Mishra Prahari
तुम बिन जीना सीख लिया
तुम बिन जीना सीख लिया
Arti Bhadauria
मेरा सुकून....
मेरा सुकून....
Srishty Bansal
*सत्य की खोज*
*सत्य की खोज*
Dr Shweta sood
खुशनसीबी
खुशनसीबी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
किताबों में तुम्हारे नाम का मैं ढूँढता हूँ माने
किताबों में तुम्हारे नाम का मैं ढूँढता हूँ माने
आनंद प्रवीण
23/44.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/44.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
नई बहू
नई बहू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जीवन में सबसे बड़ा प्रतिद्वंद्वी मैं स्वयं को मानती हूँ
जीवन में सबसे बड़ा प्रतिद्वंद्वी मैं स्वयं को मानती हूँ
ruby kumari
विश्व सिंधु की अविरल लहरों पर
विश्व सिंधु की अविरल लहरों पर
Neelam Sharma
' समय का महत्व '
' समय का महत्व '
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
साहित्य सत्य और न्याय का मार्ग प्रशस्त करता है।
साहित्य सत्य और न्याय का मार्ग प्रशस्त करता है।
पंकज कुमार कर्ण
प्रथम गुरु
प्रथम गुरु
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
उनसे बिछड़ कर ना जाने फिर कहां मिले
उनसे बिछड़ कर ना जाने फिर कहां मिले
श्याम सिंह बिष्ट
वक्त का इंतजार करो मेरे भाई
वक्त का इंतजार करो मेरे भाई
Yash mehra
कृष्ण चतुर्थी भाद्रपद, है गणेशावतार
कृष्ण चतुर्थी भाद्रपद, है गणेशावतार
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
उसकी बेहिसाब नेमतों का कोई हिसाब नहीं
उसकी बेहिसाब नेमतों का कोई हिसाब नहीं
shabina. Naaz
💐प्रेम कौतुक-382💐
💐प्रेम कौतुक-382💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तुम तो ठहरे परदेशी
तुम तो ठहरे परदेशी
विशाल शुक्ल
Loading...