Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Apr 2023 · 1 min read

तेरे बग़ैर ये ज़िंदगी अब

तेरे बग़ैर ये ज़िंदगी अब अच्छी नहीं लगती;
तेरे बिना ये बंदगी अब अच्छी नहीं लगती,
कब आओगे वापस लौट कर बतादो मुझे;
तेरे बिना लिखी शायरी भी अब अच्छी नहीं लगती…

1 Like · 382 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
'शत्रुता' स्वतः खत्म होने की फितरत रखती है अगर उसे पाला ना ज
'शत्रुता' स्वतः खत्म होने की फितरत रखती है अगर उसे पाला ना ज
satish rathore
विनती
विनती
Kanchan Khanna
अपने आमाल पे
अपने आमाल पे
Dr fauzia Naseem shad
!! फूल चुनने वाले भी‌ !!
!! फूल चुनने वाले भी‌ !!
Chunnu Lal Gupta
ऐ मां वो गुज़रा जमाना याद आता है।
ऐ मां वो गुज़रा जमाना याद आता है।
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
कहीं फूलों की बारिश है कहीं पत्थर बरसते हैं
कहीं फूलों की बारिश है कहीं पत्थर बरसते हैं
Phool gufran
आफ़ताब
आफ़ताब
Atul "Krishn"
अब बहुत हुआ बनवास छोड़कर घर आ जाओ बनवासी।
अब बहुत हुआ बनवास छोड़कर घर आ जाओ बनवासी।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
2540.पूर्णिका
2540.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"तब कोई बात है"
Dr. Kishan tandon kranti
जिन्दगी कभी नाराज होती है,
जिन्दगी कभी नाराज होती है,
Ragini Kumari
"चोट्टे की दाढ़ी में झाड़ू की सींक
*Author प्रणय प्रभात*
*कर्मों का लेखा रखते हैं, चित्रगुप्त महाराज (गीत)*
*कर्मों का लेखा रखते हैं, चित्रगुप्त महाराज (गीत)*
Ravi Prakash
मुझे किसी को रंग लगाने की जरूरत नहीं
मुझे किसी को रंग लगाने की जरूरत नहीं
Ranjeet kumar patre
आवश्यकता पड़ने पर आपका सहयोग और समर्थन लेकर,आपकी ही बुराई कर
आवश्यकता पड़ने पर आपका सहयोग और समर्थन लेकर,आपकी ही बुराई कर
विमला महरिया मौज
मगर अब मैं शब्दों को निगलने लगा हूँ
मगर अब मैं शब्दों को निगलने लगा हूँ
VINOD CHAUHAN
सुख भी बाँटा है
सुख भी बाँटा है
Shweta Soni
समय को समय देकर तो देखो, एक दिन सवालों के जवाब ये लाएगा,
समय को समय देकर तो देखो, एक दिन सवालों के जवाब ये लाएगा,
Manisha Manjari
जिस्म से रूह को लेने,
जिस्म से रूह को लेने,
Pramila sultan
कौन सोचता....
कौन सोचता....
डॉ.सीमा अग्रवाल
*सौभाग्य*
*सौभाग्य*
Harminder Kaur
हर तीखे मोड़ पर मन में एक सुगबुगाहट सी होती है। न जाने क्यों
हर तीखे मोड़ पर मन में एक सुगबुगाहट सी होती है। न जाने क्यों
Guru Mishra
जां से गए।
जां से गए।
Taj Mohammad
हमने तो सोचा था कि
हमने तो सोचा था कि
gurudeenverma198
प्रेम-प्रेम रटते सभी,
प्रेम-प्रेम रटते सभी,
Arvind trivedi
तिरस्कार,घृणा,उपहास और राजनीति से प्रेरित कविता लिखने से अपन
तिरस्कार,घृणा,उपहास और राजनीति से प्रेरित कविता लिखने से अपन
DrLakshman Jha Parimal
व्यथा दिल की
व्यथा दिल की
Devesh Bharadwaj
घरौंदा
घरौंदा
Madhavi Srivastava
घे वेध भविष्याचा ,
घे वेध भविष्याचा ,
Mr.Aksharjeet
संभव कब है देखना ,
संभव कब है देखना ,
sushil sarna
Loading...