Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Aug 2016 · 1 min read

तेरे ख़्वाब

जल्दी सो जाता हूँ अक्सर, तेरे ख़्वाबों की आस में!
फिर सारी रात गुज़र जाती है…….बैठे बैठे पास में!

इक पल में ही वाद हो हुए,
अगले पल विवाद हो हुए!
आँखों ही आँखों में समझो,
सारे ही संवाद हो हुए!

वक़्त गुजरता है जैसे, हँसी खेल उल्लास में!
त्यों सारी रात गुज़र जाती है बैठे बैठे पास मे!

हँसकर देख लिया जो तुमने,
मुरझाए से फ़ूल खिल गये!
पत्ता-पत्ता जोड़ लिया और,
गीत को अशआर मिल गये!

जैसे राधा-कृष्ण समाये, इक दूजे की साँस में!
त्यों सारी रात गुज़र जाती है बैठे-बैठे पास में!
राकेश!

Language: Hindi
Tag: गीत
538 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
🇮🇳🇮🇳*
🇮🇳🇮🇳*"तिरंगा झंडा"* 🇮🇳🇮🇳
Shashi kala vyas
परवरिश
परवरिश
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हिंदी का सम्मान
हिंदी का सम्मान
Arti Bhadauria
छठ पूजा
छठ पूजा
Damini Narayan Singh
*मैं वर्तमान की नारी हूं।*
*मैं वर्तमान की नारी हूं।*
Dushyant Kumar
"राबता" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
होता अगर पैसा पास हमारे
होता अगर पैसा पास हमारे
gurudeenverma198
गौण हुईं अनुभूतियाँ,
गौण हुईं अनुभूतियाँ,
sushil sarna
स्वयं छुरी से चीर गल, परखें पैनी धार ।
स्वयं छुरी से चीर गल, परखें पैनी धार ।
Arvind trivedi
Jin kandho par bachpan bita , us kandhe ka mol chukana hai,
Jin kandho par bachpan bita , us kandhe ka mol chukana hai,
Sakshi Tripathi
*नमन सेल्युलर जेल, मिली जिससे आजादी (कुंडलिया)*
*नमन सेल्युलर जेल, मिली जिससे आजादी (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
क्या मथुरा क्या काशी जब मन में हो उदासी ?
क्या मथुरा क्या काशी जब मन में हो उदासी ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
आप हमको पढ़ें, हम पढ़ें आपको
आप हमको पढ़ें, हम पढ़ें आपको
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
पुस्तक समीक्षा-सपनों का शहर
पुस्तक समीक्षा-सपनों का शहर
दुष्यन्त 'बाबा'
कौन ?
कौन ?
साहिल
मैंने पीनी छोड़ तूने जो अपनी कसम दी
मैंने पीनी छोड़ तूने जो अपनी कसम दी
Vishal babu (vishu)
तन्हा
तन्हा
अमित मिश्र
क्या हुआ जो मेरे दोस्त अब थकने लगे है
क्या हुआ जो मेरे दोस्त अब थकने लगे है
Sandeep Pande
राजनीति का नाटक
राजनीति का नाटक
Shyam Sundar Subramanian
साजिशें ही साजिशें...
साजिशें ही साजिशें...
डॉ.सीमा अग्रवाल
*मन राह निहारे हारा*
*मन राह निहारे हारा*
Poonam Matia
■ उत्सवी सप्ताह....
■ उत्सवी सप्ताह....
*Author प्रणय प्रभात*
चुनावी चोचला
चुनावी चोचला
Shekhar Chandra Mitra
*ताना कंटक सा लगता है*
*ताना कंटक सा लगता है*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"सच्चाई"
Dr. Kishan tandon kranti
💐प्रेम कौतुक-338💐
💐प्रेम कौतुक-338💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
** बहाना ढूंढता है **
** बहाना ढूंढता है **
surenderpal vaidya
3007.*पूर्णिका*
3007.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मुक्तक
मुक्तक
पंकज कुमार कर्ण
तुम हकीकत में वहीं हो जैसी तुम्हारी सोच है।
तुम हकीकत में वहीं हो जैसी तुम्हारी सोच है।
Rj Anand Prajapati
Loading...