Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

तेरे इश्क में जिये जा रहा हूँ

तेरे इश्क में मैं जिये जा रहा हूँ
———————-++++++
तेरे इश्क में मैं जिये जा रहा हूँ,
दुश्मनों के खंजर सहे जा रहा हूँ,
तेरा प्यार पाने की खातिर गम पिये जा रहा हूँ,
तेरे इश्क में मैं जिये जा रहा हूँ।

अपने दर्द को भूले जा रहा हूँ,
पर तेरे बहते लहू देखकर तड़पे जा रहा हूँ,
तेरे पाने की आश में खंजर सहे जा रहा हूँ,
तेरे तेरे इश्क में मैं जिये जा रहा हूँ।

तेरे दर्द को देखकर मरे जा रहा हूँ,
तुझे बचाने की खातिर ही खंजर के वार खुद पर लिये जा रहा हूँ,
तेरे शब्दों के बाण से मैं मरे जा रहा हूँ,
तेरे इश्क में मैं जिये जा रहा हूँ।
———————-मनहरण

152 Views
You may also like:
पापा हमारे..
Dr. Alpa H. Amin
सच का सामना
Shyam Sundar Subramanian
माँ
आकाश महेशपुरी
"चैन से तो मर जाने दो"
रीतू सिंह
हिन्दी दोहे विषय- नास्तिक (राना लिधौरी)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सीख
Pakhi Jain
दो शरारती गुड़िया
Prabhudayal Raniwal
झूला सजा दो
Buddha Prakash
आदर्श ग्राम्य
Tnmy R Shandily
* राहत *
Dr. Alpa H. Amin
मंजिल
AMRESH KUMAR VERMA
✍️मेरा मकान भी मुरस्सा होता✍️
"अशांत" शेखर
मैं तुम पर क्या छन्द लिखूँ?
रोहिणी नन्दन मिश्र
🌺प्रेम की राह पर-58🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दिल्ली की कहानी मेरी जुबानी [हास्य व्यंग्य! ]
Anamika Singh
Un-plucked flowers
Aditya Prakash
दया***
Prabhavari Jha
वो दिन भी बहुत खूबसूरत थे
Krishan Singh
“सराय का मुसाफिर”
DESH RAJ
करते है धन्यवाद.....दिलसे
Dr. Alpa H. Amin
खुशियों की रंगोली
Saraswati Bajpai
#मजबूरी
D.k Math
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग४]
Anamika Singh
🌺🌺प्रेम की राह पर-47🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*इस बार पार कर दो (भक्ति गीत)*
Ravi Prakash
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
*बुद्ध पूर्णिमा 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
अजीब कशमकश
Anjana Jain
ये कैसा बेटी बाप का रिश्ता है?
Taj Mohammad
भाग्य का फेर
ओनिका सेतिया 'अनु '
Loading...