Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jan 2017 · 1 min read

तेरी याद

मेरे खामोश लबों के हिलने से
तेरी आवाज़ आई ।
सच कहता हूँ उस पल तेरी,
बहुत याद आई ।

पत्तों की सरसराहट से
दिल में कहीं हलचल हुई ।
वृष्टि ने होकर निरंतर
मन में तेरी प्यास जगाई,
उस पल तेरी बहुत याद आई ।।

जब कभी बच्चों को, लड़ते हुए देखा मैंने
जब कभी युगलों को, प्रेमपाश में देखा मैंने
जब कभी यशोदा को, कृष्ण को छूते देखा
जब कभी भँवरे को , पुष्प पर बैठे देखा
क्या कहूँ उस पल मैंने, तुझको हीं आवाज़ लगाई
तेरी उस पल , हद से ज्यादा
बहुत से ज़्यादा बहुत याद आई ।।

…….अर्श

Language: Hindi
301 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रंगोली
रंगोली
Neelam Sharma
मंजिल तक का संघर्ष
मंजिल तक का संघर्ष
Praveen Sain
*जिंदगी-भर फिर न यह, अनमोल पूँजी पाएँगे【 गीतिका】*
*जिंदगी-भर फिर न यह, अनमोल पूँजी पाएँगे【 गीतिका】*
Ravi Prakash
अगर
अगर
Shweta Soni
धार्मिक सौहार्द एवम मानव सेवा के अद्भुत मिसाल सौहार्द शिरोमणि संत श्री सौरभ
धार्मिक सौहार्द एवम मानव सेवा के अद्भुत मिसाल सौहार्द शिरोमणि संत श्री सौरभ
World News
■ अधिकांश राजनेता और अफ़सर।।
■ अधिकांश राजनेता और अफ़सर।।
*प्रणय प्रभात*
“देवभूमि क दिव्य दर्शन” मैथिली ( यात्रा -संस्मरण )
“देवभूमि क दिव्य दर्शन” मैथिली ( यात्रा -संस्मरण )
DrLakshman Jha Parimal
ये दुनिया सीधी-सादी है , पर तू मत टेढ़ा टेढ़ा चल।
ये दुनिया सीधी-सादी है , पर तू मत टेढ़ा टेढ़ा चल।
सत्य कुमार प्रेमी
नारा पंजाबियत का, बादल का अंदाज़
नारा पंजाबियत का, बादल का अंदाज़
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कर्म से विश्वाश जन्म लेता है,
कर्म से विश्वाश जन्म लेता है,
Sanjay ' शून्य'
यह बात शायद हमें उतनी भी नहीं चौंकाती,
यह बात शायद हमें उतनी भी नहीं चौंकाती,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
प्यार में बदला नहीं लिया जाता
प्यार में बदला नहीं लिया जाता
Shekhar Chandra Mitra
2466.पूर्णिका
2466.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
पूर्वोत्तर का दर्द ( कहानी संग्रह) समीक्षा
पूर्वोत्तर का दर्द ( कहानी संग्रह) समीक्षा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Childhood is rich and adulthood is poor.
Childhood is rich and adulthood is poor.
सिद्धार्थ गोरखपुरी
रोशनी सूरज की कम क्यूँ हो रही है।
रोशनी सूरज की कम क्यूँ हो रही है।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
जता दूँ तो अहसान लगता है छुपा लूँ तो गुमान लगता है.
जता दूँ तो अहसान लगता है छुपा लूँ तो गुमान लगता है.
शेखर सिंह
"सैनिक की चिट्ठी"
Ekta chitrangini
‘‘शिक्षा में क्रान्ति’’
‘‘शिक्षा में क्रान्ति’’
Mr. Rajesh Lathwal Chirana
कोई यहां अब कुछ नहीं किसी को बताता है,
कोई यहां अब कुछ नहीं किसी को बताता है,
manjula chauhan
प्यार का रिश्ता
प्यार का रिश्ता
Surinder blackpen
सारे  ज़माने  बीत  गये
सारे ज़माने बीत गये
shabina. Naaz
गर्भपात
गर्भपात
Dr. Kishan tandon kranti
दंभ हरा
दंभ हरा
Arti Bhadauria
*छाया कैसा  नशा है कैसा ये जादू*
*छाया कैसा नशा है कैसा ये जादू*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
*दहेज*
*दहेज*
Rituraj shivem verma
हिन्दी पर विचार
हिन्दी पर विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
वन को मत काटो
वन को मत काटो
Buddha Prakash
आजादी की कहानी
आजादी की कहानी
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
Loading...