Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Mar 2017 · 1 min read

!!!!! तेरी दोस्ती –!! तेरा प्यार–!!!!!

तेरी मोहोब्बत के शुक्रगुजार हैं हम
क्यूं की तुम से प्यार करते हैं हम
यह जरूरी नहीं को मिलेगे हम
बस रहो संग संग,
यही गुजारिश तुम से करते हैं हम !!

तेरा आदर करना मेरा काम है
तुझ को संग ससंग दीखना उस का काम कई
तू ही ज़माने में तो मेरा नाम है
नहीं तो “अजीत” तुम बिन अनाम है !!

इस मन के साथ लगाव रखना मेरे दोस्त
गर गुजर भी जाऊं तो याद रखना दोस्त
मुश्किलों के साथ मिले है तेरी दोस्ती
तेरी इस दोस्ती पर मैं करता हूँ नाज मेरे दोस्त !!

अजीत कुमार तलवार
मेरठ

Language: Hindi
376 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
View all
You may also like:
किताब
किताब
Sûrëkhâ
अहमियत 🌹🙏
अहमियत 🌹🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Attraction
Attraction
Vedha Singh
संस्कृति संस्कार
संस्कृति संस्कार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कितनी मासूम
कितनी मासूम
हिमांशु Kulshrestha
त्याग
त्याग
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
वो पेड़ को पकड़ कर जब डाली को मोड़ेगा
वो पेड़ को पकड़ कर जब डाली को मोड़ेगा
Keshav kishor Kumar
माणुष
माणुष
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
एक सच और सोच
एक सच और सोच
Neeraj Agarwal
3445🌷 *पूर्णिका* 🌷
3445🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
हिन्दी में ग़ज़ल की औसत शक़्ल? +रमेशराज
हिन्दी में ग़ज़ल की औसत शक़्ल? +रमेशराज
कवि रमेशराज
मूर्ख बनाकर काक को, कोयल परभृत नार।
मूर्ख बनाकर काक को, कोयल परभृत नार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
अक्सर लोगों को बड़ी तेजी से आगे बढ़ते देखा है मगर समय और किस्म
अक्सर लोगों को बड़ी तेजी से आगे बढ़ते देखा है मगर समय और किस्म
Radhakishan R. Mundhra
🥀*गुरु चरणों की धूलि*🥀
🥀*गुरु चरणों की धूलि*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
*कहते यद्यपि कर-कमल , गेंडे-जैसे हाथ
*कहते यद्यपि कर-कमल , गेंडे-जैसे हाथ
Ravi Prakash
मन को भाये इमली. खट्टा मीठा डकार आये
मन को भाये इमली. खट्टा मीठा डकार आये
Ranjeet kumar patre
*आत्म-मंथन*
*आत्म-मंथन*
Dr. Priya Gupta
समय की धारा रोके ना रुकती,
समय की धारा रोके ना रुकती,
Neerja Sharma
आज ख़ुद के लिए मैं ख़ुद से कुछ कहूं,
आज ख़ुद के लिए मैं ख़ुद से कुछ कहूं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Tumhe Pakar Jane Kya Kya Socha Tha
Tumhe Pakar Jane Kya Kya Socha Tha
Kumar lalit
बधाई का गणित / मुसाफ़िर बैठा
बधाई का गणित / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
योगी?
योगी?
Sanjay ' शून्य'
मैं चाँद पर गया
मैं चाँद पर गया
Satish Srijan
"प्यार की कहानी "
Pushpraj Anant
फूल कुदरत का उपहार
फूल कुदरत का उपहार
Harish Chandra Pande
प्रेरणादायक बाल कविता: माँ मुझको किताब मंगा दो।
प्रेरणादायक बाल कविता: माँ मुझको किताब मंगा दो।
Rajesh Kumar Arjun
कार्यशैली और विचार अगर अनुशासित हो,तो लक्ष्य को उपलब्धि में
कार्यशैली और विचार अगर अनुशासित हो,तो लक्ष्य को उपलब्धि में
Paras Nath Jha
#शेर
#शेर
*प्रणय प्रभात*
कोशिश करने वाले की हार नहीं होती। आज मैं CA बन गया। CA Amit
कोशिश करने वाले की हार नहीं होती। आज मैं CA बन गया। CA Amit
CA Amit Kumar
दोस्ती में हर ग़म को भूल जाते हैं।
दोस्ती में हर ग़म को भूल जाते हैं।
Phool gufran
Loading...