Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Sep 2022 · 1 min read

तेरी डोली से भी बेहतर

तेरी डोली से भी बेहतर, जनाजा मेरा होगा।
तू नहीं तो क्या हुआ,पूरा शहर शामिल होगा।।
तेरी डोली से भी बेहतर————————–।।

लगेगी जिस दिन मेहंदी, इन हाथों में तेरे।
सजेगा जिस दिन गजरा, इन बालों में तेरे।।
निकलेगी मेरी अर्थी , फूलों से ऐसे सजी।
उठेंगे हाथ दुहा में, अश्क हर आँख में होगा।।
तेरी डोली से भी बेहतर———————–।।

जिसपे तू नाज करेगी, होगा नहीं तेरा अपना।
रहेगी जिस तू महल में, होगा नहीं तेरा पसीना।।
अपनी मोहब्बत के नाम, बनाऊंगा एक महल मैं।
करेगा नाज जमाना,ताजमहल ऐसा ही होगा।।
तेरी डोली से भी बेहतर—————————।।

हुआ हूँ मैं तो बर्बाद, हमेशा तेरे लिए ही।
सजाये ख्वाब सारे,मैंने तो तेरे लिए ही।।
अकेला फिर भी नहीं हूँ,तुझसे कौन होगा वफ़ा।
मुझपे लिखेंगे नगमें, कुर्बान मुझपे जहां होगा।।
तेरी डोली से भी बेहतर————————-।।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)
मोबाईल नम्बर- 9571070847

Language: Hindi
Tag: गीत
128 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2598.पूर्णिका
2598.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
🌸Prodigy Love-48🌸
🌸Prodigy Love-48🌸
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
(वक्त)
(वक्त)
Sangeeta Beniwal
खामोश रहना ही जिंदगी के
खामोश रहना ही जिंदगी के
ओनिका सेतिया 'अनु '
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
ध्वनि प्रदूषण कर दो अब कम
ध्वनि प्रदूषण कर दो अब कम
Buddha Prakash
तुम सत्य हो
तुम सत्य हो
Dr.Pratibha Prakash
इतना तो करम है कि मुझे याद नहीं है
इतना तो करम है कि मुझे याद नहीं है
Shweta Soni
दोहा-
दोहा-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
संकल्प
संकल्प
Dr. Pradeep Kumar Sharma
इंतजार बाकी है
इंतजार बाकी है
शिवम राव मणि
पुरानी ज़ंजीर
पुरानी ज़ंजीर
Shekhar Chandra Mitra
हाईकमान (हास्य व्यंग्य)
हाईकमान (हास्य व्यंग्य)
Ravi Prakash
इंसान VS महान
इंसान VS महान
Dr MusafiR BaithA
लाल फूल गवाह है
लाल फूल गवाह है
Surinder blackpen
" जय भारत-जय गणतंत्र ! "
Surya Barman
Perceive Exams as a festival
Perceive Exams as a festival
Tushar Jagawat
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
23)”बसंत पंचमी दिवस”
23)”बसंत पंचमी दिवस”
Sapna Arora
सफलता वही है जो निरंतर एवं गुणवत्तापूर्ण हो।
सफलता वही है जो निरंतर एवं गुणवत्तापूर्ण हो।
dks.lhp
एक उलझन में हूं मैं
एक उलझन में हूं मैं
हिमांशु Kulshrestha
कागज के फूल
कागज के फूल
डा गजैसिह कर्दम
पंखा
पंखा
देवराज यादव
समान आचार संहिता
समान आचार संहिता
Bodhisatva kastooriya
*** पल्लवी : मेरे सपने....!!! ***
*** पल्लवी : मेरे सपने....!!! ***
VEDANTA PATEL
सियासी खेल
सियासी खेल
AmanTv Editor In Chief
(5) नैसर्गिक अभीप्सा --( बाँध लो फिर कुन्तलों में आज मेरी सूक्ष्म सत्ता )
(5) नैसर्गिक अभीप्सा --( बाँध लो फिर कुन्तलों में आज मेरी सूक्ष्म सत्ता )
Kishore Nigam
तुझसें में क्या उम्मीद करू कोई ,ऐ खुदा
तुझसें में क्या उम्मीद करू कोई ,ऐ खुदा
Sonu sugandh
3) मैं किताब हूँ
3) मैं किताब हूँ
पूनम झा 'प्रथमा'
एक नयी रीत
एक नयी रीत
Harish Chandra Pande
Loading...