Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Dec 2023 · 1 min read

तेरा हम परदेशी, कैसे करें एतबार

तेरा हम परदेशी, कैसे करें एतबार।
कब तक करेंगे ऐसे, हम तेरा इंतजार।।
कैसे कहे कि मिलने, आयेगा तू हमसे।
कैसे माने तुमको है, हमसे सच्चा प्यार।।
तेरा हम परदेशी———————–।।

क्या निभायेगा हमसे, अपनी तू वफायें।
नहीं करेगा फिर से, ऐसी तू खतायें।।
हो जाये टुकड़ें, इस दिल के कभी अगर।
कैसे माने, नहीं तोड़ेगा तब तू इकरार।।
तेरा हम परदेशी———————–।।

सीने से तुमको लगा ले, लेकिन हम।
बाँहों में तुमको भर ले, लेकिन हम।।
डरते हैं छोड़ देगा तू , हमको अकेला।
ऐसे में करें कैसे, तुमसे हम इजहार।।
तेरा हम परदेशी———————–।।

कौन हमको देगा, पनाह बदनामी में।
कौन हमको देगा, दुहायें बदनामी में।।
हो जायेगी बर्बाद जब, जिंदगी हमारी।
देने में हमको सहारा, कर दे तू इन्कार।।
तेरा हम परदेशी———————–।।

शिक्षक एवं साहित्यकार
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
166 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दोस्ती का रिश्ता
दोस्ती का रिश्ता
विजय कुमार अग्रवाल
मेरे उर के छाले।
मेरे उर के छाले।
Anil Mishra Prahari
कहीं दूर चले आए हैं घर से
कहीं दूर चले आए हैं घर से
पूर्वार्थ
"मुस्कान"
Dr. Kishan tandon kranti
कभी कभी ज़िंदगी में लिया गया छोटा निर्णय भी बाद के दिनों में
कभी कभी ज़िंदगी में लिया गया छोटा निर्णय भी बाद के दिनों में
Paras Nath Jha
Being an ICSE aspirant
Being an ICSE aspirant
Sukoon
जिनके होंठों पर हमेशा मुस्कान रहे।
जिनके होंठों पर हमेशा मुस्कान रहे।
Phool gufran
सवाल जिंदगी के
सवाल जिंदगी के
Dr. Rajeev Jain
■ शुभ देवोत्थान
■ शुभ देवोत्थान
*Author प्रणय प्रभात*
रिश्ते नातों के बोझ को उठाए फिरता हूॅ॑
रिश्ते नातों के बोझ को उठाए फिरता हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
लहर तो जीवन में होती हैं
लहर तो जीवन में होती हैं
Neeraj Agarwal
Those who pass through the door of the heart,
Those who pass through the door of the heart,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
झूठ के सागर में डूबते आज के हर इंसान को देखा
झूठ के सागर में डूबते आज के हर इंसान को देखा
Er. Sanjay Shrivastava
*भर ले खुद में ज्योति तू ,बन जा आत्म-प्रकाश (कुंडलिया)*
*भर ले खुद में ज्योति तू ,बन जा आत्म-प्रकाश (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
वक्त का घुमाव तो
वक्त का घुमाव तो
Mahesh Tiwari 'Ayan'
कौन पढ़ता है मेरी लम्बी -लम्बी लेखों को ?..कितनों ने तो अपनी
कौन पढ़ता है मेरी लम्बी -लम्बी लेखों को ?..कितनों ने तो अपनी
DrLakshman Jha Parimal
Yesterday ? Night
Yesterday ? Night
Otteri Selvakumar
3118.*पूर्णिका*
3118.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
💐प्रेम कौतुक-273💐
💐प्रेम कौतुक-273💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बेरूख़ी के मार से गुलिस्ताँ बंजर होते गए,
बेरूख़ी के मार से गुलिस्ताँ बंजर होते गए,
_सुलेखा.
तोता और इंसान
तोता और इंसान
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
संकल्प
संकल्प
Bodhisatva kastooriya
क्रोध
क्रोध
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
धुंध इतनी की खुद के
धुंध इतनी की खुद के
Atul "Krishn"
मां से ही तो सीखा है।
मां से ही तो सीखा है।
SATPAL CHAUHAN
स्वागत है नवजात भतीजे
स्वागत है नवजात भतीजे
Pooja srijan
झूठे सपने
झूठे सपने
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
उड़ते हुए आँचल से दिखती हुई तेरी कमर को छुपाना चाहता हूं
उड़ते हुए आँचल से दिखती हुई तेरी कमर को छुपाना चाहता हूं
Vishal babu (vishu)
आओ बुद्ध की ओर चलें
आओ बुद्ध की ओर चलें
Shekhar Chandra Mitra
Loading...