Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Apr 2018 · 1 min read

तू भी है ..!

रंगीनियाँ हैं मेरे आस पास, तो माहताब तू भी है
है खुश्बू मेरे सोख बदन में तो महकता गुलाब तू भी है
कभी कम नहीं आंका है तुझको मैंने अपने ओहदे से
मेरा अगर जवाब नहीं तो लाजवाब तू भी है

पर्दा नहीं है गर तुझसे तो बेनकाब तू भी है
खुला खुला सा अगर हूँ मैं तो खुली किताब तू भी है
हैरत में पड़ जाते हैं अक़्सर, हम में फ़र्क़ खोजने वाले
नशा है मेरी बातों में तो महकती शराब तू भी है

बहुत लज़ीज हूँ गर मैं तो शुरुरे कवाब तू भी है
पलकों के साये में हूँ मैं तो रातों का ख्वाब तू भी है
बख़्शी हैं खुदाया ने हमको एक जैसी ही खूबियां
मैं बादशाह हूँ जागीरों का तो आलीजनाब तू भी है

मुझमें गर हैं खामियाँ तो थोड़ा खराब तू भी है
लिए हथेली पर मैं दिल, तो चाहत-ए-शवाब तू भी है
कहाँ तक ग़ज़ल बयां करेगी , तेरे मेरे फ़साने को
मेरा गर कोई मोल नहीं तो नायाब तू भी है

……. – हरवंश श्रीवास्तव

1 Like · 1 Comment · 720 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मैंने खुद को जाना, सुना, समझा बहुत है
मैंने खुद को जाना, सुना, समझा बहुत है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
अपनापन
अपनापन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सड़कों पर दौड़ रही है मोटर साइकिलें, अनगिनत कार।
सड़कों पर दौड़ रही है मोटर साइकिलें, अनगिनत कार।
Tushar Jagawat
🙅आज की बात🙅
🙅आज की बात🙅
*प्रणय प्रभात*
वो भ्रम है वास्तविकता नहीं है
वो भ्रम है वास्तविकता नहीं है
Keshav kishor Kumar
आजकल के बच्चे घर के अंदर इमोशनली बहुत अकेले होते हैं। माता-प
आजकल के बच्चे घर के अंदर इमोशनली बहुत अकेले होते हैं। माता-प
पूर्वार्थ
*पानी केरा बुदबुदा*
*पानी केरा बुदबुदा*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आता एक बार फिर से तो
आता एक बार फिर से तो
Dr Manju Saini
2122/2122/212
2122/2122/212
सत्य कुमार प्रेमी
सम्मान तुम्हारा बढ़ जाता श्री राम चरण में झुक जाते।
सम्मान तुम्हारा बढ़ जाता श्री राम चरण में झुक जाते।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
झकझोरती दरिंदगी
झकझोरती दरिंदगी
Dr. Harvinder Singh Bakshi
इंद्रधनुष
इंद्रधनुष
Santosh kumar Miri
"इस्तिफ़सार" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
प्रेम किसी दूसरे शख्स से...
प्रेम किसी दूसरे शख्स से...
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
पितृपक्ष
पितृपक्ष
Neeraj Agarwal
ਸੰਵਿਧਾਨ ਦੀ ਆਤਮਾ
ਸੰਵਿਧਾਨ ਦੀ ਆਤਮਾ
विनोद सिल्ला
समंदर में नदी की तरह ये मिलने नहीं जाता
समंदर में नदी की तरह ये मिलने नहीं जाता
Johnny Ahmed 'क़ैस'
प्रतीक्षा
प्रतीक्षा
Shaily
हम यथार्थ सत्य को स्वीकार नहीं कर पाते हैं
हम यथार्थ सत्य को स्वीकार नहीं कर पाते हैं
Sonam Puneet Dubey
*नमस्तुभ्यं! नमस्तुभ्यं! रिपुदमन नमस्तुभ्यं!*
*नमस्तुभ्यं! नमस्तुभ्यं! रिपुदमन नमस्तुभ्यं!*
Poonam Matia
मुझे मुझसे हीं अब मांगती है, गुजरे लम्हों की रुसवाईयाँ।
मुझे मुझसे हीं अब मांगती है, गुजरे लम्हों की रुसवाईयाँ।
Manisha Manjari
" माँ "
Dr. Kishan tandon kranti
Uljhane bahut h , jamane se thak jane ki,
Uljhane bahut h , jamane se thak jane ki,
Sakshi Tripathi
हर कोई समझ ले,
हर कोई समझ ले,
Yogendra Chaturwedi
2537.पूर्णिका
2537.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ज़िंदगी का सवाल
ज़िंदगी का सवाल
Dr fauzia Naseem shad
कभी जलाए गए और कभी खुद हीं जले
कभी जलाए गए और कभी खुद हीं जले
Shweta Soni
गुरु नानक देव जी --
गुरु नानक देव जी --
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
नफरतों से अब रिफाक़त पे असर पड़ता है। दिल में शक हो तो मुहब्बत पे असर पड़ता है। ❤️ खुशू खुज़ू से अमल कोई भी करो साहिब। नेकियों से तो इ़बादत पे असर पड़ता है।
नफरतों से अब रिफाक़त पे असर पड़ता है। दिल में शक हो तो मुहब्बत पे असर पड़ता है। ❤️ खुशू खुज़ू से अमल कोई भी करो साहिब। नेकियों से तो इ़बादत पे असर पड़ता है।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मेरी दोस्ती के लायक कोई यार नही
मेरी दोस्ती के लायक कोई यार नही
Rituraj shivem verma
Loading...