Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Apr 2023 · 1 min read

तू भी धक्के खा, हे मुसाफिर ! ,

तू भी धक्के खा, हे मुसाफिर ! ,
उसी दुनिया में तू भी आया है,
जाने कितनों ने चमकायें है सितारें यहाँ,
तेरा सितारा भी ठीक वैसे ही चमक जाएगा।

बुद्ध प्रकाश,
मौदहा हमीरपुर।

1 Like · 435 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Buddha Prakash
View all
You may also like:
उम्मीद -ए- दिल
उम्मीद -ए- दिल
Shyam Sundar Subramanian
बढ़ रही नारी निरंतर
बढ़ रही नारी निरंतर
surenderpal vaidya
आज का चयनित छंद
आज का चयनित छंद"रोला"अर्ध सम मात्रिक
rekha mohan
कुंडलिया छंद
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
माँ महान है
माँ महान है
Dr. Man Mohan Krishna
जो लोग अपनी जिंदगी से संतुष्ट होते हैं वे सुकून भरी जिंदगी ज
जो लोग अपनी जिंदगी से संतुष्ट होते हैं वे सुकून भरी जिंदगी ज
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
उसने मुझे बिहारी ऐसे कहा,
उसने मुझे बिहारी ऐसे कहा,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
हाइकु haiku
हाइकु haiku
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ख़ुद की खोज
ख़ुद की खोज
Surinder blackpen
गीत
गीत
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
"दरअसल"
Dr. Kishan tandon kranti
औरत का जीवन
औरत का जीवन
Dheerja Sharma
तुम्हें रूठना आता है मैं मनाना सीख लूँगा,
तुम्हें रूठना आता है मैं मनाना सीख लूँगा,
pravin sharma
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Sidhartha Mishra
मैं गीत हूं ग़ज़ल हो तुम न कोई भूल पाएगा।
मैं गीत हूं ग़ज़ल हो तुम न कोई भूल पाएगा।
सत्य कुमार प्रेमी
जख्म हरे सब हो गए,
जख्म हरे सब हो गए,
sushil sarna
■ एक_और_बरसी...
■ एक_और_बरसी...
*प्रणय प्रभात*
جستجو ءے عیش
جستجو ءے عیش
Ahtesham Ahmad
बदी करने वाले भी
बदी करने वाले भी
Satish Srijan
*श्री विजय कुमार अग्रवाल*
*श्री विजय कुमार अग्रवाल*
Ravi Prakash
दुनिया मे नाम कमाने के लिए
दुनिया मे नाम कमाने के लिए
शेखर सिंह
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
इस नदी की जवानी गिरवी है
इस नदी की जवानी गिरवी है
Sandeep Thakur
आंगन की किलकारी बेटी,
आंगन की किलकारी बेटी,
Vindhya Prakash Mishra
तप रही जमीन और
तप रही जमीन और
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
दिवाली व होली में वार्तालाप
दिवाली व होली में वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
"वक्त के हाथों मजबूर सभी होते है"
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
मौत का डर
मौत का डर
अनिल "आदर्श"
मैं बेटी हूँ
मैं बेटी हूँ
लक्ष्मी सिंह
‘ चन्द्रशेखर आज़ाद ‘ अन्त तक आज़ाद रहे
‘ चन्द्रशेखर आज़ाद ‘ अन्त तक आज़ाद रहे
कवि रमेशराज
Loading...