Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Sep 2016 · 1 min read

तू बरस इतना बरस कि……..

बदली भी बदल गयी
काली घटा देख
बादल में,
कही फट चली
बोझ से….
तबाही का मंजर देकर,
कही बरस पड़ी
अन्न दाता की झोली में
खुशियों की सौगात देकर,
कही बरस गयी तू दूर
महबूब के आँगन में
बिछड़े आँसू बनकर,
कही बरस गयी सावन में
प्रेमी मिलन संग
गीत-संगीत बनकर,
तू बरस इतना बरस
क़ि धुल जाये धरती से
*नफरत का किचड़,
तू बरस इतना बरस
कि बुझ जाये आग
दिलो की***
बस तेरा अहसास शीतलता सा
ठहर जाये,
तपती दुनियां के
तपते गर्म दिमाग के
हम इंसानो में…

^^^^^दिनेश शर्मा^^^^^

Language: Hindi
2 Comments · 588 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कविता - 'टमाटर की गाथा
कविता - 'टमाटर की गाथा"
Anand Sharma
नाम कमाले ये जिनगी म, संग नई जावय धन दौलत बेटी बेटा नारी।
नाम कमाले ये जिनगी म, संग नई जावय धन दौलत बेटी बेटा नारी।
Ranjeet kumar patre
वो मुझे प्यार नही करता
वो मुझे प्यार नही करता
Swami Ganganiya
मायके से दुआ लीजिए
मायके से दुआ लीजिए
Harminder Kaur
बुंदेली दोहा-गर्राट
बुंदेली दोहा-गर्राट
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
अपना नैनीताल...
अपना नैनीताल...
डॉ.सीमा अग्रवाल
*मित्र हमारा है व्यापारी (बाल कविता)*
*मित्र हमारा है व्यापारी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
Lamhon ki ek kitab hain jindagi ,sanso aur khayalo ka hisab
Lamhon ki ek kitab hain jindagi ,sanso aur khayalo ka hisab
Sampada
हम सम्भल कर चलते रहे
हम सम्भल कर चलते रहे
VINOD CHAUHAN
करते हो क्यों प्यार अब हमसे तुम
करते हो क्यों प्यार अब हमसे तुम
gurudeenverma198
सूरज चाचा ! क्यों हो रहे हो इतना गर्म ।
सूरज चाचा ! क्यों हो रहे हो इतना गर्म ।
ओनिका सेतिया 'अनु '
ये तेरी यादों के साएं मेरे रूह से हटते ही नहीं। लगता है ऐसे
ये तेरी यादों के साएं मेरे रूह से हटते ही नहीं। लगता है ऐसे
Rj Anand Prajapati
वीर बालिका
वीर बालिका
लक्ष्मी सिंह
तीन दशक पहले
तीन दशक पहले
*प्रणय प्रभात*
आकाश भर उजाला,मुट्ठी भरे सितारे
आकाश भर उजाला,मुट्ठी भरे सितारे
Shweta Soni
******* मनसीरत दोहावली-1 *********
******* मनसीरत दोहावली-1 *********
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
शरद
शरद
Tarkeshwari 'sudhi'
खुद को कभी न बदले
खुद को कभी न बदले
Dr fauzia Naseem shad
रिश्ते मोबाइल के नेटवर्क जैसे हो गए हैं। कब तक जुड़े रहेंगे,
रिश्ते मोबाइल के नेटवर्क जैसे हो गए हैं। कब तक जुड़े रहेंगे,
Anand Kumar
एक छोटी सी तमन्ना है जीन्दगी से।
एक छोटी सी तमन्ना है जीन्दगी से।
Ashwini sharma
हम कैसे कहें कुछ तुमसे सनम ..
हम कैसे कहें कुछ तुमसे सनम ..
Sunil Suman
गलत और सही
गलत और सही
Radhakishan R. Mundhra
देश हमारा भारत प्यारा
देश हमारा भारत प्यारा
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
‘ विरोधरस ‘---10. || विरोधरस के सात्विक अनुभाव || +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---10. || विरोधरस के सात्विक अनुभाव || +रमेशराज
कवि रमेशराज
फलक भी रो रहा है ज़मीं की पुकार से
फलक भी रो रहा है ज़मीं की पुकार से
Mahesh Tiwari 'Ayan'
मौन देह से सूक्ष्म का, जब होता निर्वाण ।
मौन देह से सूक्ष्म का, जब होता निर्वाण ।
sushil sarna
2773. *पूर्णिका*
2773. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रिश्ते
रिश्ते
पूर्वार्थ
चल अंदर
चल अंदर
Satish Srijan
फर्श पर हम चलते हैं
फर्श पर हम चलते हैं
Neeraj Agarwal
Loading...