Sep 2, 2016 · 1 min read

तू बरस इतना बरस कि……..

बदली भी बदल गयी
काली घटा देख
बादल में,
कही फट चली
बोझ से….
तबाही का मंजर देकर,
कही बरस पड़ी
अन्न दाता की झोली में
खुशियों की सौगात देकर,
कही बरस गयी तू दूर
महबूब के आँगन में
बिछड़े आँसू बनकर,
कही बरस गयी सावन में
प्रेमी मिलन संग
गीत-संगीत बनकर,
तू बरस इतना बरस
क़ि धुल जाये धरती से
*नफरत का किचड़,
तू बरस इतना बरस
कि बुझ जाये आग
दिलो की***
बस तेरा अहसास शीतलता सा
ठहर जाये,
तपती दुनियां के
तपते गर्म दिमाग के
हम इंसानो में…

^^^^^दिनेश शर्मा^^^^^

2 Comments · 284 Views
You may also like:
🌺🌺दोषदृष्टया: साधके प्रभावः🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ममता की फुलवारी माँ हमारी
Dr. Alpa H.
💐प्रेम की राह पर-30💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हवा-बतास
आकाश महेशपुरी
शायद मैं गलत हूँ...
मनोज कर्ण
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
बुआ आई
राजेश 'ललित'
यह जिन्दगी है।
Taj Mohammad
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा (व्यंग्य)
श्री रमण
जय जगजननी ! मातु भवानी(भगवती गीत)
मनोज कर्ण
तितली रानी (बाल कविता)
Anamika Singh
सच
अंजनीत निज्जर
ग़ज़ल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सेमर
विकास वशिष्ठ *विक्की
कच्चे आम
Prabhat Ranjan
【6】** माँ **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
*!* कच्ची बुनियाद *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
ऐ वतन!
Anamika Singh
मां
हरीश सुवासिया
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH 9A
वो दिन भी बहुत खूबसूरत थे
Krishan Singh
विश्व विजेता कपिल देव
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
परिवार दिवस
Dr Archana Gupta
नारी है सम्मान।
Taj Mohammad
सागर बोला, सुन ज़रा
सूर्यकांत द्विवेदी
एक पत्र बच्चों के लिए
Manu Vashistha
एकाकीपन
Rekha Drolia
महेनतकश इंसान हैं ... नहीं कोई मज़दूर....
Dr. Alpa H.
बुलबुला
मनोज शर्मा
पिता खुशियों का द्वार है।
Taj Mohammad
Loading...