Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Apr 2024 · 1 min read

*** तूने क्या-क्या चुराया ***

*** तूने क्या-क्या चुराया ***
——————————–
तूने क्या-क्या चुराया, यही फेर है
चोरी करने का गुण जग में विशेष है
चोरी करनी फक़त तुझको आती नहीं
चोरी करना कन्हैया का उपदेश है
सिर्फ माखन चुराना ही मक़सद न था
चोरी करके दिखाया सभी चोर हैं

•••• कलमकार ••••
चुन्नू लाल गुप्ता – मऊ (उ.प्र.)

233 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्यार के सिलसिले
प्यार के सिलसिले
Basant Bhagawan Roy
রাধা মানে ভালোবাসা
রাধা মানে ভালোবাসা
Arghyadeep Chakraborty
क्या रावण अभी भी जिन्दा है
क्या रावण अभी भी जिन्दा है
Paras Nath Jha
National Cancer Day
National Cancer Day
Tushar Jagawat
"रौनक"
Dr. Kishan tandon kranti
मुस्किले, तकलीफे, परेशानियां कुछ और थी
मुस्किले, तकलीफे, परेशानियां कुछ और थी
Kumar lalit
सर्द रातें
सर्द रातें
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
प्रभु का प्राकट्य
प्रभु का प्राकट्य
Anamika Tiwari 'annpurna '
स्त्री ने कभी जीत चाही ही नही
स्त्री ने कभी जीत चाही ही नही
Aarti sirsat
ये तो मुहब्बत में
ये तो मुहब्बत में
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
2486.पूर्णिका
2486.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
रिशतों का उचित मुल्य 🌹🌹❤️🙏❤️
रिशतों का उचित मुल्य 🌹🌹❤️🙏❤️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
प्यार जिंदगी का
प्यार जिंदगी का
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
देश गान
देश गान
Prakash Chandra
*दादाजी (बाल कविता)*
*दादाजी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
ख़्वाब की होती ये
ख़्वाब की होती ये
Dr fauzia Naseem shad
■चंदे का धंधा■
■चंदे का धंधा■
*Author प्रणय प्रभात*
रात……!
रात……!
Sangeeta Beniwal
सबसे नालायक बेटा
सबसे नालायक बेटा
आकांक्षा राय
अन्तर्राष्टीय मज़दूर दिवस
अन्तर्राष्टीय मज़दूर दिवस
सत्य कुमार प्रेमी
कुदरत
कुदरत
Neeraj Agarwal
चेहरे की शिकन देख कर लग रहा है तुम्हारी,,,
चेहरे की शिकन देख कर लग रहा है तुम्हारी,,,
शेखर सिंह
प्रेम अपाहिज ठगा ठगा सा, कली भरोसे की कुम्हलाईं।
प्रेम अपाहिज ठगा ठगा सा, कली भरोसे की कुम्हलाईं।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
'उड़ान'
'उड़ान'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
अयोध्या धाम तुम्हारा तुमको पुकारे
अयोध्या धाम तुम्हारा तुमको पुकारे
Harminder Kaur
ईर्ष्या, द्वेष और तृष्णा
ईर्ष्या, द्वेष और तृष्णा
ओंकार मिश्र
तुम्हीं तुम हो.......!
तुम्हीं तुम हो.......!
Awadhesh Kumar Singh
हर बात हर शै
हर बात हर शै
हिमांशु Kulshrestha
प्यार का रिश्ता
प्यार का रिश्ता
Surinder blackpen
कुछ गम सुलगते है हमारे सीने में।
कुछ गम सुलगते है हमारे सीने में।
Taj Mohammad
Loading...