Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jul 2023 · 2 min read

तु शिव,तु हे त्रिकालदर्शी

ॐ महाकाल
जय त्रिकाल
ॐ शिव शंकर
जय भोले नाथ

तु हे त्रिकालदर्शी
तेरे ही नाम से घुमे है धरती।
ब्रह्माण्ड तेरे अधीन
तेरे ही इशारें से सारी दुनिया है चलती।

शिव महिमा का बखान सारी दुनिया है करती
शिव तेरे तेजस से प्रकाशमय है ये ब्रह्माण्ड और धरती
शिव ज्योतिर्लिंगों की सारी दुनिया पूजा है करती
शिव क्रोध से ज्वलित है, ये ब्रह्माण्ड,सूर्य और धरती
पृथ्वी के हर जन-जन में ज्वलित है तेरी ही शक्ति।

तु शिव
तु हे त्रिकाल दर्शी
तेरे ही नाम से गुुँजें है धरती।
ब्रह्माण्ड तेरे अधीन
तेरे ही इशारे से, सारी दुनिया है चलती।

सर्वशून्य काल शिव मेें समाया
शान्ति का कण शिव तुझी से निकलकर आया
धूप और छाया प्राकृतिक रूप तुम्ही से है पाया
ना कोई देव ना देवता तेरेे समुख ही पाया
जिसने जपा शिव नाम तेरा
सर्व आनन्द उसने उसी में है पाया।

तु शिव,
तु हे त्रिकाल दर्शी
तेरी ही कृपा से घूमे हे धरती
चारों दिशाऐं तुझी में समाये
तेरा बखान करती ये सारी जन शक्ति
तु हे त्रिकाल दर्शी
तेरे ही गुण-गान से गुँजें हे धरती।

तु शिव, तु त्रिकाल, तु महाकाल
सब नाम तेरा
हरिद्वार, काशी, अमरनाथ, केदारनाथ
प्रसिध्द धाम तेरा
चाहे जाऔ जहा भी
वही भोले होता जय-जय-कार तेरा
दुनिया के हर कोने में गुँजें है
भोले नाम तेरा
सारी दुनिया तेरा बखान करती।

तु शिव
तु हे त्रिकालदर्शी
तेरी ही कृपा से घूमे है धरती।

शिव…
स्वामी भक्त तेरा
करें मन्नते बार-बार
दे तु सब को खुशियाँँ
सुखी हो सारा संसार
कब यहाँ तुने किसकी
किस्मत बदल दी।

तुु शिव
तु हे त्रिकालदर्शी
तेरे ही नाम से गुँजेें है धरती।
तेरा बखान सारी दुनिया है करती
भोले तेरे नाम से गुँजे है अम्बर और धरती।
** ** **
🥀Swami Ganganiya🥀

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 813 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#आज_की_कविता :-
#आज_की_कविता :-
*Author प्रणय प्रभात*
आदिपुरुष आ बिरोध
आदिपुरुष आ बिरोध
Acharya Rama Nand Mandal
*कॉंवड़ियों को कीजिए, झुककर सहज प्रणाम (कुंडलिया)*
*कॉंवड़ियों को कीजिए, झुककर सहज प्रणाम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
दंगे-फसाद
दंगे-फसाद
Shekhar Chandra Mitra
पितृ दिवस की शुभकामनाएं
पितृ दिवस की शुभकामनाएं
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
*......इम्तहान बाकी है.....*
*......इम्तहान बाकी है.....*
Naushaba Suriya
दिल की दहलीज़ पर जब भी कदम पड़े तेरे।
दिल की दहलीज़ पर जब भी कदम पड़े तेरे।
Phool gufran
मोबाइल फोन
मोबाइल फोन
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
शीर्षक : पायजामा (लघुकथा)
शीर्षक : पायजामा (लघुकथा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
जिनमें बिना किसी विरोध के अपनी गलतियों
जिनमें बिना किसी विरोध के अपनी गलतियों
Paras Nath Jha
बस मुझे महसूस करे
बस मुझे महसूस करे
Pratibha Pandey
जीवन
जीवन
Monika Verma
फितरत
फितरत
Dr. Seema Varma
ये रंगा रंग ये कोतुहल                           विक्रम कु० स
ये रंगा रंग ये कोतुहल विक्रम कु० स
Vikram soni
A Beautiful Mind
A Beautiful Mind
Dhriti Mishra
“बिरहनी की तड़प”
“बिरहनी की तड़प”
DrLakshman Jha Parimal
कोहरा
कोहरा
Ghanshyam Poddar
इंसान बनने के लिए
इंसान बनने के लिए
Mamta Singh Devaa
"दो नावों पर"
Dr. Kishan tandon kranti
इश्क़ छूने की जरूरत नहीं।
इश्क़ छूने की जरूरत नहीं।
Rj Anand Prajapati
ब्रांड 'चमार' मचा रहा, चारों तरफ़ धमाल
ब्रांड 'चमार' मचा रहा, चारों तरफ़ धमाल
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
2728.*पूर्णिका*
2728.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अब कभी तुमको खत,हम नहीं लिखेंगे
अब कभी तुमको खत,हम नहीं लिखेंगे
gurudeenverma198
उदासी
उदासी
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
शिव विनाशक,
शिव विनाशक,
shambhavi Mishra
आंखों को मल गए
आंखों को मल गए
Dr fauzia Naseem shad
तोड देना वादा,पर कोई वादा तो कर
तोड देना वादा,पर कोई वादा तो कर
Ram Krishan Rastogi
मेरे विचार
मेरे विचार
Anju
दीदार
दीदार
Vandna thakur
12. *नारी- स्थिति*
12. *नारी- स्थिति*
Dr Shweta sood
Loading...