Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Apr 2023 · 1 min read

तुम

सांझ ढलती रही दिन भी निकलता ही रहा
स्पंदन भी हृदय में बरसों से बना ही रहा
किरण बनके जबसे आई हो दिनकर की तुम
अब तो हरदम प्रदीप्त मेरा संसार भी हो रहा

संजय श्रीवास्तव
11=4=2023

Language: Hindi
192 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from इंजी. संजय श्रीवास्तव
View all
You may also like:
चोर उचक्के बेईमान सब, सेवा करने आए
चोर उचक्के बेईमान सब, सेवा करने आए
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
एक हैसियत
एक हैसियत
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
** मंजिलों की तरफ **
** मंजिलों की तरफ **
surenderpal vaidya
पर्यावरण सम्बन्धी स्लोगन
पर्यावरण सम्बन्धी स्लोगन
Kumud Srivastava
😊आज का सच😊
😊आज का सच😊
*प्रणय प्रभात*
एक सपना
एक सपना
Punam Pande
विधा:
विधा:"चन्द्रकान्ता वर्णवृत्त" मापनी:212-212-2 22-112-122
rekha mohan
बिखरे ख़्वाबों को समेटने का हुनर रखते है,
बिखरे ख़्वाबों को समेटने का हुनर रखते है,
डी. के. निवातिया
"गौरतलब"
Dr. Kishan tandon kranti
जिधर भी देखो , हर तरफ़ झमेले ही झमेले है,
जिधर भी देखो , हर तरफ़ झमेले ही झमेले है,
_सुलेखा.
बस फेर है नज़र का हर कली की एक अपनी ही बेकली है
बस फेर है नज़र का हर कली की एक अपनी ही बेकली है
Atul "Krishn"
करगिल के वीर
करगिल के वीर
Shaily
खर्राटा
खर्राटा
Santosh kumar Miri
मत मन को कर तू उदास
मत मन को कर तू उदास
gurudeenverma198
व्यक्ति को ख्वाब भी वैसे ही आते है जैसे उनके ख्यालात होते है
व्यक्ति को ख्वाब भी वैसे ही आते है जैसे उनके ख्यालात होते है
Rj Anand Prajapati
*हम बच्चे हिंदुस्तान के { बालगीतिका }*
*हम बच्चे हिंदुस्तान के { बालगीतिका }*
Ravi Prakash
दोस्ती के नाम.....
दोस्ती के नाम.....
Naushaba Suriya
डा. अम्बेडकर बुद्ध से बड़े थे / पुस्तक परिचय
डा. अम्बेडकर बुद्ध से बड़े थे / पुस्तक परिचय
Dr MusafiR BaithA
गरीबी में सौन्दर्य है।
गरीबी में सौन्दर्य है।
Acharya Rama Nand Mandal
किस पथ पर उसको जाना था
किस पथ पर उसको जाना था
Mamta Rani
श्री श्याम भजन
श्री श्याम भजन
Khaimsingh Saini
सत्य, अहिंसा, त्याग, तप, दान, दया की खान।
सत्य, अहिंसा, त्याग, तप, दान, दया की खान।
जगदीश शर्मा सहज
जो होता है सही  होता  है
जो होता है सही होता है
Anil Mishra Prahari
//सुविचार//
//सुविचार//
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
कैसे देख पाओगे
कैसे देख पाओगे
ओंकार मिश्र
जता दूँ तो अहसान लगता है छुपा लूँ तो गुमान लगता है.
जता दूँ तो अहसान लगता है छुपा लूँ तो गुमान लगता है.
शेखर सिंह
दिल में दबे कुछ एहसास है....
दिल में दबे कुछ एहसास है....
Harminder Kaur
शैलजा छंद
शैलजा छंद
Subhash Singhai
तुमसे बेहद प्यार करता हूँ
तुमसे बेहद प्यार करता हूँ
हिमांशु Kulshrestha
SC/ST HELPLINE NUMBER 14566
SC/ST HELPLINE NUMBER 14566
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
Loading...