Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Mar 2019 · 1 min read

तुम लफ़्ज़ों से बेगाने रहे

तुम लफ़्ज़ों से बेगाने रहे
हम धड़कन से बेगाने रहे

ग़र कभी हमें होश न रहा
अपने भी हमसे बेगाने रहे

ज़िंदगी की डोर को बांधे
ज़िंदगी से हम बेगाने रहे

मायूस ज़िंदगी की गली में
गुम ख़्यालों से बेगाने रहे

तुम्हे पढ़ा ज़र्रा ज़र्रा हर्फ़ हर्फ़
सब जान के तुम बेगाने रहे

दिल के डोर को तुम मोड़ दो
हम अपने अक्स से बेगाने रहे

तेरा साथ ग़र हो ज़माने में
हम भी ज़माने से बेगाने रहे

-आकिब जावेद

2 Likes · 189 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Akib Javed
View all
You may also like:
6. शहर पुराना
6. शहर पुराना
Rajeev Dutta
चलती है जिन्दगी
चलती है जिन्दगी
डॉ. शिव लहरी
तू ही हमसफर, तू ही रास्ता, तू ही मेरी मंजिल है,
तू ही हमसफर, तू ही रास्ता, तू ही मेरी मंजिल है,
Rajesh Kumar Arjun
आपको देखते ही मेरे निगाहें आप पर आके थम जाते हैं
आपको देखते ही मेरे निगाहें आप पर आके थम जाते हैं
नव लेखिका
जो लम्हें प्यार से जिया जाए,
जो लम्हें प्यार से जिया जाए,
Buddha Prakash
इंसान समाज में रहता है चाहे कितना ही दुनिया कह ले की तुलना न
इंसान समाज में रहता है चाहे कितना ही दुनिया कह ले की तुलना न
पूर्वार्थ
किसी का यकीन
किसी का यकीन
Dr fauzia Naseem shad
* संस्कार *
* संस्कार *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"संघर्ष "
Yogendra Chaturwedi
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
हे परम पिता !
हे परम पिता !
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*शादी के पहले, शादी के बाद*
*शादी के पहले, शादी के बाद*
Dushyant Kumar
2885.*पूर्णिका*
2885.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
खुशबू बनके हर दिशा बिखर जाना है
खुशबू बनके हर दिशा बिखर जाना है
VINOD CHAUHAN
जब मां भारत के सड़कों पर निकलता हूं और उस पर जो हमे भयानक गड
जब मां भारत के सड़कों पर निकलता हूं और उस पर जो हमे भयानक गड
Rj Anand Prajapati
जीवन में प्राथमिकताओं का तय किया जाना बेहद ज़रूरी है,अन्यथा
जीवन में प्राथमिकताओं का तय किया जाना बेहद ज़रूरी है,अन्यथा
Shweta Soni
पतंग
पतंग
अलका 'भारती'
*परिस्थितियॉं हमेशा ही, नया कुछ मोड़ लेती हैं (मुक्तक)*
*परिस्थितियॉं हमेशा ही, नया कुछ मोड़ लेती हैं (मुक्तक)*
Ravi Prakash
यकीन
यकीन
Sidhartha Mishra
सब कुछ बदल गया,
सब कुछ बदल गया,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
इल्म
इल्म
Utkarsh Dubey “Kokil”
विधाता छंद
विधाता छंद
डॉ.सीमा अग्रवाल
कौन किसके बिन अधूरा है
कौन किसके बिन अधूरा है
Ram Krishan Rastogi
💐अज्ञात के प्रति-119💐
💐अज्ञात के प्रति-119💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तुम - दीपक नीलपदम्
तुम - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
✍️रवीश जी के लिए...
✍️रवीश जी के लिए...
'अशांत' शेखर
अपना घर फूंकने वाला शायर
अपना घर फूंकने वाला शायर
Shekhar Chandra Mitra
हे गुरुवर तुम सन्मति मेरी,
हे गुरुवर तुम सन्मति मेरी,
Kailash singh
मन की दुनिया अजब निराली
मन की दुनिया अजब निराली
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हर एक चेहरा निहारता
हर एक चेहरा निहारता
goutam shaw
Loading...