Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Mar 1, 2019 · 1 min read

तुम लफ़्ज़ों से बेगाने रहे

तुम लफ़्ज़ों से बेगाने रहे
हम धड़कन से बेगाने रहे

ग़र कभी हमें होश न रहा
अपने भी हमसे बेगाने रहे

ज़िंदगी की डोर को बांधे
ज़िंदगी से हम बेगाने रहे

मायूस ज़िंदगी की गली में
गुम ख़्यालों से बेगाने रहे

तुम्हे पढ़ा ज़र्रा ज़र्रा हर्फ़ हर्फ़
सब जान के तुम बेगाने रहे

दिल के डोर को तुम मोड़ दो
हम अपने अक्स से बेगाने रहे

तेरा साथ ग़र हो ज़माने में
हम भी ज़माने से बेगाने रहे

-आकिब जावेद

2 Likes · 98 Views
You may also like:
स्मृति : पंडित प्रकाश चंद्र जी
Ravi Prakash
चार
Vikas Sharma'Shivaaya'
*आचार्य बृहस्पति और उनका काव्य*
Ravi Prakash
अपनी आँखों से ........................................
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
कण-कण तेरे रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
दिल से जियो।
Taj Mohammad
शिक्षक को शिक्षण करने दो
Sanjay Narayan
* आडे तिरछे अनुप्राण *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
प्यार का अलख
DESH RAJ
लोकसभा की दर्शक-दीर्घा में एक दिन: 8 जुलाई 1977
Ravi Prakash
✍️नफरत की पाठशाला✍️
'अशांत' शेखर
सारे यार देख लिए..
Dr. Meenakshi Sharma
तपिश
SEEMA SHARMA
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
हवाई जहाज
Buddha Prakash
दो पल मोहब्बत
श्री रमण 'श्रीपद्'
पापा आप बहुत याद आते हो।
Taj Mohammad
मां ‌धरती
AMRESH KUMAR VERMA
जीवन की तलाश
Taran Singh Verma
भुलाने की कोशिश में तुझे याद कर जाता हूँ
Er. M. Kumar
शुभ मुहूर्त
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मां के तट पर
जगदीश लववंशी
कभी-कभी आते जीवन में...
डॉ.सीमा अग्रवाल
अखबार ए खास
AJAY AMITABH SUMAN
वो पत्थर
shabina. Naaz
सावन का मौसम आया
Anamika Singh
✍️मुझे तेरी तलाश नहीं✍️
'अशांत' शेखर
तुमने वफा न निभाया
Anamika Singh
कैसा इम्तिहान है।
Taj Mohammad
अब कहां कोई।
Taj Mohammad
Loading...