Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 May 2023 · 1 min read

कभी भूल से भी तुम आ जाओ

हे, प्राण प्रिये, समझा जाओ
कभी,भूल से भी तुम आ जाओ

जगमग,जगमग उजियाला हो
न कलुष हो, न मन काला हो
तुम पीर भुलाकर वर्षों की
कभी, प्रेम सुधा बरसा जाओ
कभी भूल ……………………..

हृदय, फूट -फूट जो रोए हैं
मन के, तरंग जो सोये हैं
नीरस मलिन इस बस्ती में
कभी, उनको पुनः जगा जाओ
कभी भूल ………………………

सावन बन नयना बरस रहें
प्रियतम दर्शन को तरस रहें
तुम बिन सूना उर आंगन है
कभी,स्नेह के सुमन खिला जाओ
कभी भूल ……………………….

क़ैद सलाखों के वश हो
या,अंतस में अमावस हो
जीवन में पसरा अंधियारा
कभी,ज्योति के दीप जला जाओ
कभी भूल …………………………

बगिया सूनी है माली बिन
यादों में बीते कितने दिन
इन, ख़्वाब सजाये आंखों को
कभी,एक झलक दिखला जाओ
कभी भूल …………………………

अंखियां राह देख पथराई है
भूली – बिसरी याद आई है
वर्षों से प्यासी बिरहन की
कभी,आकर प्यास बुझा जाओ
कभी भूल ………………………..

•••• कलमकार ••••
चुन्नू लाल गुप्ता-मऊ (उ.प्र.)

2 Likes · 699 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बस फेर है नज़र का हर कली की एक अपनी ही बेकली है
बस फेर है नज़र का हर कली की एक अपनी ही बेकली है
Atul "Krishn"
"धीरे-धीरे"
Dr. Kishan tandon kranti
अपनी लेखनी नवापुरा के नाम ( कविता)
अपनी लेखनी नवापुरा के नाम ( कविता)
Praveen Sain
बिना बकरे वाली ईद आप सबको मुबारक़ हो।
बिना बकरे वाली ईद आप सबको मुबारक़ हो।
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
मित्रता
मित्रता
Shashi kala vyas
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
घर एक मंदिर🌷
घर एक मंदिर🌷
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
" मन भी लगे बवाली "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
कलियुग की सीता
कलियुग की सीता
Sonam Puneet Dubey
■ विनम्र निवेदन :--
■ विनम्र निवेदन :--
*प्रणय प्रभात*
भूल जा वह जो कल किया
भूल जा वह जो कल किया
gurudeenverma198
नये वर्ष का आगम-निर्गम
नये वर्ष का आगम-निर्गम
Ramswaroop Dinkar
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Godambari Negi
समस्त देशवाशियो को बाबा गुरु घासीदास जी की जन्म जयंती की हार
समस्त देशवाशियो को बाबा गुरु घासीदास जी की जन्म जयंती की हार
Ranjeet kumar patre
सुशील कुमार मोदी जी को विनम्र श्रद्धांजलि
सुशील कुमार मोदी जी को विनम्र श्रद्धांजलि
विक्रम कुमार
वो जो आए दुरुस्त आए
वो जो आए दुरुस्त आए
VINOD CHAUHAN
श्रंगार के वियोगी कवि श्री मुन्नू लाल शर्मा और उनकी पुस्तक
श्रंगार के वियोगी कवि श्री मुन्नू लाल शर्मा और उनकी पुस्तक " जिंदगी के मोड़ पर " : एक अध्ययन
Ravi Prakash
संघर्ष हमारा जीतेगा,
संघर्ष हमारा जीतेगा,
Shweta Soni
दामन भी
दामन भी
Dr fauzia Naseem shad
ایک سفر مجھ میں رواں ہے کب سے
ایک سفر مجھ میں رواں ہے کب سے
Simmy Hasan
वो वक्त कब आएगा
वो वक्त कब आएगा
Harminder Kaur
खुदा कि दोस्ती
खुदा कि दोस्ती
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अपना कोई वजूद हो, तो बताना मेरे दोस्त।
अपना कोई वजूद हो, तो बताना मेरे दोस्त।
Sanjay ' शून्य'
हिंदू धर्म आ हिंदू विरोध।
हिंदू धर्म आ हिंदू विरोध।
Acharya Rama Nand Mandal
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
फितरत
फितरत
Srishty Bansal
सच्चे देशभक्त ‘ लाला लाजपत राय ’
सच्चे देशभक्त ‘ लाला लाजपत राय ’
कवि रमेशराज
*सवाल*
*सवाल*
Naushaba Suriya
एक छोटी सी आश मेरे....!
एक छोटी सी आश मेरे....!
VEDANTA PATEL
भाथी के विलुप्ति के कगार पर होने के बहाने / MUSAFIR BAITHA
भाथी के विलुप्ति के कगार पर होने के बहाने / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
Loading...