Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 May 2023 · 1 min read

तुम मेरी किताबो की तरह हो,

तुम मेरी किताबो की तरह हो,
तुम सामने हो लेकिन बन्द हो।

विशाल बाबू

451 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*****देव प्रबोधिनी*****
*****देव प्रबोधिनी*****
Kavita Chouhan
खेत -खलिहान
खेत -खलिहान
नाथ सोनांचली
मन के घाव
मन के घाव
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
ना धर्म पर ना जात पर,
ना धर्म पर ना जात पर,
Gouri tiwari
*दुराचारी का अक्सर अंत, अपने आप होता है (मुक्तक)*
*दुराचारी का अक्सर अंत, अपने आप होता है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
जिंदगी भर की कहानी यही है
जिंदगी भर की कहानी यही है
Shweta Soni
जिंदगी के रंगमंच में हम सभी किरदार है
जिंदगी के रंगमंच में हम सभी किरदार है
Neeraj Agarwal
संकल्प
संकल्प
Vedha Singh
प्रेम के नाम पर मर मिटने वालों की बातें सुनकर हंसी आता है, स
प्रेम के नाम पर मर मिटने वालों की बातें सुनकर हंसी आता है, स
पूर्वार्थ
आई दिवाली कोरोना में
आई दिवाली कोरोना में
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दूसरों की राहों पर चलकर आप
दूसरों की राहों पर चलकर आप
Anil Mishra Prahari
सावन तब आया
सावन तब आया
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
गुरु और गुरू में अंतर
गुरु और गुरू में अंतर
Subhash Singhai
"जब आपका कोई सपना होता है, तो
Manoj Kushwaha PS
# कुछ देर तो ठहर जाओ
# कुछ देर तो ठहर जाओ
Koमल कुmari
#दोहा-
#दोहा-
*प्रणय प्रभात*
ईश ......
ईश ......
sushil sarna
मानवता
मानवता
विजय कुमार अग्रवाल
हास्य का प्रहार लोगों पर न करना
हास्य का प्रहार लोगों पर न करना
DrLakshman Jha Parimal
हमराही
हमराही
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
हर इक रंग बस प्यास बनकर आती है,
हर इक रंग बस प्यास बनकर आती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
2731.*पूर्णिका*
2731.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दो शब्द सही
दो शब्द सही
Dr fauzia Naseem shad
लक्ष्मी
लक्ष्मी
Bodhisatva kastooriya
माॅं की कशमकश
माॅं की कशमकश
Harminder Kaur
यहाँ सब काम हो जाते सही तदबीर जानो तो
यहाँ सब काम हो जाते सही तदबीर जानो तो
आर.एस. 'प्रीतम'
प्रदाता
प्रदाता
Dinesh Kumar Gangwar
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
तुम जब भी जमीन पर बैठो तो लोग उसे तुम्हारी औक़ात नहीं बल्कि
तुम जब भी जमीन पर बैठो तो लोग उसे तुम्हारी औक़ात नहीं बल्कि
Lokesh Sharma
सोचो जो बेटी ना होती
सोचो जो बेटी ना होती
लक्ष्मी सिंह
Loading...