Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jul 2022 · 1 min read

तुम न आये मगर..

तुम न आये मगर, राह तकती रही।
दर्द बढ़ता गया , आह भरती रही।
बाद इसके कहीं, मैं रहूँ ही नहीं,
इश्क़ की बेबसी, चाह बढ़ती रही।
-लक्ष्मी सिंह
नई दिल्ली

1 Like · 244 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
ज्ञान -दीपक
ज्ञान -दीपक
Pt. Brajesh Kumar Nayak
” आलोचनाओं से बचने का मंत्र “
” आलोचनाओं से बचने का मंत्र “
DrLakshman Jha Parimal
वो जो कहें
वो जो कहें
shabina. Naaz
शाम के ढलते
शाम के ढलते
manjula chauhan
ये आंखों से बहती अश्रुधरा ,
ये आंखों से बहती अश्रुधरा ,
ज्योति
वसंत की बहार।
वसंत की बहार।
Anil Mishra Prahari
मेरा शहर
मेरा शहर
विजय कुमार अग्रवाल
10) पूछा फूल से..
10) पूछा फूल से..
पूनम झा 'प्रथमा'
जीवन संघर्ष
जीवन संघर्ष
Raju Gajbhiye
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
मज़बूत होने में
मज़बूत होने में
Ranjeet kumar patre
काल भैरव की उत्पत्ति के पीछे एक पौराणिक कथा भी मिलती है. कहा
काल भैरव की उत्पत्ति के पीछे एक पौराणिक कथा भी मिलती है. कहा
Shashi kala vyas
मेरे सब्र की इंतहां न ले !
मेरे सब्र की इंतहां न ले !
ओसमणी साहू 'ओश'
A GIRL IN MY LIFE
A GIRL IN MY LIFE
SURYA PRAKASH SHARMA
॰॰॰॰॰॰यू॰पी की सैर॰॰॰॰॰॰
॰॰॰॰॰॰यू॰पी की सैर॰॰॰॰॰॰
Dr. Vaishali Verma
यादों के तराने
यादों के तराने
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
दिल तो पत्थर सा है मेरी जां का
दिल तो पत्थर सा है मेरी जां का
Monika Arora
एक मेरे सिवा तुम सबका ज़िक्र करती हो,मुझे
एक मेरे सिवा तुम सबका ज़िक्र करती हो,मुझे
Keshav kishor Kumar
मेरी हर सोच से आगे कदम तुम्हारे पड़े ।
मेरी हर सोच से आगे कदम तुम्हारे पड़े ।
Phool gufran
जो न कभी करते हैं क्रंदन, भले भोगते भोग
जो न कभी करते हैं क्रंदन, भले भोगते भोग
महेश चन्द्र त्रिपाठी
दिल के अरमान मायूस पड़े हैं
दिल के अरमान मायूस पड़े हैं
Harminder Kaur
रिश्तों को आते नहीं,
रिश्तों को आते नहीं,
sushil sarna
खुले आम जो देश को लूटते हैं।
खुले आम जो देश को लूटते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
ये दुनिया है कि इससे, सत्य सुना जाता नहीं है
ये दुनिया है कि इससे, सत्य सुना जाता नहीं है
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
3614.💐 *पूर्णिका* 💐
3614.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
"गरीबों की दिवाली"
Yogendra Chaturwedi
#लघु_कविता
#लघु_कविता
*प्रणय प्रभात*
किस्मत
किस्मत
Neeraj Agarwal
हक़ीक़त है
हक़ीक़त है
Dr fauzia Naseem shad
"अन्तरिक्ष यान"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...