Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Sep 2016 · 1 min read

“तुम कब आओगे” //ग़ज़ल//

बहर 2222 2222 222

हम रोतें बैठे है तेरी यादों में
तड़प रहें है भीगी-भीगी रातों में

तुम हुई हो जबसे ओझल नज़रो से
देख तस्वीर तेरी खोयें है ख्वाबों में

तुमबिन हर तरफ़ ग़मजदा है वो यारा
तुम कब आओगे बैठे है राहों में

दरम्यां सनम मिटा दो क्यों दूर खडे हो
आ करके पास मुझे भर लो बाहों में

मेरी मेहबुबा दिल न जला नजदिक आ
डूब मुझे जाने दे नीली आंखों में

✍दुष्यंत कुमार पटेल”चित्रांश”✍

773 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
विश्वास का धागा
विश्वास का धागा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
याद रे
याद रे
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
सेहत या स्वाद
सेहत या स्वाद
विजय कुमार अग्रवाल
' नये कदम विश्वास के '
' नये कदम विश्वास के '
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
छोड दो उनको उन के हाल पे.......अब
छोड दो उनको उन के हाल पे.......अब
shabina. Naaz
प्यारा सा गांव
प्यारा सा गांव
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जीवन अगर आसान नहीं
जीवन अगर आसान नहीं
Dr.Rashmi Mishra
💐प्रेम कौतुक-396💐
💐प्रेम कौतुक-396💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
चंद्रयान ३
चंद्रयान ३
प्रदीप कुमार गुप्ता
आपकी अच्छाईया बेशक अदृष्य हो सकती है
आपकी अच्छाईया बेशक अदृष्य हो सकती है
Rituraj shivem verma
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*कांच से अल्फाज़* पर समीक्षा *श्रीधर* जी द्वारा समीक्षा
*कांच से अल्फाज़* पर समीक्षा *श्रीधर* जी द्वारा समीक्षा
Surinder blackpen
बरसात हुई
बरसात हुई
Surya Barman
फितरत
फितरत
Dr fauzia Naseem shad
आदि विद्रोही-स्पार्टकस
आदि विद्रोही-स्पार्टकस
Shekhar Chandra Mitra
दोहावली
दोहावली
Prakash Chandra
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
कितने दिलों को तोड़ती है कमबख्त फरवरी
कितने दिलों को तोड़ती है कमबख्त फरवरी
Vivek Pandey
■ दोहा देव दीवाली का।
■ दोहा देव दीवाली का।
*Author प्रणय प्रभात*
*मृत्युलोक में देह काल ने, कुतर-कुतर कर खाई (गीत)*
*मृत्युलोक में देह काल ने, कुतर-कुतर कर खाई (गीत)*
Ravi Prakash
आओ हम सब मिल कर गाएँ ,
आओ हम सब मिल कर गाएँ ,
Lohit Tamta
किस किस्से का जिक्र
किस किस्से का जिक्र
Bodhisatva kastooriya
कुछ काम करो , कुछ काम करो
कुछ काम करो , कुछ काम करो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आपकी तस्वीर ( 7 of 25 )
आपकी तस्वीर ( 7 of 25 )
Kshma Urmila
'हिंदी'
'हिंदी'
पंकज कुमार कर्ण
तारीफ किसकी करूं
तारीफ किसकी करूं
कवि दीपक बवेजा
गुरु कृपा
गुरु कृपा
Satish Srijan
“पसरल अछि अकर्मण्यता”
“पसरल अछि अकर्मण्यता”
DrLakshman Jha Parimal
आत्महत्या कर के भी, मैं जिंदा हूं,
आत्महत्या कर के भी, मैं जिंदा हूं,
Pramila sultan
3217.*पूर्णिका*
3217.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...