Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Apr 2024 · 1 min read

तुम्हे तो अभी घर का रिवाज भी तो निभाना है

तुम्हे तो अभी घर का रिवाज भी तो निभाना है
अभी तो तुम्हे मुझसे बहुत दूर जाना है

35 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शुभ रक्षाबंधन
शुभ रक्षाबंधन
डॉ.सीमा अग्रवाल
मुश्किलों पास आओ
मुश्किलों पास आओ
Dr. Meenakshi Sharma
उलझ नहीं पाते
उलझ नहीं पाते
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
सरस्वती वंदना
सरस्वती वंदना
Neeraj Mishra " नीर "
शीर्षक – ऐ बहती हवाएं
शीर्षक – ऐ बहती हवाएं
Sonam Puneet Dubey
जब कोई महिला किसी के सामने पूर्णतया नग्न हो जाए तो समझिए वह
जब कोई महिला किसी के सामने पूर्णतया नग्न हो जाए तो समझिए वह
Rj Anand Prajapati
मां सिद्धिदात्री
मां सिद्धिदात्री
Mukesh Kumar Sonkar
मात्र क्षणिक आनन्द को,
मात्र क्षणिक आनन्द को,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
I love you
I love you
Otteri Selvakumar
नम्रता
नम्रता
ओंकार मिश्र
Karma
Karma
Sridevi Sridhar
दोस्ती में हर ग़म को भूल जाते हैं।
दोस्ती में हर ग़म को भूल जाते हैं।
Phool gufran
इतना ना हमे सोचिए
इतना ना हमे सोचिए
The_dk_poetry
संवेदनहीन प्राणियों के लिए अपनी सफाई में कुछ कहने को होता है
संवेदनहीन प्राणियों के लिए अपनी सफाई में कुछ कहने को होता है
Shweta Soni
😊😊😊
😊😊😊
*Author प्रणय प्रभात*
अनजान लड़का
अनजान लड़का
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
"काश"
Dr. Kishan tandon kranti
राम-राज्य
राम-राज्य
Bodhisatva kastooriya
नयी - नयी लत लगी है तेरी
नयी - नयी लत लगी है तेरी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
*आज छपा जो समाचार वह, कल बासी हो जाता है (हिंदी गजल)*
*आज छपा जो समाचार वह, कल बासी हो जाता है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
3425⚘ *पूर्णिका* ⚘
3425⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
हाजीपुर
हाजीपुर
Hajipur
इतनी के बस !
इतनी के बस !
Shyam Vashishtha 'शाहिद'
गणतंत्र दिवस
गणतंत्र दिवस
विजय कुमार अग्रवाल
वक्त को कौन बांध सका है
वक्त को कौन बांध सका है
Surinder blackpen
कोई चोर है...
कोई चोर है...
Srishty Bansal
सोना जेवर बनता है, तप जाने के बाद।
सोना जेवर बनता है, तप जाने के बाद।
आर.एस. 'प्रीतम'
वर्तमान गठबंधन राजनीति के समीकरण - एक मंथन
वर्तमान गठबंधन राजनीति के समीकरण - एक मंथन
Shyam Sundar Subramanian
जीवन में ख़ुशी
जीवन में ख़ुशी
Dr fauzia Naseem shad
कभी मिलो...!!!
कभी मिलो...!!!
Kanchan Khanna
Loading...