Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Nov 2022 · 1 min read

💐💐तुम्हें देखा तो बहुत सुकून मिला💐💐

तुम्हें देखा तो बहुत सुकून मिला,
तुम्हें देखा तो बहुत सुकून मिला,
जहाँ की बातों पर गौर क्यों है?
तेरी मुस्कुराहट का शोर क्यों है?
हम तो चलेगें प्रेम की राह पर,
याद रहेंगे जरूर किसी हिस्से में,
अब न बचा कोई शिकवा और गिला,
तुम्हें देखा तो बहुत सुकून मिला।।1।।
अन्दर ही अन्दर रो रहा दिल है,
उसकी तस्वीर न बना सकोगे तुम,
हैरान हूँ मेरा ग़म तुम्हें खुशी देता,
अब सहना नहीं इतना आसान,
झूठा इज़हार हुआ न हाथ हिला,
तुम्हें देखा तो बहुत सुकून मिला।।2।।
मेरी दास्ताँ को हक़ीक़त समझो,
मेरे दिल को अपना दिल समझो,
थम सी गई है मेरे सफ़र की राह,
न मिले क्यों?जानने की बची है चाह,
छोड़ दिया क्यों तुमने यह सिलसिला,
तुम्हें देखा तो बहुत सुकून मिला।।3।।
तुम ग़र सम्भालो मुझे तो मिलूँ,
तुम मुझे,मैं तुझे आज़माने के लिए मिलूँ,
रंगत खत्म हुई तेरी आजमाइश से,
क्यों तेरे अजनबी सहारे के लिए मिलूँ?
तुम्हें देखा तो मेरे दिल में दिया जला,
तुम्हें देखा तो बहुत सुकून मिला।।4।।

©®अभिषेक: पाराशरः

Language: Hindi
40 Views
You may also like:
*मेघ गोरे हुए साँवरे* पुस्तक की समीक्षा धीरज श्रीवास्तव जी द्वारा
*मेघ गोरे हुए साँवरे* पुस्तक की समीक्षा धीरज श्रीवास्तव जी...
Dr Archana Gupta
गीत हरदम प्रेम का सदा गुनगुनाते रहें
गीत हरदम प्रेम का सदा गुनगुनाते रहें
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
💐प्रेम कौतुक-312💐
💐प्रेम कौतुक-312💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पुरानी हवेली
पुरानी हवेली
Shekhar Chandra Mitra
अजनबी सा लगता है मुझे अब हर एक शहर
अजनबी सा लगता है मुझे अब हर एक शहर
'अशांत' शेखर
# पैगाम - ए - दिवाली .....
# पैगाम - ए - दिवाली .....
Chinta netam " मन "
वक़्त के हिस्से में भी
वक़्त के हिस्से में भी
Dr fauzia Naseem shad
अतिथि तुम कब जाओगे
अतिथि तुम कब जाओगे
Gouri tiwari
ए रब मेरे मरने की खबर उस तक पहुंचा देना
ए रब मेरे मरने की खबर उस तक पहुंचा देना
श्याम सिंह बिष्ट
ये दुनियाँ
ये दुनियाँ
Anamika Singh
*नि:स्वार्थ विद्यालय सृजित जो कर गए उनको नमन (गीत)*
*नि:स्वार्थ विद्यालय सृजित जो कर गए उनको नमन (गीत)*
Ravi Prakash
जाने कितने ख़त
जाने कितने ख़त
Ranjana Verma
Affection couldn't be found in shallow spaces.
Affection couldn't be found in shallow spaces.
Manisha Manjari
खंड: 1
खंड: 1
Rambali Mishra
और मैं बहरी हो गई
और मैं बहरी हो गई
Surinder blackpen
पुनर्जन्म एक ध्रुव सत्य] अध्याय ४
पुनर्जन्म एक ध्रुव सत्य] अध्याय ४ "विदेशों में पुनर्जन्म की...
Pravesh Shinde
💐दुधई💐
💐दुधई💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
देख सिसकता भोला बचपन...
देख सिसकता भोला बचपन...
डॉ.सीमा अग्रवाल
नववर्ष
नववर्ष
अंकित शर्मा 'इषुप्रिय'
तेरी यादें
तेरी यादें
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
दादी मां की बहुत याद आई
दादी मां की बहुत याद आई
VINOD KUMAR CHAUHAN
हे माँ जानकी !
हे माँ जानकी !
Saraswati Bajpai
गुलाब के अलग हो जाने पर
गुलाब के अलग हो जाने पर
ruby kumari
■ कटाक्ष / सेल्फी
■ कटाक्ष / सेल्फी
*Author प्रणय प्रभात*
प्यार की बातें कर मेरे प्यारे
प्यार की बातें कर मेरे प्यारे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हाइकु: नवरात्रि पर्व!
हाइकु: नवरात्रि पर्व!
Prabhudayal Raniwal
डूब जाऊंगा मस्ती में, जरा सी शाम होने दो। मैं खुद ही टूट जाऊंगा मुझे नाकाम होने दो।
डूब जाऊंगा मस्ती में, जरा सी शाम होने दो। मैं...
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
जीवन का फलसफा/ध्येय यह हो...
जीवन का फलसफा/ध्येय यह हो...
Dr MusafiR BaithA
मेरे पृष्ठों को खोलोगे _यही संदेश पाओगे ।
मेरे पृष्ठों को खोलोगे _यही संदेश पाओगे ।
Rajesh vyas
आत्मविश्वास
आत्मविश्वास
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
Loading...