Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Nov 2022 · 1 min read

💐💐तुम्हें देखा तो बहुत सुकून मिला💐💐

तुम्हें देखा तो बहुत सुकून मिला,
तुम्हें देखा तो बहुत सुकून मिला,
जहाँ की बातों पर गौर क्यों है?
तेरी मुस्कुराहट का शोर क्यों है?
हम तो चलेगें प्रेम की राह पर,
याद रहेंगे जरूर किसी हिस्से में,
अब न बचा कोई शिकवा और गिला,
तुम्हें देखा तो बहुत सुकून मिला।।1।।
अन्दर ही अन्दर रो रहा दिल है,
उसकी तस्वीर न बना सकोगे तुम,
हैरान हूँ मेरा ग़म तुम्हें खुशी देता,
अब सहना नहीं इतना आसान,
झूठा इज़हार हुआ न हाथ हिला,
तुम्हें देखा तो बहुत सुकून मिला।।2।।
मेरी दास्ताँ को हक़ीक़त समझो,
मेरे दिल को अपना दिल समझो,
थम सी गई है मेरे सफ़र की राह,
न मिले क्यों?जानने की बची है चाह,
छोड़ दिया क्यों तुमने यह सिलसिला,
तुम्हें देखा तो बहुत सुकून मिला।।3।।
तुम ग़र सम्भालो मुझे तो मिलूँ,
तुम मुझे,मैं तुझे आज़माने के लिए मिलूँ,
रंगत खत्म हुई तेरी आजमाइश से,
क्यों तेरे अजनबी सहारे के लिए मिलूँ?
तुम्हें देखा तो मेरे दिल में दिया जला,
तुम्हें देखा तो बहुत सुकून मिला।।4।।

©®अभिषेक: पाराशरः

Language: Hindi
215 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बात सीधी थी
बात सीधी थी
Dheerja Sharma
पड़ जाएँ मिरे जिस्म पे लाख़ आबले 'अकबर'
पड़ जाएँ मिरे जिस्म पे लाख़ आबले 'अकबर'
Dr Tabassum Jahan
बाज़ार में क्लीवेज : क्लीवेज का बाज़ार / MUSAFIR BAITHA
बाज़ार में क्लीवेज : क्लीवेज का बाज़ार / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
Time Travel: Myth or Reality?
Time Travel: Myth or Reality?
Shyam Sundar Subramanian
चलो चाय पर करने चर्चा।
चलो चाय पर करने चर्चा।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
क्यों गए थे ऐसे आतिशखाने में ,
क्यों गए थे ऐसे आतिशखाने में ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
मैं कौन हूं
मैं कौन हूं
प्रेमदास वसु सुरेखा
किसी के साथ की गयी नेकी कभी रायगां नहीं जाती
किसी के साथ की गयी नेकी कभी रायगां नहीं जाती
shabina. Naaz
संग चले जीवन की राह पर हम
संग चले जीवन की राह पर हम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आशा
आशा
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
हर किसी के पास एक जैसी ज़िंदगी की घड़ी है, फिर एक तो आराम से
हर किसी के पास एक जैसी ज़िंदगी की घड़ी है, फिर एक तो आराम से
पूर्वार्थ
23/77.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/77.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चुनावी रिश्ता
चुनावी रिश्ता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कि हम मजदूर है
कि हम मजदूर है
gurudeenverma198
डर एवं डगर
डर एवं डगर
Astuti Kumari
अब वो मुलाकात कहाँ
अब वो मुलाकात कहाँ
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
पूर्व दिशा से सूरज रोज निकलते हो
पूर्व दिशा से सूरज रोज निकलते हो
Dr Archana Gupta
दोहा निवेदन
दोहा निवेदन
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
*पूरी करके देह सब, जाते हैं परलोक【कुंडलिया】*
*पूरी करके देह सब, जाते हैं परलोक【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
मुद्दत से तेरे शहर में आना नहीं हुआ
मुद्दत से तेरे शहर में आना नहीं हुआ
Shweta Soni
नौकरी (१)
नौकरी (१)
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
अमर काव्य
अमर काव्य
Pt. Brajesh Kumar Nayak
अमावस्या में पता चलता है कि पूर्णिमा लोगो राह दिखाती है जबकि
अमावस्या में पता चलता है कि पूर्णिमा लोगो राह दिखाती है जबकि
Rj Anand Prajapati
हरियाणा में हो गया
हरियाणा में हो गया
*प्रणय प्रभात*
वक्त के थपेड़ो ने जीना सीखा दिया
वक्त के थपेड़ो ने जीना सीखा दिया
Pramila sultan
#डॉ अरुण कुमार शास्त्री
#डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सिंहासन पावन करो, लम्बोदर भगवान ।
सिंहासन पावन करो, लम्बोदर भगवान ।
जगदीश शर्मा सहज
एहसास
एहसास
Er.Navaneet R Shandily
घनाक्षरी छंदों के नाम , विधान ,सउदाहरण
घनाक्षरी छंदों के नाम , विधान ,सउदाहरण
Subhash Singhai
I met Myself!
I met Myself!
कविता झा ‘गीत’
Loading...