Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Oct 2022 · 1 min read

तुम्हारी शोख़ अदाएं

तुम्हारी शोख़ अदाएं खुदा बचाए हमें
तुम्हारी शोख़ अदाएं………………..
मृग से नयना तुम्हारे बहुत निराले हैं
इन्ही से दिल में हमारे हुए उजाले हैं
ये दिल पे तीर चलाएं खुदा बचाए हमें
तुम्हारी शोख़ अदाएं………………..
मोरनी सी चाल तुम्हारी सदके जाएं
तुम चलो तो यूँ बिजलियाँ गिर जाएं
ये दिल को धड़काएं खुदा बचाए हमें
तुम्हारी शोख़ अदाएं……………….
चाँद से मुख पे ये जुल्फ घटाएं जैसे
फूल भी देखकर’विनोद ‘शर्माएं ऐसे
ये दिल चुरा ले जाएं खुदा बचाए हमें
तुम्हारी शोख़ अदाएं……………….

स्वरचित
( विनोद चौहान )

4 Likes · 209 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
उपमान (दृृढ़पद ) छंद - 23 मात्रा , ( 13- 10) पदांत चौकल
उपमान (दृृढ़पद ) छंद - 23 मात्रा , ( 13- 10) पदांत चौकल
Subhash Singhai
फुर्सत से आईने में जब तेरा दीदार किया।
फुर्सत से आईने में जब तेरा दीदार किया।
Phool gufran
गज़ल
गज़ल
करन ''केसरा''
सकारात्मक पुष्टि
सकारात्मक पुष्टि
पूर्वार्थ
स्त्री का प्रेम ना किसी का गुलाम है और ना रहेगा
स्त्री का प्रेम ना किसी का गुलाम है और ना रहेगा
प्रेमदास वसु सुरेखा
सारी फिज़ाएं छुप सी गई हैं
सारी फिज़ाएं छुप सी गई हैं
VINOD CHAUHAN
कड़वी बात~
कड़वी बात~
दिनेश एल० "जैहिंद"
*राजकली देवी: बड़ी बहू बड़े भाग्य*
*राजकली देवी: बड़ी बहू बड़े भाग्य*
Ravi Prakash
किताब
किताब
Sûrëkhâ
फूल
फूल
Neeraj Agarwal
धरा प्रकृति माता का रूप
धरा प्रकृति माता का रूप
Buddha Prakash
अब हम क्या करे.....
अब हम क्या करे.....
Umender kumar
जबकि ख़ाली हाथ जाना है सभी को एक दिन,
जबकि ख़ाली हाथ जाना है सभी को एक दिन,
Shyam Vashishtha 'शाहिद'
मिलन की वेला
मिलन की वेला
Dr.Pratibha Prakash
#जयहिंद
#जयहिंद
Rashmi Ranjan
**** मानव जन धरती पर खेल खिलौना ****
**** मानव जन धरती पर खेल खिलौना ****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
अच्छा स्वस्थ स्वच्छ विचार ही आपको आत्मनिर्भर बनाते है।
अच्छा स्वस्थ स्वच्छ विचार ही आपको आत्मनिर्भर बनाते है।
Rj Anand Prajapati
"विद्या"
Dr. Kishan tandon kranti
सृजन और पीड़ा
सृजन और पीड़ा
Shweta Soni
आगमन राम का सुनकर फिर से असुरों ने उत्पात किया।
आगमन राम का सुनकर फिर से असुरों ने उत्पात किया।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
फिर हो गया सबेरा,सारी रात खत्म,
फिर हो गया सबेरा,सारी रात खत्म,
Vishal babu (vishu)
भ्रम
भ्रम
Kanchan Khanna
नशे में फिजा इस कदर हो गई।
नशे में फिजा इस कदर हो गई।
लक्ष्मी सिंह
जीवन को जीतती हैं
जीवन को जीतती हैं
Dr fauzia Naseem shad
वो क्या देंगे साथ है,
वो क्या देंगे साथ है,
sushil sarna
धनमद
धनमद
Sanjay ' शून्य'
नव प्रबुद्ध भारती
नव प्रबुद्ध भारती
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सत्य क्या है ?
सत्य क्या है ?
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
सत्ता की हवस वाले राजनीतिक दलों को हराकर मुद्दों पर समाज को जिताना होगा
सत्ता की हवस वाले राजनीतिक दलों को हराकर मुद्दों पर समाज को जिताना होगा
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
Loading...