Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jun 2023 · 1 min read

तुम्हारी छवि…

तुम्हारी छवि…
मेरे समक्ष आयी तो लगा जैसे जीवन में,
किसी मनोहर प्रत्यूष का उदय हुआ है,
नैन इतने सुन्दर कि,
स्वंय को इनमें लीन कर लेने का मन करता है,
वर्षों से ह्रदय में छिपा हुआ प्रीत का राग, स्वर्णिम संगीत
आज बजने के लिये व्याकुल है,
कभी कभी रुक्मिणी का प्रेम ह्रदय पटल पर अंकित हो उठता है,
ऐसै में बस क्या कहूँ,
जी चाहता है कि तुम्हारे लवणत्व तथा कोमलता को,
बस निहारता ही रहूँ!!!
– उमर त्रिपाठी

+91 94574 78211

469 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जिंदगी का सफर
जिंदगी का सफर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"ईद-मिलन" हास्य रचना
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
किस क़दर गहरा रिश्ता रहा
किस क़दर गहरा रिश्ता रहा
हिमांशु Kulshrestha
1) आखिर क्यों ?
1) आखिर क्यों ?
पूनम झा 'प्रथमा'
अर्थार्जन का सुखद संयोग
अर्थार्जन का सुखद संयोग
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
* संसार में *
* संसार में *
surenderpal vaidya
कीलों की क्या औकात ?
कीलों की क्या औकात ?
Anand Sharma
रमेशराज की गीतिका छंद में ग़ज़लें
रमेशराज की गीतिका छंद में ग़ज़लें
कवि रमेशराज
घाव
घाव
अखिलेश 'अखिल'
मिर्जा पंडित
मिर्जा पंडित
Harish Chandra Pande
Ajj purani sadak se mulakat hui,
Ajj purani sadak se mulakat hui,
Sakshi Tripathi
विवाह मुस्लिम व्यक्ति से, कर बैठी नादान
विवाह मुस्लिम व्यक्ति से, कर बैठी नादान
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दो रंगों में दिखती दुनिया
दो रंगों में दिखती दुनिया
कवि दीपक बवेजा
उफ्फ्फ
उफ्फ्फ
Atul "Krishn"
बेटियां
बेटियां
Mukesh Kumar Sonkar
हम मोहब्बत की निशानियाँ छोड़ जाएंगे
हम मोहब्बत की निशानियाँ छोड़ जाएंगे
Dr Tabassum Jahan
गोलगप्पा/पानीपूरी
गोलगप्पा/पानीपूरी
लक्ष्मी सिंह
हार
हार
पूर्वार्थ
"गहरा रिश्ता"
Dr. Kishan tandon kranti
खाटू श्याम जी
खाटू श्याम जी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"एक ख्वाब टुटा था"
Lohit Tamta
चलते-फिरते लिखी गई है,ग़ज़ल
चलते-फिरते लिखी गई है,ग़ज़ल
Shweta Soni
फारसी के विद्वान श्री सैयद नवेद कैसर साहब से मुलाकात
फारसी के विद्वान श्री सैयद नवेद कैसर साहब से मुलाकात
Ravi Prakash
जो सब समझे वैसी ही लिखें वरना लोग अनदेखी कर देंगे!@परिमल
जो सब समझे वैसी ही लिखें वरना लोग अनदेखी कर देंगे!@परिमल
DrLakshman Jha Parimal
प्रेम की डोर सदैव नैतिकता की डोर से बंधती है और नैतिकता सत्क
प्रेम की डोर सदैव नैतिकता की डोर से बंधती है और नैतिकता सत्क
Sanjay ' शून्य'
कुदरत
कुदरत
Neeraj Agarwal
हे मेरे प्रिय मित्र
हे मेरे प्रिय मित्र
कृष्णकांत गुर्जर
जिस प्रकार सूर्य पृथ्वी से इतना दूर होने के बावजूद भी उसे अप
जिस प्रकार सूर्य पृथ्वी से इतना दूर होने के बावजूद भी उसे अप
Sukoon
होली, नौराते, गणगौर,
होली, नौराते, गणगौर,
*Author प्रणय प्रभात*
बेटिया विदा हो जाती है खेल कूदकर उसी आंगन में और बहू आते ही
बेटिया विदा हो जाती है खेल कूदकर उसी आंगन में और बहू आते ही
Ranjeet kumar patre
Loading...