Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jul 2016 · 1 min read

तुम्हारा तुम जानो

तुम्हारा तुम जानो जहां तक मेरा सवाल है हर रात्रि सोने से पहले और हर सुबह उठने से पहले तुम्हारा ख्याल जेहन में आ जाता है।
हर समय ये ख्याल दिलो दिमाग पर छाया रहता है कि तुम इतना दूर होते हुए भी दिल के आस पास हो

मदन मोहन सक्सेना

Language: Hindi
Tag: कविता
181 Views
You may also like:
एक प्रश्न
Aditya Prakash
हेलो पापा ! हेलो पापा !
Buddha Prakash
तप रहे हैं दिन घनेरे / (तपन का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
* चांद बोना पड गया *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
देख करके फूल उनको
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
गुरुर
Annu Gurjar
गुम होता अस्तित्व भाभी, दामाद, जीजा जी, पुत्र वधू का
Dr Meenu Poonia
नदी को बहने दो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कसूर किसका
Swami Ganganiya
बगीचे में फूलों को
Manoj Tanan
सुविचार
Godambari Negi
क्रांतिवीर हेडगेवार*
Ravi Prakash
मैं भगतसिंह बोल रहा हूं...
Shekhar Chandra Mitra
कहां पर
Dr fauzia Naseem shad
आंखों के दपर्ण में
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
माँ
आकाश महेशपुरी
कुण्डलिया
शेख़ जाफ़र खान
*"परशुराम के वंशज हैं"*
Deepak Kumar Tyagi
नहीं बचेगी जल विन मीन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
डर आजादी का
AJAY AMITABH SUMAN
दो पल का जिंदगानी...
AMRESH KUMAR VERMA
काश अगर तुम हमें समझ पाते
Writer_ermkumar
अखंड भारत की गौरव गाथा।
Taj Mohammad
'तिमिर पर ज्योति'🪔🪔
पंकज कुमार कर्ण
हरीतिमा स्वंहृदय में
Varun Singh Gautam
"फल"
Dushyant Kumar
# कभी कांटा , कभी गुलाब ......
Chinta netam " मन "
ऐ मां वो गुज़रा जमाना याद आता है।
Abhishek Pandey Abhi
तुम गर्म चाय तंदूरी हो
सन्तोष कुमार विश्वकर्मा 'सूर्य'
अगर तुम प्यार करते हो तो हिम्मत क्यों नहीं करते।...
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
Loading...