Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Mar 2023 · 1 min read

तुमसे ज्यादा और किसको, यहाँ प्यार हम करेंगे

तुमसे ज्यादा और किसको, यहाँ प्यार हम करेंगे।
तुम्हारे सिवा और किसको, यहाँ याद हम करेंगे।।
तुमसे ज्यादा और किसको——————।।

ख्याल और किसी का,आता नहीं है दिल में।
तेरा ही चेहरा बसा है, इन आँखों और दिल में।।
चाहेगा हमको कोई अगर, बात मगर तेरी हम करेंगे।
तुमसे ज्यादा और किसको—————–।।

देखों तुम इन खतों को, इनमें किया है जिक्र किसका।
यह जो चमन महका है, दिया है इसको नाम किसका।।
देखना तुम कभी भी, तुझमें ही खोये हम मिलेंगे।
तुमसे ज्यादा और किसको—————–।।

दोस्त तुम खुशनसीब हो, दिल ने चाहा है तुमको।
अपनी खुशी और सपनें, सिर्फ बनाया है तुमको।।
अपनी वसीहत में सब कुछ, तेरे ही नाम हम करेंगे।
तुमसे ज्यादा और किसको——————।।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
35 Views
You may also like:
ये राज़ किस से कहू ,ये बात कैसे बताऊं
ये राज़ किस से कहू ,ये बात कैसे बताऊं
Sonu sugandh
इश्क वो गुनाह है
इश्क वो गुनाह है
Surinder blackpen
समय का एक ही पल किसी के लिए सुख , किसी के लिए दुख , किसी के
समय का एक ही पल किसी के लिए सुख ,...
Seema Verma
अपनी नज़र में
अपनी नज़र में
Dr fauzia Naseem shad
फिर वो मेरी शख़्सियत को तराशने लगे है
फिर वो मेरी शख़्सियत को तराशने लगे है
'अशांत' शेखर
आरक्षण का दरिया
आरक्षण का दरिया
मनोज कर्ण
चरित्र
चरित्र
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
तेरे इश्क़ में।
तेरे इश्क़ में।
Taj Mohammad
कुंडलियाँ
कुंडलियाँ
प्रीतम श्रावस्तवी
ये लखनऊ है ज़नाब
ये लखनऊ है ज़नाब
Satish Srijan
मीठी-मीठी माँ / (नवगीत)
मीठी-मीठी माँ / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हम बिहार छी।
हम बिहार छी।
Acharya Rama Nand Mandal
Book of the day: अर्चना की कुण्डलियाँ (भाग-1)
Book of the day: अर्चना की कुण्डलियाँ (भाग-1)
Sahityapedia
गौरवमय पल....
गौरवमय पल....
डॉ.सीमा अग्रवाल
सुकरात के मुरीद
सुकरात के मुरीद
Shekhar Chandra Mitra
पी रहे ग़म के जाम आदमी
पी रहे ग़म के जाम आदमी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
रहस्यमय तहखाना - कहानी
रहस्यमय तहखाना - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
तुम बिन आवे ना मोय निंदिया
तुम बिन आवे ना मोय निंदिया
Ram Krishan Rastogi
गज़ल
गज़ल
Mahendra Narayan
घर
घर
Sushil chauhan
!!दर्पण!!
!!दर्पण!!
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
The day I decided to hold your hand.
The day I decided to hold your hand.
Manisha Manjari
कनुप्रिया
कनुप्रिया
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
यह कैसा तुमने जादू मुझपे किया
यह कैसा तुमने जादू मुझपे किया
gurudeenverma198
मोबाईल की लत
मोबाईल की लत
शांतिलाल सोनी
समक्ष
समक्ष
Dr Rajiv
"मेरी मसरूफ़ियत
*Author प्रणय प्रभात*
अर्थहीन
अर्थहीन
Shyam Sundar Subramanian
गंदा हो रहा।
गंदा हो रहा।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
फूलों में मकरंद (कुंडलिया)
फूलों में मकरंद (कुंडलिया)
Ravi Prakash
Loading...