Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Mar 2023 · 1 min read

तुमसे ज्यादा और किसको, यहाँ प्यार हम करेंगे

तुमसे ज्यादा और किसको, यहाँ प्यार हम करेंगे।
तुम्हारे सिवा और किसको, यहाँ याद हम करेंगे।।
तुमसे ज्यादा और किसको——————।।

ख्याल और किसी का,आता नहीं है दिल में।
तेरा ही चेहरा बसा है, इन आँखों और दिल में।।
चाहेगा हमको कोई अगर, बात मगर तेरी हम करेंगे।
तुमसे ज्यादा और किसको—————–।।

देखों तुम इन खतों को, इनमें किया है जिक्र किसका।
यह जो चमन महका है, दिया है इसको नाम किसका।।
देखना तुम कभी भी, तुझमें ही खोये हम मिलेंगे।
तुमसे ज्यादा और किसको—————–।।

दोस्त तुम खुशनसीब हो, दिल ने चाहा है तुमको।
अपनी खुशी और सपनें, सिर्फ बनाया है तुमको।।
अपनी वसीहत में सब कुछ, तेरे ही नाम हम करेंगे।
तुमसे ज्यादा और किसको——————।।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
186 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ਹਾਸਿਆਂ ਵਿਚ ਲੁਕੇ ਦਰਦ
ਹਾਸਿਆਂ ਵਿਚ ਲੁਕੇ ਦਰਦ
Surinder blackpen
संभल जाओ, करता हूँ आगाह ज़रा
संभल जाओ, करता हूँ आगाह ज़रा
Buddha Prakash
2725.*पूर्णिका*
2725.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सोच~
सोच~
दिनेश एल० "जैहिंद"
प्यार में ही तकरार होती हैं।
प्यार में ही तकरार होती हैं।
Neeraj Agarwal
हिन्द की भाषा
हिन्द की भाषा
Sandeep Pande
चंद्रकक्षा में भेज रहें हैं।
चंद्रकक्षा में भेज रहें हैं।
Aruna Dogra Sharma
'अकेलापन'
'अकेलापन'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
भरत
भरत
Sanjay ' शून्य'
* किसे बताएं *
* किसे बताएं *
surenderpal vaidya
कभी - कभी सोचता है दिल कि पूछूँ उसकी माँ से,
कभी - कभी सोचता है दिल कि पूछूँ उसकी माँ से,
Madhuyanka Raj
मे कोई समस्या नहीं जिसका
मे कोई समस्या नहीं जिसका
Ranjeet kumar patre
नन्हा मछुआरा
नन्हा मछुआरा
Shivkumar barman
विषय -परिवार
विषय -परिवार
Nanki Patre
जिंदगी में पराया कोई नहीं होता,
जिंदगी में पराया कोई नहीं होता,
नेताम आर सी
चरित्र साफ शब्दों में कहें तो आपके मस्तिष्क में समाहित विचार
चरित्र साफ शब्दों में कहें तो आपके मस्तिष्क में समाहित विचार
Rj Anand Prajapati
विषम परिस्थियां
विषम परिस्थियां
Dr fauzia Naseem shad
इश्क
इश्क
SUNIL kumar
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
प्रेम
प्रेम
Acharya Rama Nand Mandal
🙅घनघोर विकास🙅
🙅घनघोर विकास🙅
*Author प्रणय प्रभात*
प्रथम नमन मात पिता ने, गौरी सुत गजानन काव्य में बैगा पधारजो
प्रथम नमन मात पिता ने, गौरी सुत गजानन काव्य में बैगा पधारजो
Anil chobisa
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
अदाकारी
अदाकारी
Suryakant Dwivedi
"ये कविता ही है"
Dr. Kishan tandon kranti
कान्हा मेरे जैसे छोटे से गोपाल
कान्हा मेरे जैसे छोटे से गोपाल
Harminder Kaur
💐प्रेम कौतुक-522💐
💐प्रेम कौतुक-522💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरी रातों की नींद क्यों चुराते हो
मेरी रातों की नींद क्यों चुराते हो
Ram Krishan Rastogi
रहे हरदम यही मंजर
रहे हरदम यही मंजर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मत खोलो मेरी जिंदगी की किताब
मत खोलो मेरी जिंदगी की किताब
Adarsh Awasthi
Loading...