Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 May 2022 · 1 min read

तुमसे कोई शिकायत नही

तुम अकेले जिंदगी ही जियो,हमे कोई शिकायत नही।
हमे अपने से शिकायत है,तुमसे कोई शिकायत नही।।

जरूरत पड़ती है,हर इन्सान को हर इन्सान से।
हो सकता है अब तुम्हे,मेरी कोई जरूरत नही।।

बगावत तुमने ही की थी,मैने कभी भी नहीं की।
चलो छोड़ो इन बातो को,अब कोई शिकायत नही।।

मोहब्बत के लिए जरूरी नही किसी की इजाजत ले।
मोहब्बत को इजाजत लेनी पड़े फिर कोई मोहब्बत नही।।

लिखता है रस्तोगी सच्चाई हमेशा अपनी कलम से।
झूठ लिखने की मुझे भी कभी कोई आदत नही।।

आर के रस्तोगी गुरुग्राम

9 Likes · 9 Comments · 665 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ram Krishan Rastogi
View all
You may also like:
कोई दरिया से गहरा है
कोई दरिया से गहरा है
कवि दीपक बवेजा
यादों का सफ़र...
यादों का सफ़र...
Santosh Soni
मजदूर
मजदूर
Preeti Sharma Aseem
क्या कहा, मेरी तरह जीने की हसरत है तुम्हे
क्या कहा, मेरी तरह जीने की हसरत है तुम्हे
Vishal babu (vishu)
संवेदना
संवेदना
Ekta chitrangini
मेरा वजूद क्या है
मेरा वजूद क्या है
भरत कुमार सोलंकी
डॉ. नामवर सिंह की आलोचना के प्रपंच
डॉ. नामवर सिंह की आलोचना के प्रपंच
कवि रमेशराज
जिस सनातन छत्र ने, किया दुष्टों को माप
जिस सनातन छत्र ने, किया दुष्टों को माप
Vishnu Prasad 'panchotiya'
बिल्ली की तो हुई सगाई
बिल्ली की तो हुई सगाई
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
” सबको गीत सुनाना है “
” सबको गीत सुनाना है “
DrLakshman Jha Parimal
शब्द
शब्द
Madhavi Srivastava
सभी गम दर्द में मां सबको आंचल में छुपाती है।
सभी गम दर्द में मां सबको आंचल में छुपाती है।
सत्य कुमार प्रेमी
थोड़ी मोहब्बत तो उसे भी रही होगी हमसे
थोड़ी मोहब्बत तो उसे भी रही होगी हमसे
शेखर सिंह
कब तक बचोगी तुम
कब तक बचोगी तुम
Basant Bhagawan Roy
तुम
तुम
इंजी. संजय श्रीवास्तव
चंचल मन
चंचल मन
उमेश बैरवा
मैं किताब हूँ
मैं किताब हूँ
Arti Bhadauria
"जाम"
Dr. Kishan tandon kranti
दुनिया में अधिकांश लोग
दुनिया में अधिकांश लोग
*Author प्रणय प्रभात*
चंचल मन***चंचल मन***
चंचल मन***चंचल मन***
Dinesh Kumar Gangwar
खिलेंगे फूल राहों में
खिलेंगे फूल राहों में
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मैं तो महज एक माँ हूँ
मैं तो महज एक माँ हूँ
VINOD CHAUHAN
प्यार के बारे में क्या?
प्यार के बारे में क्या?
Otteri Selvakumar
चिंगारी बन लड़ा नहीं जो
चिंगारी बन लड़ा नहीं जो
AJAY AMITABH SUMAN
Hard To Love
Hard To Love
Vedha Singh
24/240. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/240. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सांसों से आईने पर क्या लिखते हो।
सांसों से आईने पर क्या लिखते हो।
Taj Mohammad
*मनकहताआगेचल*
*मनकहताआगेचल*
Dr. Priya Gupta
नर्क स्वर्ग
नर्क स्वर्ग
Bodhisatva kastooriya
मनोहन
मनोहन
Seema gupta,Alwar
Loading...