Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Feb 2023 · 1 min read

तुमने देखा ही नहीं

तुमने देखा ही नहीं मेरी आंख की उदासी को।
नैन छलकते तो देखे,न देखा रूह प्यासी को।

कितनी रातें मैं जागी,कितनी रातें न सोयी मै
कभी न तू जान सका,तुम बिन कितना रोयी मैं।

दिल के दर्द न समझा तू, मैं भी रह गई मौन
था तू मीत मेरे मन का,तुम बिन समझे कौन।

छोड़ के जब जाना ही था,काहे रखी तूने प्रीत
बेवफाई करना तो , इश्क की नहीं है रीत।

सुरिंदर कौर

Language: Hindi
174 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Surinder blackpen
View all
You may also like:
न जाने क्या ज़माना चाहता है
न जाने क्या ज़माना चाहता है
Dr. Alpana Suhasini
होता अगर पैसा पास हमारे
होता अगर पैसा पास हमारे
gurudeenverma198
चाहता हूं
चाहता हूं
Er. Sanjay Shrivastava
पिछले पन्ने भाग 2
पिछले पन्ने भाग 2
Paras Nath Jha
🚩🚩 कृतिकार का परिचय/
🚩🚩 कृतिकार का परिचय/ "पं बृजेश कुमार नायक" का परिचय
Pt. Brajesh Kumar Nayak
05/05/2024
05/05/2024
Satyaveer vaishnav
जब सूरज एक महीने आकाश में ठहर गया, चलना भूल गया! / Pawan Prajapati
जब सूरज एक महीने आकाश में ठहर गया, चलना भूल गया! / Pawan Prajapati
Dr MusafiR BaithA
जीवनसाथी
जीवनसाथी
Rajni kapoor
*अद्वितीय गुणगान*
*अद्वितीय गुणगान*
Dushyant Kumar
आँखें दरिया-सागर-झील नहीं,
आँखें दरिया-सागर-झील नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
The Profound Impact of Artificial Intelligence on Human Life
The Profound Impact of Artificial Intelligence on Human Life
Shyam Sundar Subramanian
नृत्य किसी भी गीत और संस्कृति के बोल पर आधारित भावना से ओतप्
नृत्य किसी भी गीत और संस्कृति के बोल पर आधारित भावना से ओतप्
Rj Anand Prajapati
दोस्ती पर वार्तालाप (मित्रता की परिभाषा)
दोस्ती पर वार्तालाप (मित्रता की परिभाषा)
Er.Navaneet R Shandily
किसी राह पे मिल भी जाओ मुसाफ़िर बन के,
किसी राह पे मिल भी जाओ मुसाफ़िर बन के,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
ख़ुद को हमारी नज़रों में तलाशते हैं,
ख़ुद को हमारी नज़रों में तलाशते हैं,
ओसमणी साहू 'ओश'
छुपा है सदियों का दर्द दिल के अंदर कैसा
छुपा है सदियों का दर्द दिल के अंदर कैसा
VINOD CHAUHAN
3287.*पूर्णिका*
3287.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*कागज़ की कश्ती*
*कागज़ की कश्ती*
sudhir kumar
एक नयी रीत
एक नयी रीत
Harish Chandra Pande
*मंज़िल पथिक और माध्यम*
*मंज़िल पथिक और माध्यम*
Lokesh Singh
श्रीराम वन में
श्रीराम वन में
नवीन जोशी 'नवल'
रिश्ते
रिश्ते
Mamta Rani
मेरे लिखने से भला क्या होगा कोई पढ़ने वाला तो चाहिए
मेरे लिखने से भला क्या होगा कोई पढ़ने वाला तो चाहिए
DrLakshman Jha Parimal
सोचता हूँ रोज लिखूँ कुछ नया,
सोचता हूँ रोज लिखूँ कुछ नया,
Dr. Man Mohan Krishna
वक्त कि ये चाल अजब है,
वक्त कि ये चाल अजब है,
SPK Sachin Lodhi
"विजेता"
Dr. Kishan tandon kranti
दुआ सलाम
दुआ सलाम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Wakt ke girewan ko khich kar
Wakt ke girewan ko khich kar
Sakshi Tripathi
जीवन की परिभाषा क्या ?
जीवन की परिभाषा क्या ?
Dr fauzia Naseem shad
ये न सोच के मुझे बस जरा -जरा पता है
ये न सोच के मुझे बस जरा -जरा पता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Loading...