Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Nov 2022 · 1 min read

तुमको पाकर जानें हम अधूरे क्यों हैं

ख़्वाहिश झूठी ख्वाब अधूरे क्यों हैं
तुमको पाकर जानें हम अधूरे क्यों हैं

तुमसे मिलकर भी अजनबी हैं हुए
मेरे हमराज मेरे हमदम अधूरे क्यों हैं

नहीं सजती मेरे दिल की महफिल
दिल के ये साज सनम अधूरे क्यों हैं

हम कहाँ जाँए हमको हँसाने वाले
मेरी हँसी की कसम हम अधूरे क्यों हैं

‘विनोद’ बता दे जरा खता हमको
तुझमें खोकर भी हम अधूरे क्यों हैं

3 Likes · 194 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
प्रकृति भी तो शांत मुस्कुराती रहती है
प्रकृति भी तो शांत मुस्कुराती रहती है
ruby kumari
■ चाह खत्म तो राह खत्म।
■ चाह खत्म तो राह खत्म।
*Author प्रणय प्रभात*
Wakt ke pahredar
Wakt ke pahredar
Sakshi Tripathi
परिवार होना चाहिए
परिवार होना चाहिए
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
उम्मीद
उम्मीद
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
रिश्ता ये प्यार का
रिश्ता ये प्यार का
Mamta Rani
महिलाएं जितना तेजी से रो सकती है उतना ही तेजी से अपने भावनाओ
महिलाएं जितना तेजी से रो सकती है उतना ही तेजी से अपने भावनाओ
Rj Anand Prajapati
मेरा भी कुछ लिखने का मन करता है,
मेरा भी कुछ लिखने का मन करता है,
डॉ. दीपक मेवाती
बाबा साहेब अम्बेडकर / मुसाफ़िर बैठा
बाबा साहेब अम्बेडकर / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
सिंदूर 🌹
सिंदूर 🌹
Ranjeet kumar patre
आज हमने सोचा
आज हमने सोचा
shabina. Naaz
कैसे भुला दूँ उस भूलने वाले को मैं,
कैसे भुला दूँ उस भूलने वाले को मैं,
Vishal babu (vishu)
मैंने फत्ते से कहा
मैंने फत्ते से कहा
Satish Srijan
*करो योग-व्यायाम, दाल-रोटी नित खाओ (कुंडलिया)*
*करो योग-व्यायाम, दाल-रोटी नित खाओ (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
* गीत कोई *
* गीत कोई *
surenderpal vaidya
मुकेश का दीवाने
मुकेश का दीवाने
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*ईर्ष्या भरम *
*ईर्ष्या भरम *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अब क्या बताएँ छूटे हैं कितने कहाँ पर हम ग़ायब हुए हैं खुद ही
अब क्या बताएँ छूटे हैं कितने कहाँ पर हम ग़ायब हुए हैं खुद ही
Neelam Sharma
रंग ही रंगमंच के किरदार है
रंग ही रंगमंच के किरदार है
Neeraj Agarwal
2651.पूर्णिका
2651.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बुश का बुर्का
बुश का बुर्का
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
बात सीधी थी
बात सीधी थी
Dheerja Sharma
नीरज…
नीरज…
Mahendra singh kiroula
उम्र के हर एक पड़ाव की तस्वीर क़ैद कर लेना
उम्र के हर एक पड़ाव की तस्वीर क़ैद कर लेना
'अशांत' शेखर
ବାତ୍ୟା ସ୍ଥିତି
ବାତ୍ୟା ସ୍ଥିତି
Otteri Selvakumar
कविता (आओ तुम )
कविता (आओ तुम )
Sangeeta Beniwal
"वर्तमान"
Dr. Kishan tandon kranti
अमीर
अमीर
Punam Pande
अब तो ख़िलाफ़े ज़ुल्म ज़ुबाँ खोलिये मियाँ
अब तो ख़िलाफ़े ज़ुल्म ज़ुबाँ खोलिये मियाँ
Sarfaraz Ahmed Aasee
हसरतों की भी एक उम्र होनी चाहिए।
हसरतों की भी एक उम्र होनी चाहिए।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
Loading...