Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 May 2022 · 1 min read

तुझे वो कबूल क्यों नहीं हो मैं हूं

तेरे दिल में है कि… मैं तुझ जैसा बनूं…
पर मैं वो क्यों बनूं जो तुझे चाहिए
आखिर तुझे वो कबूल क्यों नहीं जो मैं हूं …!!
– कृष्ण सिंह

Language: Hindi
2 Likes · 299 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Almost everyone regard this world as a battlefield and this
Almost everyone regard this world as a battlefield and this
नव लेखिका
कुछ लोग प्रेम देते हैं..
कुछ लोग प्रेम देते हैं..
पूर्वार्थ
सपने
सपने
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
संस्कृति वर्चस्व और प्रतिरोध
संस्कृति वर्चस्व और प्रतिरोध
Shashi Dhar Kumar
"तुम नूतन इतिहास लिखो "
DrLakshman Jha Parimal
चांद बहुत रोया
चांद बहुत रोया
Surinder blackpen
लक्ष्य
लक्ष्य
Suraj Mehra
*हर शाम निहारूँ मै*
*हर शाम निहारूँ मै*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
हिंदी दोहा -रथ
हिंदी दोहा -रथ
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Bieng a father,
Bieng a father,
Satish Srijan
#गुरू#
#गुरू#
rubichetanshukla 781
■ एक महीन सच्चाई।।
■ एक महीन सच्चाई।।
*Author प्रणय प्रभात*
अपनी पहचान को
अपनी पहचान को
Dr fauzia Naseem shad
मां का हृदय
मां का हृदय
Dr. Pradeep Kumar Sharma
💐रामायणं तापस-प्रकरणं....💐
💐रामायणं तापस-प्रकरणं....💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अभी नहीं पूछो मुझसे यह बात तुम
अभी नहीं पूछो मुझसे यह बात तुम
gurudeenverma198
खुद की तलाश
खुद की तलाश
Madhavi Srivastava
मैं तो अंहकार आँव
मैं तो अंहकार आँव
Lakhan Yadav
अजदहा बनके आया मोबाइल
अजदहा बनके आया मोबाइल
Anis Shah
दोहा त्रयी. . .
दोहा त्रयी. . .
sushil sarna
सुनो जीतू,
सुनो जीतू,
Jitendra kumar
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
याद - दीपक नीलपदम्
याद - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मां के आंचल में कुछ ऐसी अजमत रही।
मां के आंचल में कुछ ऐसी अजमत रही।
सत्य कुमार प्रेमी
सर-ए-बाजार पीते हो...
सर-ए-बाजार पीते हो...
आकाश महेशपुरी
*जादू – टोना : वैज्ञानिक समीकरण*
*जादू – टोना : वैज्ञानिक समीकरण*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*कष्ट दो प्रभु इस तरह से,पाप सारे दूर हों【हिंदी गजल/गीतिका】*
*कष्ट दो प्रभु इस तरह से,पाप सारे दूर हों【हिंदी गजल/गीतिका】*
Ravi Prakash
बलिदान
बलिदान
लक्ष्मी सिंह
नफ़रत कि आग में यहां, सब लोग जल रहे,
नफ़रत कि आग में यहां, सब लोग जल रहे,
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
*नन्हीं सी गौरिया*
*नन्हीं सी गौरिया*
Shashi kala vyas
Loading...