Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Mar 2024 · 1 min read

तुझे याद करता हूँ क्या तुम भी मुझे याद करती हो

तुझे याद करता हूँ क्या तुम भी मुझे याद करती हो
मै तो तुम्हारा था और तुम्हारा हीं हूं क्या तुम किसी और की बन गई
अहसास करना मुझे मै तुम्हारे सपने मे नही हकीकत मे नजर आऊंगा
तेरे साथ गुजरे हर दिन मै अब ताजा कराऊंगा तू भी मुझे हर रोज याद करती हो क्यु मुझे अहसास कर पागल मुझे बनाती हों

100 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कविता तुम से
कविता तुम से
Awadhesh Singh
मुकद्दर से ज्यादा
मुकद्दर से ज्यादा
rajesh Purohit
नारी जागरूकता
नारी जागरूकता
Kanchan Khanna
3133.*पूर्णिका*
3133.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
यह तो अब तुम ही जानो
यह तो अब तुम ही जानो
gurudeenverma198
खुशियाँ
खुशियाँ
विजय कुमार अग्रवाल
डीएनए की गवाही
डीएनए की गवाही
अभिनव अदम्य
मैं तेरी हो गयी
मैं तेरी हो गयी
Adha Deshwal
जन्म से मरन तक का सफर
जन्म से मरन तक का सफर
Vandna Thakur
Whenever things got rough, instinct led me to head home,
Whenever things got rough, instinct led me to head home,
Manisha Manjari
■ समय के साथ सब बदलता है। कहावतें भी। एक उदाहरण-
■ समय के साथ सब बदलता है। कहावतें भी। एक उदाहरण-
*प्रणय प्रभात*
#खुलीबात
#खुलीबात
DrLakshman Jha Parimal
सनातन संस्कृति
सनातन संस्कृति
Bodhisatva kastooriya
जिंदगी के रंगमंच में हम सभी किरदार है
जिंदगी के रंगमंच में हम सभी किरदार है
Neeraj Agarwal
वतन में रहने वाले ही वतन को बेचा करते
वतन में रहने वाले ही वतन को बेचा करते
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
दस्तक
दस्तक
Satish Srijan
*एक अखंड मनुजता के स्वर, अग्रसेन भगवान हैं (गीत)*
*एक अखंड मनुजता के स्वर, अग्रसेन भगवान हैं (गीत)*
Ravi Prakash
खोया है हरेक इंसान
खोया है हरेक इंसान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"मूलमंत्र"
Dr. Kishan tandon kranti
खेल भावनाओं से खेलो, जीवन भी है खेल रे
खेल भावनाओं से खेलो, जीवन भी है खेल रे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कहने को बाकी क्या रह गया
कहने को बाकी क्या रह गया
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
ईश्वर कहो या खुदा
ईश्वर कहो या खुदा
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
मुझे ‘शराफ़त’ के तराजू पर न तोला जाए
मुझे ‘शराफ़त’ के तराजू पर न तोला जाए
Keshav kishor Kumar
अहसास तेरे होने का
अहसास तेरे होने का
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
हिन्दू जागरण गीत
हिन्दू जागरण गीत
मनोज कर्ण
किसी को अपने संघर्ष की दास्तान नहीं
किसी को अपने संघर्ष की दास्तान नहीं
Jay Dewangan
भय के द्वारा ही सदा, शोषण सबका होय
भय के द्वारा ही सदा, शोषण सबका होय
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
भारत के वीर जवान
भारत के वीर जवान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
आपको देखते ही मेरे निगाहें आप पर आके थम जाते हैं
आपको देखते ही मेरे निगाहें आप पर आके थम जाते हैं
Sukoon
Loading...