Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Sep 2022 · 1 min read

तुझे मतलूब थी वो रातें कभी

दीवारों के कान निकले थे
वो सब सुन लिया था, मेरे इश्क के बातें कभी
तुझे दिल के उजाला में पाए न
तुझे मतलूब थी वो रातें कभी

मेरी निगाहें कितनी रेत में थी
फासले राहों से कम लगता था
जागी न तू कभी मेरे ख्यालों में
मैं तन्हा आफताब लगता था

जोरों से अफ़वाए थी
तेरे और मेरे दर्मियाँ
मैं क्या करता, इस तनहाई के सफ़र में
जो होती गई दूरियाँ

मैं लिपटे रहे अंधेरों के साथ
तेरी रोशनी के पैर नहीं थे
तुम मिल न सकें अपने मकानों से आकर
क्योंकि कोई ग़ैर नहीं थे।

कैसे शरार बनी मेरी राते
पता भी नहीं चला, बुझाओगे क्या?
मैं तड़पता रहा दर्द के मारे
उसको ठंडक तुम पहुँचाओगे क्या?

मैं गया था कभी तेरी चौखट पे
तुझसे ही मिलने , पर कोई जवाब न पाया
तुझे मतलूब थी वो रातें कभी
जो मुझमें तू न कभी हो पाया!!

1 Like · 301 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तेरा मेरा वो मिलन अब है कहानी की तरह।
तेरा मेरा वो मिलन अब है कहानी की तरह।
सत्य कुमार प्रेमी
मोदी ही क्यों??
मोदी ही क्यों??
गुमनाम 'बाबा'
2480.पूर्णिका
2480.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
झिलमिल झिलमिल रोशनी का पर्व है
झिलमिल झिलमिल रोशनी का पर्व है
Neeraj Agarwal
आई आंधी ले गई, सबके यहां मचान।
आई आंधी ले गई, सबके यहां मचान।
Suryakant Dwivedi
आशिकी
आशिकी
साहिल
जाग गया है हिन्दुस्तान
जाग गया है हिन्दुस्तान
Bodhisatva kastooriya
आवाज़
आवाज़
Adha Deshwal
बदनाम से
बदनाम से
विजय कुमार नामदेव
मेरी दोस्ती के लायक कोई यार नही
मेरी दोस्ती के लायक कोई यार नही
Rituraj shivem verma
छोड दो उनको उन के हाल पे.......अब
छोड दो उनको उन के हाल पे.......अब
shabina. Naaz
सरकार हैं हम
सरकार हैं हम
pravin sharma
गैर का होकर जिया
गैर का होकर जिया
Dr. Sunita Singh
सुहासिनी की शादी
सुहासिनी की शादी
विजय कुमार अग्रवाल
दोहावली
दोहावली
Prakash Chandra
*सबसे मस्त नोट सौ वाला, चिंता से अनजान (गीत)*
*सबसे मस्त नोट सौ वाला, चिंता से अनजान (गीत)*
Ravi Prakash
Love
Love
Kanchan Khanna
वह मुस्कुराते हुए पल मुस्कुराते
वह मुस्कुराते हुए पल मुस्कुराते
goutam shaw
दोस्ती एक पवित्र बंधन
दोस्ती एक पवित्र बंधन
AMRESH KUMAR VERMA
राधा अब्बो से हां कर दअ...
राधा अब्बो से हां कर दअ...
Shekhar Chandra Mitra
बहुत ख्वाहिश थी ख्वाहिशों को पूरा करने की
बहुत ख्वाहिश थी ख्वाहिशों को पूरा करने की
VINOD CHAUHAN
मन नहीं होता
मन नहीं होता
Surinder blackpen
यूं ही कह दिया
यूं ही कह दिया
Koमल कुmari
मत मन को कर तू उदास
मत मन को कर तू उदास
gurudeenverma198
केहिकी करैं बुराई भइया,
केहिकी करैं बुराई भइया,
Kaushal Kumar Pandey आस
आलस मेरी मोहब्बत है
आलस मेरी मोहब्बत है
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
उनका शौक़ हैं मोहब्बत के अल्फ़ाज़ पढ़ना !
उनका शौक़ हैं मोहब्बत के अल्फ़ाज़ पढ़ना !
शेखर सिंह
■ ज़रूरत है बहाने की। करेंगे वही जो करना है।।
■ ज़रूरत है बहाने की। करेंगे वही जो करना है।।
*प्रणय प्रभात*
आओ बैठो पियो पानी🌿🇮🇳🌷
आओ बैठो पियो पानी🌿🇮🇳🌷
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
चूल्हे की रोटी
चूल्हे की रोटी
प्रीतम श्रावस्तवी
Loading...