Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 May 2024 · 1 min read

गुरुर

तुझसे मिलना खुद पर गुरुर
करने के लिए काफी है।
✍️लक्ष्मी वर्मा ‘प्रतीक्षा’

Language: Hindi
1 Like · 44 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
विधाता छंद (28 मात्रा ) मापनी युक्त मात्रिक
विधाता छंद (28 मात्रा ) मापनी युक्त मात्रिक
Subhash Singhai
"प्यासा" "के गजल"
Vijay kumar Pandey
कर रहे हैं वंदना
कर रहे हैं वंदना
surenderpal vaidya
गिरमिटिया मजदूर
गिरमिटिया मजदूर
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
#लघुकथा-
#लघुकथा-
*प्रणय प्रभात*
चारु
चारु
NEW UPDATE
किस-किस को समझाओगे
किस-किस को समझाओगे
शिव प्रताप लोधी
चुनावी घनाक्षरी
चुनावी घनाक्षरी
Suryakant Dwivedi
बिखरा ख़ज़ाना
बिखरा ख़ज़ाना
Amrita Shukla
जब किसी कार्य को करने में आपकी रुचि के साथ कौशल का भी संगम ह
जब किसी कार्य को करने में आपकी रुचि के साथ कौशल का भी संगम ह
Paras Nath Jha
সেই আপেল
সেই আপেল
Otteri Selvakumar
माना की देशकाल, परिस्थितियाँ बदलेंगी,
माना की देशकाल, परिस्थितियाँ बदलेंगी,
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
चुनाव में मीडिया की भूमिका: राकेश देवडे़ बिरसावादी
चुनाव में मीडिया की भूमिका: राकेश देवडे़ बिरसावादी
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
इंतजार करना है।
इंतजार करना है।
Anil chobisa
*मेरा वोट मेरा अधिकार (दोहे)*
*मेरा वोट मेरा अधिकार (दोहे)*
Rituraj shivem verma
प्यारी ननद - कहानी
प्यारी ननद - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
यकीं के बाम पे ...
यकीं के बाम पे ...
sushil sarna
तू बस झूम…
तू बस झूम…
Rekha Drolia
2675.*पूर्णिका*
2675.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मैं महकती यादों का गुलदस्ता रखता हूँ
मैं महकती यादों का गुलदस्ता रखता हूँ
VINOD CHAUHAN
डबूले वाली चाय
डबूले वाली चाय
Shyam Sundar Subramanian
मुकाबला करना ही जरूरी नहीं......
मुकाबला करना ही जरूरी नहीं......
shabina. Naaz
Kohre ki bunde chhat chuki hai,
Kohre ki bunde chhat chuki hai,
Sakshi Tripathi
सावन भादों
सावन भादों
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
फूल को,कलियों को,तोड़ना पड़ा
फूल को,कलियों को,तोड़ना पड़ा
कवि दीपक बवेजा
कदम रोक लो, लड़खड़ाने लगे यदि।
कदम रोक लो, लड़खड़ाने लगे यदि।
Sanjay ' शून्य'
पहचान ही क्या
पहचान ही क्या
Swami Ganganiya
पीते हैं आओ चलें , चलकर कप-भर चाय (कुंडलिया)
पीते हैं आओ चलें , चलकर कप-भर चाय (कुंडलिया)
Ravi Prakash
अमर स्वाधीनता सैनानी डॉ. राजेन्द्र प्रसाद
अमर स्वाधीनता सैनानी डॉ. राजेन्द्र प्रसाद
कवि रमेशराज
कर ही बैठे हैं हम खता देखो
कर ही बैठे हैं हम खता देखो
Dr Archana Gupta
Loading...