Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Apr 2023 · 1 min read

तुझसे कुछ नहीं चाहिये ए जिन्दगीं

तुझसे कुछ नहीं चाहिये ए जिन्दगीं
बस इस काबिल बना दे
कि पाने वाले को कद्र हों
और खोने वाले को अफसोस!!
💙💚💛🧡💜💝
Jay-dewangan

220 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"हवा भरे ग़ुब्बारों"
*Author प्रणय प्रभात*
डर - कहानी
डर - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
वक्त
वक्त
Shyam Sundar Subramanian
"शहीद साथी"
Lohit Tamta
- मोहब्बत महंगी और फरेब धोखे सस्ते हो गए -
- मोहब्बत महंगी और फरेब धोखे सस्ते हो गए -
bharat gehlot
* नव जागरण *
* नव जागरण *
surenderpal vaidya
All your thoughts and
All your thoughts and
Dhriti Mishra
घमंड
घमंड
Ranjeet kumar patre
प्यार का बँटवारा
प्यार का बँटवारा
Rajni kapoor
धिक्कार
धिक्कार
Shekhar Chandra Mitra
1-	“जब सांझ ढले तुम आती हो “
1- “जब सांझ ढले तुम आती हो “
Dilip Kumar
आप वही करें जिससे आपको प्रसन्नता मिलती है।
आप वही करें जिससे आपको प्रसन्नता मिलती है।
लक्ष्मी सिंह
कुछ समझ में ही नहीं आता कि मैं अब क्या करूँ ।
कुछ समझ में ही नहीं आता कि मैं अब क्या करूँ ।
Neelam Sharma
🌹🙏🌹🙏🌹🙏🌹
🌹🙏🌹🙏🌹🙏🌹
Dr Shweta sood
यूं ही हमारी दोस्ती का सिलसिला रहे।
यूं ही हमारी दोस्ती का सिलसिला रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
"सुप्रभात "
Yogendra Chaturwedi
बदलते चेहरे हैं
बदलते चेहरे हैं
Dr fauzia Naseem shad
Ahsas tujhe bhi hai
Ahsas tujhe bhi hai
Sakshi Tripathi
विनती
विनती
Saraswati Bajpai
3273.*पूर्णिका*
3273.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
थकावट दूर करने की सबसे बड़ी दवा चेहरे पर खिली मुस्कुराहट है।
थकावट दूर करने की सबसे बड़ी दवा चेहरे पर खिली मुस्कुराहट है।
Rj Anand Prajapati
*
*"नरसिंह अवतार"*
Shashi kala vyas
*जिंदगी*
*जिंदगी*
Harminder Kaur
लोग गर्व से कहते हैं मै मर्द का बच्चा हूँ
लोग गर्व से कहते हैं मै मर्द का बच्चा हूँ
शेखर सिंह
बेटियां एक सहस
बेटियां एक सहस
Tarun Singh Pawar
*आदमी यह सोचता है, मैं अमर हूॅं मैं अजर (हिंदी गजल)*
*आदमी यह सोचता है, मैं अमर हूॅं मैं अजर (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
दोहे
दोहे
Santosh Soni
चन्दा लिए हुए नहीं,
चन्दा लिए हुए नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बिन चाहें तेरे गले का हार क्यों बनना
बिन चाहें तेरे गले का हार क्यों बनना
Keshav kishor Kumar
मायापुर यात्रा की झलक
मायापुर यात्रा की झलक
Pooja Singh
Loading...