Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jul 2021 · 1 min read

— तीसरी लहर का खौफ्फ़ ? —

फिर से शुरू होने लगा
सिलसिला कोरोना के खौफ्फ़ का
तीसरी लहर का डरावना मंजर
शोर मचाने लगा अपने जोर का !!

दुनिया ही देती है दावत
इस बीमारी को बुलाने की
क्या जरुरत है सब जगह
बेवजह की भीड़ लगाने की !!

जरा सा ढीला हुआ सब कुछ
बेहिसाब से हिल स्टेशन जाने लगे
होटल फूल, पर्यटक स्थल फूल
सड़कों पर गाड़ियाँ फिर फ़साने लगे !!

जब तक नही होगी सावधानियां
होती रहेंगी दुनिया में ऐसी हानियाँ
जागरूकता का साथ पकड़ के चलो
आती रहेंगी कितनी लहरें बेशक
फिर नहीं होंगी बेमौत की निशानियाँ !!

अजीत कुमार तलवार
मेरठ

Language: Hindi
1 Like · 210 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
View all
You may also like:
बोलो बोलो हर हर महादेव बोलो
बोलो बोलो हर हर महादेव बोलो
gurudeenverma198
इंसान से हिंदू मैं हुआ,
इंसान से हिंदू मैं हुआ,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
सबने हाथ भी छोड़ दिया
सबने हाथ भी छोड़ दिया
Shweta Soni
जिन्दगी की पाठशाला
जिन्दगी की पाठशाला
Ashokatv
रोशनी की शिकस्त में आकर अंधेरा खुद को खो देता है
रोशनी की शिकस्त में आकर अंधेरा खुद को खो देता है
कवि दीपक बवेजा
गुलाब दिवस ( रोज डे )🌹
गुलाब दिवस ( रोज डे )🌹
Surya Barman
*अभिनंदनों के गीत जिनके, मंच पर सब गा रहे (हिंदी गजल/गीतिका)
*अभिनंदनों के गीत जिनके, मंच पर सब गा रहे (हिंदी गजल/गीतिका)
Ravi Prakash
अब जीत हार की मुझे कोई परवाह भी नहीं ,
अब जीत हार की मुझे कोई परवाह भी नहीं ,
गुप्तरत्न
सच कहना जूठ कहने से थोड़ा मुश्किल होता है, क्योंकि इसे कहने म
सच कहना जूठ कहने से थोड़ा मुश्किल होता है, क्योंकि इसे कहने म
ruby kumari
*नशा तेरे प्यार का है छाया अब तक*
*नशा तेरे प्यार का है छाया अब तक*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
एतबार
एतबार
Davina Amar Thakral
नारी के चरित्र पर
नारी के चरित्र पर
Dr fauzia Naseem shad
"तेरा साथ है तो"
Dr. Kishan tandon kranti
हुनर से गद्दारी
हुनर से गद्दारी
भरत कुमार सोलंकी
कभी वाकमाल चीज था, अभी नाचीज हूँ
कभी वाकमाल चीज था, अभी नाचीज हूँ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
आप आज शासक हैं
आप आज शासक हैं
DrLakshman Jha Parimal
ख्वाबों के रेल में
ख्वाबों के रेल में
Ritu Verma
3053.*पूर्णिका*
3053.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रामलला के विग्रह की जब, भव में प्राण प्रतिष्ठा होगी।
रामलला के विग्रह की जब, भव में प्राण प्रतिष्ठा होगी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
ये दुनिया बाजार है
ये दुनिया बाजार है
नेताम आर सी
बाद मुद्दत के हम मिल रहे हैं
बाद मुद्दत के हम मिल रहे हैं
Dr Archana Gupta
दोस्ती का कर्ज
दोस्ती का कर्ज
Dr. Pradeep Kumar Sharma
लें दे कर इंतज़ार रह गया
लें दे कर इंतज़ार रह गया
Manoj Mahato
■ ज़रूरत है बहाने की। करेंगे वही जो करना है।।
■ ज़रूरत है बहाने की। करेंगे वही जो करना है।।
*प्रणय प्रभात*
नशा
नशा
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
ज़रूरी ना समझा
ज़रूरी ना समझा
Madhuyanka Raj
ରାତ୍ରିର ବିଳାପ
ରାତ୍ରିର ବିଳାପ
Bidyadhar Mantry
भुलाया ना जा सकेगा ये प्रेम
भुलाया ना जा सकेगा ये प्रेम
The_dk_poetry
मां का घर
मां का घर
नूरफातिमा खातून नूरी
लहू जिगर से बहा फिर
लहू जिगर से बहा फिर
Shivkumar Bilagrami
Loading...