Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jan 2023 · 1 min read

तीन दोहे

हारी पुस्तक पोथियां,जीत गया हथियार।
ब्यर्थ तपस्या प्रेम का, ढूंढ रहा पतवार।।१।

कविता रोटी दे नही, फिर भी कविता गान।
कवि का कैसा रोग यह, करता नित हैरान।।२।

“प्यासा”प्यासा क्यों हुये,पूछ रहे सब लोग।
प्यास भरी यह जिन्दगी, कौन बतावे रोग।।३।
–“प्यासा”

Language: Hindi
1 Like · 168 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्रेरणा
प्रेरणा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अजनबी !!!
अजनबी !!!
Shaily
'विडम्बना'
'विडम्बना'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
जिस आँगन में बिटिया चहके।
जिस आँगन में बिटिया चहके।
लक्ष्मी सिंह
डाकू आ सांसद फूलन देवी।
डाकू आ सांसद फूलन देवी।
Acharya Rama Nand Mandal
समलैंगिकता-एक मनोविकार
समलैंगिकता-एक मनोविकार
मनोज कर्ण
ख़ुद से ख़ुद को
ख़ुद से ख़ुद को
Akash Yadav
कजरी
कजरी
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
[ पुनर्जन्म एक ध्रुव सत्य ] अध्याय २.
[ पुनर्जन्म एक ध्रुव सत्य ] अध्याय २.
Pravesh Shinde
*प्यार भी अजीब है (शिव छंद )*
*प्यार भी अजीब है (शिव छंद )*
Rituraj shivem verma
कस्ती धीरे-धीरे चल रही है
कस्ती धीरे-धीरे चल रही है
कवि दीपक बवेजा
*मन का समंदर*
*मन का समंदर*
Sûrëkhâ Rãthí
*उड़न-खटोले की तरह, चला चंद्रमा-यान (कुंडलिया)*
*उड़न-खटोले की तरह, चला चंद्रमा-यान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
रिश्ते..
रिश्ते..
हिमांशु Kulshrestha
रोजी रोटी के क्या दाने
रोजी रोटी के क्या दाने
AJAY AMITABH SUMAN
परिश्रम
परिश्रम
ओंकार मिश्र
आज के माहौल में
आज के माहौल में
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
💐प्रेम कौतुक-425💐
💐प्रेम कौतुक-425💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
উত্তর দাও পাহাড়
উত্তর দাও পাহাড়
Arghyadeep Chakraborty
प्रकृति की गोद खेल रहे हैं प्राणी
प्रकृति की गोद खेल रहे हैं प्राणी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
स्वयं से करे प्यार
स्वयं से करे प्यार
Dr fauzia Naseem shad
कस्तूरी इत्र
कस्तूरी इत्र
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
श्रेष्ठ भावना
श्रेष्ठ भावना
Raju Gajbhiye
आज बहुत दिनों के बाद आपके साथ
आज बहुत दिनों के बाद आपके साथ
डा गजैसिह कर्दम
काले दिन ( समीक्षा)
काले दिन ( समीक्षा)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
हालात बदलेंगे या नही ये तो बाद की बात है, उससे पहले कुछ अहम
हालात बदलेंगे या नही ये तो बाद की बात है, उससे पहले कुछ अहम
पूर्वार्थ
नर्क स्वर्ग
नर्क स्वर्ग
Bodhisatva kastooriya
ओ साथी ओ !
ओ साथी ओ !
Buddha Prakash
बचपन से जिनकी आवाज सुनकर बड़े हुए
बचपन से जिनकी आवाज सुनकर बड़े हुए
ओनिका सेतिया 'अनु '
रखे हों पास में लड्डू, न ललचाए मगर रसना।
रखे हों पास में लड्डू, न ललचाए मगर रसना।
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...