Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jan 2023 · 1 min read

तिल,गुड़ और पतंग

तिल,गुड़ और पतंग की रिवाज है
लुभाती बहुत ये सभी को आज है
तिल,गुड़…………….
छोटे-बड़े ये सब चाव से खाते हैं
लेकर पतंग छत पर चढ़ जाते हैं
तिल,गुड़…………….
चारों तरफ यूँ पतंगबाजी होती है
दिलों में भी खुशमिजाजी होती है
तिल,गुड़……………..
तिल और गुड़ के मिष्ठान खाते हैं
गले मिल के सब बैर भूल जाते हैं
तिल,गुड़……………..
कवि कल्पना की उड़ान भरते हैं
“विनोद” वे उम्दा रचना करते हैं
तिल,गुड़……………..

स्वरचित
( V9द चौहान )

2 Likes · 605 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
फिर से जीने की एक उम्मीद जगी है
फिर से जीने की एक उम्मीद जगी है "कश्यप"।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
अगर प्रेम है
अगर प्रेम है
हिमांशु Kulshrestha
इंसानियत का कत्ल
इंसानियत का कत्ल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Just try
Just try
पूर्वार्थ
फिर कब आएगी ...........
फिर कब आएगी ...........
SATPAL CHAUHAN
प्यार हमें
प्यार हमें
SHAMA PARVEEN
काव्य में अलौकिकत्व
काव्य में अलौकिकत्व
कवि रमेशराज
सबने सलाह दी यही मुॅंह बंद रखो तुम।
सबने सलाह दी यही मुॅंह बंद रखो तुम।
सत्य कुमार प्रेमी
भरोसा टूटने की कोई आवाज नहीं होती मगर
भरोसा टूटने की कोई आवाज नहीं होती मगर
Radhakishan R. Mundhra
"कलम की अभिलाषा"
Yogendra Chaturwedi
*** सागर की लहरें....! ***
*** सागर की लहरें....! ***
VEDANTA PATEL
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
प्रेम की साधना (एक सच्ची प्रेमकथा पर आधारित)
प्रेम की साधना (एक सच्ची प्रेमकथा पर आधारित)
गुमनाम 'बाबा'
"लाजिमी"
Dr. Kishan tandon kranti
आँख खुलते ही हमे उसकी सख़्त ज़रूरत होती है
आँख खुलते ही हमे उसकी सख़्त ज़रूरत होती है
KAJAL NAGAR
बच्चा जो पैदा करें, पहले पूछो आय ( कुंडलिया)
बच्चा जो पैदा करें, पहले पूछो आय ( कुंडलिया)
Ravi Prakash
2604.पूर्णिका
2604.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
राह हमारे विद्यालय की
राह हमारे विद्यालय की
bhandari lokesh
स्त्री चेतन
स्त्री चेतन
Astuti Kumari
वक्त की नज़ाकत और सामने वाले की शराफ़त,
वक्त की नज़ाकत और सामने वाले की शराफ़त,
ओसमणी साहू 'ओश'
बनें जुगनू अँधेरों में सफ़र आसान हो जाए
बनें जुगनू अँधेरों में सफ़र आसान हो जाए
आर.एस. 'प्रीतम'
झूठ न इतना बोलिए
झूठ न इतना बोलिए
Paras Nath Jha
माँ ....लघु कथा
माँ ....लघु कथा
sushil sarna
#प्रेरक_प्रसंग-
#प्रेरक_प्रसंग-
*प्रणय प्रभात*
वो सब खुश नसीब है
वो सब खुश नसीब है
शिव प्रताप लोधी
नमन उस वीर को शत-शत...
नमन उस वीर को शत-शत...
डॉ.सीमा अग्रवाल
अकेला गया था मैं
अकेला गया था मैं
Surinder blackpen
मोबाइल भक्ति
मोबाइल भक्ति
Satish Srijan
एक संदेश बुनकरों के नाम
एक संदेश बुनकरों के नाम
Dr.Nisha Wadhwa
विश्व कविता दिवस
विश्व कविता दिवस
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
Loading...