Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Mar 2024 · 1 min read

तिरस्कार,घृणा,उपहास और राजनीति से प्रेरित कविता लिखने से अपन

तिरस्कार,घृणा,उपहास और राजनीति से प्रेरित कविता लिखने से अपनी
ऊर्जा को हम क्यों नष्ट करें ? अनेवाले कल में यह प्रासंगिक नहीं रह जाती है ! @परिमल

122 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
उनकी ख्यालों की बारिश का भी,
उनकी ख्यालों की बारिश का भी,
manjula chauhan
गुरु आसाराम बापू
गुरु आसाराम बापू
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
2452.पूर्णिका
2452.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अभी ना करो कोई बात मुहब्बत की
अभी ना करो कोई बात मुहब्बत की
shabina. Naaz
"" *ईश्वर* ""
सुनीलानंद महंत
छोड़ दिया
छोड़ दिया
Srishty Bansal
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मुक्तक
मुक्तक
जगदीश शर्मा सहज
शांति के लिए अगर अन्तिम विकल्प झुकना
शांति के लिए अगर अन्तिम विकल्प झुकना
Paras Nath Jha
मन का डर
मन का डर
Aman Sinha
ऐ मोनाल तूॅ आ
ऐ मोनाल तूॅ आ
Mohan Pandey
कोई जिंदगी में यूँ ही आता नहीं
कोई जिंदगी में यूँ ही आता नहीं
VINOD CHAUHAN
#मुक्तक-
#मुक्तक-
*प्रणय प्रभात*
"चाहत " ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
ना भई ना, यह अच्छा नहीं ना
ना भई ना, यह अच्छा नहीं ना
gurudeenverma198
कभी-कभी ऐसा लगता है
कभी-कभी ऐसा लगता है
Suryakant Dwivedi
आंखों से अश्क बह चले
आंखों से अश्क बह चले
Shivkumar Bilagrami
"ईश्वर की गति"
Ashokatv
आज मैया के दर्शन करेंगे
आज मैया के दर्शन करेंगे
Neeraj Mishra " नीर "
जब मैं तुमसे प्रश्न करूँगा,
जब मैं तुमसे प्रश्न करूँगा,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
बंदूक की गोली से,
बंदूक की गोली से,
नेताम आर सी
ये रात है जो तारे की चमक बिखरी हुई सी
ये रात है जो तारे की चमक बिखरी हुई सी
Befikr Lafz
गाँधी जी की लाठी
गाँधी जी की लाठी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
वो पहली पहली मेरी रात थी
वो पहली पहली मेरी रात थी
Ram Krishan Rastogi
इन समंदर का तसव्वुर भी क्या ख़ूब होता है,
इन समंदर का तसव्वुर भी क्या ख़ूब होता है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
पहला अहसास
पहला अहसास
Falendra Sahu
झूठी हमदर्दियां
झूठी हमदर्दियां
Surinder blackpen
रक्त से सीचा मातृभूमि उर,देकर अपनी जान।
रक्त से सीचा मातृभूमि उर,देकर अपनी जान।
Neelam Sharma
हरे! उन्मादिनी कोई हृदय में तान भर देना।
हरे! उन्मादिनी कोई हृदय में तान भर देना।
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
माँ
माँ
Harminder Kaur
Loading...