Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jan 2021 · 1 min read

एक तिरंगा मुझको ला दो

एक तिरंगा मुझको ला दो,
मैं भी इसको फहराऊँगा
नील गगन से ऊँचा जाकर,
पूरे जग में लहराऊँगा

देश हमारा सबसे प्यारा,
इस दुनिया को बतलाऊँगा
विश्व शांति का दूत बनूं मैं,
मानवता को अपनाऊँगा

जन गण मन अधिनायक जय हो,
यह अखण्ड ज्योति जलाऊँगा
सारे जग में भारत माँ की,
गौरव गाथा मैं गाऊँगा

मातृभूमि के रखवालों पर,
मैं अपना शीश झुकाऊँगा
भारत माँ के हर सपनों को,
पूरा मैं कर दिखलाऊँगा
-लक्ष्मी सिंह
नई दिल्ली

1 Comment · 403 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
आ गया है मुस्कुराने का समय।
आ गया है मुस्कुराने का समय।
surenderpal vaidya
दर्पण
दर्पण
Kanchan verma
"बुद्धिमानी"
Dr. Kishan tandon kranti
रमेशराज के मौसमविशेष के बालगीत
रमेशराज के मौसमविशेष के बालगीत
कवि रमेशराज
आकाश भर उजाला,मुट्ठी भरे सितारे
आकाश भर उजाला,मुट्ठी भरे सितारे
Shweta Soni
सुप्रभातं
सुप्रभातं
Dr Archana Gupta
ख़ालीपन
ख़ालीपन
MEENU
तारीफ किसकी करूं
तारीफ किसकी करूं
कवि दीपक बवेजा
" अलबेले से गाँव है "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
शकुनियों ने फैलाया अफवाहों का धुंध
शकुनियों ने फैलाया अफवाहों का धुंध
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
जिस भी समाज में भीष्म को निशस्त्र करने के लिए शकुनियों का प्
जिस भी समाज में भीष्म को निशस्त्र करने के लिए शकुनियों का प्
Sanjay ' शून्य'
होली के कुण्डलिया
होली के कुण्डलिया
Vijay kumar Pandey
आसमाँ .......
आसमाँ .......
sushil sarna
संपूर्ण राममय हुआ देश मन हर्षित भाव विभोर हुआ।
संपूर्ण राममय हुआ देश मन हर्षित भाव विभोर हुआ।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
अधरों को अपने
अधरों को अपने
Dr. Meenakshi Sharma
23/168.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/168.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कारगिल युद्ध फतह दिवस
कारगिल युद्ध फतह दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तू होती तो
तू होती तो
Satish Srijan
I hide my depression,
I hide my depression,
Vandana maurya
चुप रहो
चुप रहो
Sûrëkhâ Rãthí
*मुश्किल है इश्क़ का सफर*
*मुश्किल है इश्क़ का सफर*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हिन्दी की मिठास, हिन्दी की बात,
हिन्दी की मिठास, हिन्दी की बात,
Swara Kumari arya
मां नही भूलती
मां नही भूलती
Anjana banda
कवि का दिल बंजारा है
कवि का दिल बंजारा है
नूरफातिमा खातून नूरी
*दादी ने गोदी में पाली (बाल कविता)*
*दादी ने गोदी में पाली (बाल कविता)*
Ravi Prakash
मन की इच्छा मन पहचाने
मन की इच्छा मन पहचाने
Suryakant Dwivedi
शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक रूप से स्वस्थ्य
शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक रूप से स्वस्थ्य
Dr.Rashmi Mishra
★याद न जाए बीते दिनों की★
★याद न जाए बीते दिनों की★
*Author प्रणय प्रभात*
आपने खो दिया अगर खुद को
आपने खो दिया अगर खुद को
Dr fauzia Naseem shad
मेरी (उनतालीस) कविताएं
मेरी (उनतालीस) कविताएं
श्याम सिंह बिष्ट
Loading...