Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jan 2021 · 1 min read

तिरंगा

विधा:-विधाता छंद

तिरंगा देश का अनुपम,अनोखा है निराला है।
सजा है तीन रंगों से,हृदय में चक्र डाला है।

बसंती रंग सुखदायी, सुशोभित कर रहा माथा।
कथा बलिदान की कहता,सुनाये वीर की गाथा।
जिन्होंने देश की खातिर, चढ़ा दी शीश माला है।
तिरंगा देश का अनुपम,अनोखा है निराला है।

करो तुम स्नेह माटी से,धरा मधुबन बनाना है।
उतर कर स्वर्ग आ जाये,प्रकृति को भी बचाना है।
सुखद है रंग हरियाली,खुशी का एक प्याला है।
तिरंगा देश का अनुपम,अनोखा है निराला है।

रखो तुम शुद्ध तन-मन को,धवल यह ज्ञान देता है।
पहन लो शांति का चोला,यही संधान देता है।
अहिंसा सत्य मानवता,भरे उर में उजाला है।
तिरंगा देश का अनुपम,अनोखा है निराला है।

समय का चक्र कहता है,सदा सत् राह अपनाना।
कठिन है मंजिलें लेकिन, नहीं रुकना नहीं थकना।
पकड़ कर डोर हाथों में,प्रगति पथ को सँभाला है।
तिरंगा देश का अनुपम,अनोखा है निराला है।

तिरंगा शान भारत का,तिरंगा मान भारत का।
कफन है यह शहीदों का,सदा सम्मान भारत का।
करेंगे प्राण न्यौछावर,मगन मन मस्त आला है।
तिरंगा देश का अनुपम,अनोखा है निराला है।
-लक्ष्मी सिंह
नई दिल्ली

3 Likes · 3 Comments · 492 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
आम, नीम, पीपल, बरगद जैसे बड़े पेड़ काटकर..
आम, नीम, पीपल, बरगद जैसे बड़े पेड़ काटकर..
Ranjeet kumar patre
यार ब - नाम - अय्यार
यार ब - नाम - अय्यार
Ramswaroop Dinkar
3-“ये प्रेम कोई बाधा तो नहीं “
3-“ये प्रेम कोई बाधा तो नहीं “
Dilip Kumar
हमने तूफानों में भी दीपक जलते देखा है
हमने तूफानों में भी दीपक जलते देखा है
कवि दीपक बवेजा
Love Night
Love Night
Bidyadhar Mantry
बेपरवाह
बेपरवाह
Omee Bhargava
शायरी - ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
शायरी - ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
सज्जन पुरुष दूसरों से सीखकर
सज्जन पुरुष दूसरों से सीखकर
Bhupendra Rawat
साईकिल दिवस
साईकिल दिवस
Neeraj Agarwal
■ विनम्र निवेदन :--
■ विनम्र निवेदन :--
*प्रणय प्रभात*
2821. *पूर्णिका*
2821. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हर दफ़ा जब बात रिश्तों की आती है तो इतना समझ आ जाता है की ये
हर दफ़ा जब बात रिश्तों की आती है तो इतना समझ आ जाता है की ये
पूर्वार्थ
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आग हूं... आग ही रहने दो।
आग हूं... आग ही रहने दो।
अनिल "आदर्श"
बड़ा सुंदर समागम है, अयोध्या की रियासत में।
बड़ा सुंदर समागम है, अयोध्या की रियासत में।
जगदीश शर्मा सहज
"यादें"
Yogendra Chaturwedi
मेरी जिंदगी में जख्म लिखे हैं बहुत
मेरी जिंदगी में जख्म लिखे हैं बहुत
Dr. Man Mohan Krishna
बीन अधीन फणीश।
बीन अधीन फणीश।
Neelam Sharma
*चंद्रयान ने छू लिया, दक्षिण ध्रुव में चॉंद*
*चंद्रयान ने छू लिया, दक्षिण ध्रुव में चॉंद*
Ravi Prakash
कभी-कभी
कभी-कभी
Sûrëkhâ
शिक्षक दिवस
शिक्षक दिवस
नूरफातिमा खातून नूरी
मैं कविता लिखता हूँ तुम कविता बनाती हो
मैं कविता लिखता हूँ तुम कविता बनाती हो
Awadhesh Singh
दवा और दुआ में इतना फर्क है कि-
दवा और दुआ में इतना फर्क है कि-
संतोष बरमैया जय
"इच्छा"
Dr. Kishan tandon kranti
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
देवा श्री गणेशा
देवा श्री गणेशा
Mukesh Kumar Sonkar
//एहसास//
//एहसास//
AVINASH (Avi...) MEHRA
कब टूटा है
कब टूटा है
sushil sarna
मैं तन्हाई में, ऐसा करता हूँ
मैं तन्हाई में, ऐसा करता हूँ
gurudeenverma198
जिनकी बातों मे दम हुआ करता है
जिनकी बातों मे दम हुआ करता है
शेखर सिंह
Loading...