Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jun 2023 · 1 min read

*तितली (बाल कविता)*

तितली (बाल कविता)

तितली फोटो नहीं खिंचाती
खींचो तो झट से उड़ जाती
सोच रही है छू मत देना
छूकर प्राणों को मत लेना
नाजुक तन की कहलाती है
छूने से घबरा जाती है

रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

479 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
आक्रोश - कहानी
आक्रोश - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
🌷 सावन तभी सुहावन लागे 🌷
🌷 सावन तभी सुहावन लागे 🌷
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
"चिन्तन का कोना"
Dr. Kishan tandon kranti
मन को जो भी जीत सकेंगे
मन को जो भी जीत सकेंगे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
संस्कारों की पाठशाला
संस्कारों की पाठशाला
Dr. Pradeep Kumar Sharma
!! प्रेम बारिश !!
!! प्रेम बारिश !!
The_dk_poetry
...
...
*प्रणय प्रभात*
☄️💤 यादें 💤☄️
☄️💤 यादें 💤☄️
Dr Manju Saini
वफा से वफादारो को पहचानो
वफा से वफादारो को पहचानो
goutam shaw
दुम कुत्ते की कब हुई,
दुम कुत्ते की कब हुई,
sushil sarna
हरितालिका तीज
हरितालिका तीज
Mukesh Kumar Sonkar
When the destination,
When the destination,
Dhriti Mishra
डॉक्टर्स
डॉक्टर्स
Neeraj Agarwal
कहाँ चल दिये तुम, अकेला छोड़कर
कहाँ चल दिये तुम, अकेला छोड़कर
gurudeenverma198
गुलों पर छा गई है फिर नई रंगत
गुलों पर छा गई है फिर नई रंगत "कश्यप"।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
24/231. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/231. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अस्त हुआ रवि वीत राग का /
अस्त हुआ रवि वीत राग का /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
शराफत नहीं अच्छी
शराफत नहीं अच्छी
VINOD CHAUHAN
हम कितने आँसू पीते हैं।
हम कितने आँसू पीते हैं।
Anil Mishra Prahari
पूर्वोत्तर के भूले-बिसरे चित्र (समीक्षा)
पूर्वोत्तर के भूले-बिसरे चित्र (समीक्षा)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
संतुष्टि
संतुष्टि
Dr. Rajeev Jain
है कुछ पर कुछ बताया जा रहा है।।
है कुछ पर कुछ बताया जा रहा है।।
सत्य कुमार प्रेमी
Even the most lovable, emotional person gets exhausted if it
Even the most lovable, emotional person gets exhausted if it
पूर्वार्थ
*बीमारी सबसे बुरी, तन को करे कबाड़* (कुंडलिया)
*बीमारी सबसे बुरी, तन को करे कबाड़* (कुंडलिया)
Ravi Prakash
कुर्सी
कुर्सी
Bodhisatva kastooriya
अगर मैं अपनी बात कहूँ
अगर मैं अपनी बात कहूँ
ruby kumari
तेरे दिदार
तेरे दिदार
SHAMA PARVEEN
*छाया कैसा  नशा है कैसा ये जादू*
*छाया कैसा नशा है कैसा ये जादू*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
एक नयी रीत
एक नयी रीत
Harish Chandra Pande
आजकल अकेले में बैठकर रोना पड़ रहा है
आजकल अकेले में बैठकर रोना पड़ रहा है
Keshav kishor Kumar
Loading...