Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jan 2023 · 1 min read

तार वीणा का हृदय में

गीत…95

तार वीणा का हृदय में अब बजा तो दीजिए।
भावना से युक्त भावों को सजा तो दीजिए।।

अक्षरों के नाद से झंकृत सभी ध्वनियाँ करें।
आचरण में सत्यता सद्भाव को हर जन धरें।।
आवरण ये व्यंजना का कुछ हटा तो दीजिए।
भावना से युक्त भावों को सजा तो दीजिए।।

बढ़ रही जो ग्रंथियाँ दूषित यहाँ पर लोभ से।
जल रहा अन्तस् हमारा है इसी के क्षोभ से।।
मालिका संवेद की मन में बसा तो दीजिए।
भावना से युक्त भावों को सजा तो दीजिए।।

डर रही जो चेतना है दुर्गुणों के मान से।
जीत सकते हैं इसे हम सत्यता के ज्ञान से।।
है जरूरी दीप को दर्पण बना तो दीजिए।
भावना से युक्त भावों को सजा तो दीजिए।।

पुष्प खुशियों को सहेजे बाग में खिलते रहें।
एकता सद्भावना से हाथ हर मिलते रहें।।
क्षुद्रता के अंशुकों को अब जला तो दीजिए।
भावना से युक्त भावों को सजा तो दीजिए।।

तार वीणा का हृदय में अब बजा तो दीजिए।
भावना से युक्त भावों को सजा तो दीजिए।।

डाॅ. राजेन्द्र सिंह ‘राही’
(बस्ती उ. प्र.)

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 162 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नेपालीको गर्व(Pride of Nepal)
नेपालीको गर्व(Pride of Nepal)
Sidhartha Mishra
आपकी खुशी
आपकी खुशी
Dr fauzia Naseem shad
रूकतापुर...
रूकतापुर...
Shashi Dhar Kumar
आदमी से आदमी..
आदमी से आदमी..
Vijay kumar Pandey
"श्रृंगार रस के दोहे"
लक्ष्मीकान्त शर्मा 'रुद्र'
पतग की परिणीति
पतग की परिणीति
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
हकमारी
हकमारी
Shekhar Chandra Mitra
🌱मैं कल न रहूँ...🌱
🌱मैं कल न रहूँ...🌱
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
#मैथिली_हाइकु
#मैथिली_हाइकु
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
मंदिर की नींव रखी, मुखिया अयोध्या धाम।
मंदिर की नींव रखी, मुखिया अयोध्या धाम।
विजय कुमार नामदेव
Shabdo ko adhro par rakh ke dekh
Shabdo ko adhro par rakh ke dekh
Sakshi Tripathi
"दहलीज"
Ekta chitrangini
इंसानियत
इंसानियत
Neeraj Agarwal
कुछ तुम कहो जी, कुछ हम कहेंगे
कुछ तुम कहो जी, कुछ हम कहेंगे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शिक्षक दिवस
शिक्षक दिवस
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
"ओस की बूंद"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
जिंदगी के कुछ चैप्टर ऐसे होते हैं,
जिंदगी के कुछ चैप्टर ऐसे होते हैं,
Vishal babu (vishu)
🥀✍अज्ञानी की 🥀
🥀✍अज्ञानी की 🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मनभाते क्या घाट हैं, सुंदरतम ब्रजघाट (कुंडलिया)
मनभाते क्या घाट हैं, सुंदरतम ब्रजघाट (कुंडलिया)
Ravi Prakash
मां का प्यार पाने प्रभु धरा पर आते है♥️
मां का प्यार पाने प्रभु धरा पर आते है♥️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हो रही है भोर अनुपम देखिए।
हो रही है भोर अनुपम देखिए।
surenderpal vaidya
ऋतुराज (घनाक्षरी )
ऋतुराज (घनाक्षरी )
डॉक्टर रागिनी
धर्म खतरे में है.. का अर्थ
धर्म खतरे में है.. का अर्थ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
उल्फ़त का  आगाज़ हैं, आँखों के अल्फाज़ ।
उल्फ़त का आगाज़ हैं, आँखों के अल्फाज़ ।
sushil sarna
माणुष
माणुष
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
"जलाओ दीप घंटा भी बजाओ याद पर रखना
आर.एस. 'प्रीतम'
कहीं ख्वाब रह गया कहीं अरमान रह गया
कहीं ख्वाब रह गया कहीं अरमान रह गया
VINOD CHAUHAN
#लघुकथा / #विरक्त
#लघुकथा / #विरक्त
*Author प्रणय प्रभात*
तुम याद आ रहे हो।
तुम याद आ रहे हो।
Taj Mohammad
तेवरी
तेवरी
कवि रमेशराज
Loading...