Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 May 2024 · 1 min read

ताप संताप के दोहे. . . .

ताप संताप के दोहे. . . .

आई गर्मी ताप में , विहग ढूँढते छाँव ।
शहर भरा कंक्रीट से, वृक्षहीन हैं गाँव ।।
कहाँ टिकाएं पाँव ।

हुए भयंकर ताप में , जीव सभी हैरान ।
पेड़ कटे छाया मिटी , राह लगे सुनसान ।।

सूरज अपने ताप का, देख जरा संताप।
हरियाली को दे दिया, तूने जैसे श्राप ।।

भानु रशिम कर रही, कैसा तांडव आज।
वसुधा की काया फटी,ठूंठ बने सरताज।।

वसुंधरा का हो गया, देखो कैसा रूप।
हरियाली को खा गई, भानु तेरी धूप।।

सुशील सरना / 20-5-24

44 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चौकड़िया छंद के प्रमुख नियम
चौकड़िया छंद के प्रमुख नियम
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
गांव की सैर
गांव की सैर
जगदीश लववंशी
#कृतज्ञतापूर्ण_नमन
#कृतज्ञतापूर्ण_नमन
*प्रणय प्रभात*
कौन नहीं है...?
कौन नहीं है...?
Srishty Bansal
कदमों में बिखर जाए।
कदमों में बिखर जाए।
लक्ष्मी सिंह
खालीपन
खालीपन
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
महाकाल हैं
महाकाल हैं
Ramji Tiwari
अपने घर में हूँ मैं बे मकां की तरह मेरी हालत है उर्दू ज़बां की की तरह
अपने घर में हूँ मैं बे मकां की तरह मेरी हालत है उर्दू ज़बां की की तरह
Sarfaraz Ahmed Aasee
गरिबी र अन्याय
गरिबी र अन्याय
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
2538.पूर्णिका
2538.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ईमानदार  बनना
ईमानदार बनना
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
तितली रानी
तितली रानी
Vishnu Prasad 'panchotiya'
युवा भारत को जानो
युवा भारत को जानो
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सन्मति औ विवेक का कोष
सन्मति औ विवेक का कोष
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
इस दुनिया के रंगमंच का परदा आखिर कब गिरेगा ,
इस दुनिया के रंगमंच का परदा आखिर कब गिरेगा ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
सच तो ये भी है
सच तो ये भी है
शेखर सिंह
मेरे कान्हा
मेरे कान्हा
umesh mehra
शिवांश को जन्म दिवस की बधाई
शिवांश को जन्म दिवस की बधाई
विक्रम कुमार
*जीवन के संघर्षों में कुछ, पाया है कुछ खोया है (हिंदी गजल)*
*जीवन के संघर्षों में कुछ, पाया है कुछ खोया है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
शिलालेख पर लिख दिए, हमने भी कुछ नाम।
शिलालेख पर लिख दिए, हमने भी कुछ नाम।
Suryakant Dwivedi
"चलना सीखो"
Dr. Kishan tandon kranti
किस्मत की टुकड़ियाँ रुकीं थीं जिस रस्ते पर
किस्मत की टुकड़ियाँ रुकीं थीं जिस रस्ते पर
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सच जानते हैं फिर भी अनजान बनते हैं
सच जानते हैं फिर भी अनजान बनते हैं
Sonam Puneet Dubey
यह जीवन भूल भूलैया है
यह जीवन भूल भूलैया है
VINOD CHAUHAN
नसीहत
नसीहत
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
शब्द अभिव्यंजना
शब्द अभिव्यंजना
Neelam Sharma
महाकाल भोले भंडारी|
महाकाल भोले भंडारी|
Vedha Singh
राह दिखा दो मेरे भगवन
राह दिखा दो मेरे भगवन
Buddha Prakash
नमामि राम की नगरी, नमामि राम की महिमा।
नमामि राम की नगरी, नमामि राम की महिमा।
डॉ.सीमा अग्रवाल
हिन्दीग़ज़ल में कितनी ग़ज़ल? -रमेशराज
हिन्दीग़ज़ल में कितनी ग़ज़ल? -रमेशराज
कवि रमेशराज
Loading...