Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Feb 2017 · 1 min read

तब खुद को मैंने समझाया ।

नवगीत।तब खुद को मैंने समझाया।।

यह जीवन है इक पगड़न्ड़ी काली रात घनेरी ।
खुद की मानो भरो हौशला कभी करो न देरी ।।
हर सिक्का वह
खोटा निकला
जिसपर मैंने दाँव लगाया ।।
तब खुद को मैंने समझाया।।

धुंधले होंगे भाग्य तुम्हारे टिमटिम करते तारे ।
दूर दूर तक रहे चाँदनी है दुःख के उजियारे ।।
छाया फैली
सम्मोहन की
पग पग पर जिसने उलझाया ।।
तब खुद को मैंने समझाया ।।

झूठी होगी आश्वाशन में पली हुई लोलुपता ।
झूठे होंगे रिस्तो की वो अगम पिपासी क्षुधता।।
सिर्फ अकेले
हल करना था
एक पहेली सा सुलझाया ।
तब खुद को मैंने समझाया ।।

जीवन नौकाजग अथाह सागर तट फौव्वारे ।
भवरें भी है , गहरी खायीं’ जर्जर है पतवारें ।।
गोताखोर
सरिस है दुश्मन
अवसर पाते नाँव डुबोया ।
तब खुद को मैंने समझाया ।।

अभी वक्त है कोशिस कर लो मंजिल की परवाह ।
प्रबल वेग से बढ़ते रहना तुम सतपथ की राह ।।
उम्र ढली तो
खून के आंशू
न जाने कितनों ने रोया ।
तब खुद को मैंने समझाया ।।

©© राम केश मिश्र

Language: Hindi
Tag: गीत
479 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*श्रम साधक *
*श्रम साधक *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आखिर क्यूं?
आखिर क्यूं?
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
तेरी मीठी बातों का कायल अकेला मैं ही नहीं,
तेरी मीठी बातों का कायल अकेला मैं ही नहीं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
नदी की मुस्कान
नदी की मुस्कान
Satish Srijan
बात सीधी थी
बात सीधी थी
Dheerja Sharma
*** सागर की लहरें....! ***
*** सागर की लहरें....! ***
VEDANTA PATEL
* बेटियां *
* बेटियां *
surenderpal vaidya
कुछ तेज हवाएं है, कुछ बर्फानी गलन!
कुछ तेज हवाएं है, कुछ बर्फानी गलन!
Bodhisatva kastooriya
मोबाइल है हाथ में,
मोबाइल है हाथ में,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ग़ज़ल _ मांगती इंसाफ़ जनता ।
ग़ज़ल _ मांगती इंसाफ़ जनता ।
Neelofar Khan
उदास हो गयी धूप ......
उदास हो गयी धूप ......
sushil sarna
दिल रंज का शिकार है और किस क़दर है आज
दिल रंज का शिकार है और किस क़दर है आज
Sarfaraz Ahmed Aasee
युद्ध
युद्ध
Dr.Priya Soni Khare
चयन
चयन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*माहेश्वर तिवारी जी: शत-शत नमन (कुंडलिया)*
*माहेश्वर तिवारी जी: शत-शत नमन (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जीवन के रूप (कविता संग्रह)
जीवन के रूप (कविता संग्रह)
Pakhi Jain
चुना था हमने जिसे देश के विकास खातिर
चुना था हमने जिसे देश के विकास खातिर
Manoj Mahato
प्रतीक्षा अहिल्या की.......
प्रतीक्षा अहिल्या की.......
पं अंजू पांडेय अश्रु
रमेशराज का हाइकु-शतक
रमेशराज का हाइकु-शतक
कवि रमेशराज
रे ! मेरे मन-मीत !!
रे ! मेरे मन-मीत !!
Ramswaroop Dinkar
सर्दियों की धूप
सर्दियों की धूप
Vandna Thakur
# विचार
# विचार
DrLakshman Jha Parimal
"उल्लास"
Dr. Kishan tandon kranti
स्त्री
स्त्री
Shweta Soni
🙏 गुरु चरणों की धूल 🙏
🙏 गुरु चरणों की धूल 🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
लोग महापुरुषों एवम् बड़ी हस्तियों के छोटे से विचार को भी काफ
लोग महापुरुषों एवम् बड़ी हस्तियों के छोटे से विचार को भी काफ
Rj Anand Prajapati
3356.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3356.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
पिछली भूली बिसरी बातों की बहुत अधिक चर्चा करने का सीधा अर्थ
पिछली भूली बिसरी बातों की बहुत अधिक चर्चा करने का सीधा अर्थ
Paras Nath Jha
.........???
.........???
शेखर सिंह
आज के समय में शादियों की बदलती स्थिति पर चिंता व्यक्त की है।
आज के समय में शादियों की बदलती स्थिति पर चिंता व्यक्त की है।
पूर्वार्थ
Loading...