Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#12 Trending Author

तप रहे हैं प्राण भी / (गर्मी का नवगीत)

गर्मियों में
तपी धरती
तप रहे हैं प्राण भी ।

झकर उतरी जंगलों की
झुलसतीं हैं पत्तियाँ सब,
ठूँठ-से ठाँड़े हैं बिरछा,
सिसकतीं हैं डालियाँ सब ।

लपट लेकर
हवा आती
तप रहे पाषाण भी ।

मर चुकी है काई सारी,
नदी जलती, घाट तपते ।
गैल सूनी पनघटों की,
कुएँ रीते,पाट तपते ।

सुलगती
अमराई छैयाँ,
तप रहे हैं त्राण भी ।

जरफराते पंख कोमल,
किलबिलाते चर-चरेरू ।
तपा खूँटा,गरम रस्सी,
तमतमाते हैं बछेरू ।

अँगीठी-सी
जिन्दगी का
दग्ध है निर्वाण भी ।

गर्मियों में
तपी धरती
तप रहे हैं प्राण भी ।

— ईश्वर दयाल गोस्वामी

6 Likes · 14 Comments · 174 Views
You may also like:
बे-पर्दे का हुस्न।
Taj Mohammad
लिखता जा रहा है वह
gurudeenverma198
मौसम यह मोहब्बत का बड़ा खुशगवार है
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
बुद्धिजीवियों पर हमले
Shekhar Chandra Mitra
करो नहीं किसी का अपमान तुम
gurudeenverma198
नफरत
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
अब सुप्त पड़ी मन की मुरली, यह जीवन मध्य फँसा...
संजीव शुक्ल 'सचिन'
पिता खुशियों का द्वार है।
Taj Mohammad
✍️बचा लेना✍️
'अशांत' शेखर
झुलसता पर्यावरण / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
प्रलयंकारी कोरोना
Shriyansh Gupta
रंगमंच है ये जगत
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"हर घर तिरंगा"देश भक्ती गीत
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
पिता पच्चीसी दोहावली
Subhash Singhai
आरजू
Kanchan Khanna
वजह क्या हो सकती है
gurudeenverma198
इश्क
goutam shaw
मै और तुम ( हास्य व्यंग )
Ram Krishan Rastogi
वक़्त
Mahendra Rai
✍️माय...!✍️
'अशांत' शेखर
*स्मृति डॉ. उर्मिलेश*
Ravi Prakash
बंकिम चन्द्र प्रणाम
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शादी का उत्सव
AMRESH KUMAR VERMA
बेपनाह रूहे मोहब्बत।
Taj Mohammad
दर्द के रिश्ते
Vikas Sharma'Shivaaya'
कभी-कभी / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
^^मृत्यु: अवश्यम्भावी^^
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हरियाली और बंजर
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
भूले बिसरे गीत
RAFI ARUN GAUTAM
देखा जो हुस्ने यार तो दिल भी मचल गया।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...