Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 May 2022 · 1 min read

तप रहे हैं प्राण भी / (गर्मी का नवगीत)

गर्मियों में
तपी धरती
तप रहे हैं प्राण भी ।

झकर उतरी जंगलों की
झुलसतीं हैं पत्तियाँ सब,
ठूँठ-से ठाँड़े हैं बिरछा,
सिसकतीं हैं डालियाँ सब ।

लपट लेकर
हवा आती
तप रहे पाषाण भी ।

मर चुकी है काई सारी,
नदी जलती, घाट तपते ।
गैल सूनी पनघटों की,
कुएँ रीते,पाट तपते ।

सुलगती
अमराई छैयाँ,
तप रहे हैं त्राण भी ।

जरफराते पंख कोमल,
किलबिलाते चर-चरेरू ।
तपा खूँटा,गरम रस्सी,
तमतमाते हैं बछेरू ।

अँगीठी-सी
जिन्दगी का
दग्ध है निर्वाण भी ।

गर्मियों में
तपी धरती
तप रहे हैं प्राण भी ।

— ईश्वर दयाल गोस्वामी

Language: Hindi
Tag: गीत
8 Likes · 16 Comments · 435 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ईश्वर दयाल गोस्वामी
View all
You may also like:
ज़िन्दगी चल नए सफर पर।
ज़िन्दगी चल नए सफर पर।
Taj Mohammad
"भाभी की चूड़ियाँ"
Ekta chitrangini
चश्मे
चश्मे
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
"कुछ तो गुना गुना रही हो"
Lohit Tamta
जब बहुत कुछ होता है कहने को
जब बहुत कुछ होता है कहने को
पूर्वार्थ
मेरी पायल की वो प्यारी सी तुम झंकार जैसे हो,
मेरी पायल की वो प्यारी सी तुम झंकार जैसे हो,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
चुनाव
चुनाव
Lakhan Yadav
बच्चे कहाँ सोयेंगे...???
बच्चे कहाँ सोयेंगे...???
Kanchan Khanna
अचानक जब कभी मुझको हाँ तेरी याद आती है
अचानक जब कभी मुझको हाँ तेरी याद आती है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
मायूस ज़िंदगी
मायूस ज़िंदगी
Ram Babu Mandal
व्यंग्य आपको सिखलाएगा
व्यंग्य आपको सिखलाएगा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मन का जादू
मन का जादू
Otteri Selvakumar
*आओ फिर से याद करें हम, भारत के इतिहास को (हिंदी गजल)*
*आओ फिर से याद करें हम, भारत के इतिहास को (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
दोस्त के शादी
दोस्त के शादी
Shekhar Chandra Mitra
बाल कविता: हाथी की दावत
बाल कविता: हाथी की दावत
Rajesh Kumar Arjun
"ना नौ टन तेल होगा,
*Author प्रणय प्रभात*
जन्नत चाहिए तो जान लगा दे
जन्नत चाहिए तो जान लगा दे
The_dk_poetry
रहे_ ना _रहे _हम सलामत रहे वो,
रहे_ ना _रहे _हम सलामत रहे वो,
कृष्णकांत गुर्जर
हार हूँ
हार हूँ
Satish Srijan
दिव्य दृष्टि बाधित
दिव्य दृष्टि बाधित
Neeraj Agarwal
दोहे
दोहे
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
कुछ लोगो का दिल जीत लिया आकर इस बरसात ने
कुछ लोगो का दिल जीत लिया आकर इस बरसात ने
सिद्धार्थ गोरखपुरी
पुरूषो से निवेदन
पुरूषो से निवेदन
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
छत्तीसगढ़ रत्न (जीवनी पुस्तक)
छत्तीसगढ़ रत्न (जीवनी पुस्तक)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
💐उनके साथ का कुछ असर देखें तो माने💐
💐उनके साथ का कुछ असर देखें तो माने💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हर रिश्ता
हर रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
*जाड़े की भोर*
*जाड़े की भोर*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आया तेरे दर पर बेटा माँ
आया तेरे दर पर बेटा माँ
Basant Bhagawan Roy
अरे ये कौन नेता हैं, न आना बात में इनकी।
अरे ये कौन नेता हैं, न आना बात में इनकी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
शराब खान में
शराब खान में
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
Loading...